scorecardresearch
 

मिथिलांचल पर मोदी मेहरबान, दरभंगा में एयरपोर्ट के बाद AIIMS को मंजूरी, पूरे इलाके को साधने का प्लान

बिहार के मिथिलांचल के दरभंगा पर मोदी सरकार मेहरबान नजर आ रही है. दरभंगा एयरपोर्ट से नवंबर से उड़ान की भी हरी झंडी मिलने के बाद मोदी सरकार ने मंगलवार को दरभंगा में ही अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) को कैबिनेट से मंजूरी दी है. माना जा रहा है कि इन सौगातों के जरिए बीजेपी दरभंगा ही नहीं बल्कि पूरे मिथिलांचल के राजनीतिक समीकरण को साधने की कवायद में है. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दरभंगा प्रमंडल में बीजेपी के पास महज 3 सीटें हैं
  • AIIMS से दरभंगा ही नहीं उत्तर बिहार को सुविधा
  • दरभंगा एयरपोर्ट से छठ पर उड़ाने शुरू हो जाएगी

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक के बाद एक सौगातों से नवाज रहे हैं, जिसका सबसे ज्यादा फायदा मिथिलांचल इलाके को होने जा रहा है. मिथिलांचल के दरभंगा पर मोदी सरकार मेहरबान नजर आ रही है. दरभंगा एयरपोर्ट से नवंबर से उड़ान को  हरी झंडी मिलने के बाद मोदी सरकार ने मंगलवार को दरभंगा में ही अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) को कैबिनेट से मंजूरी दी. इसके अलावा दरभंगा को आईआईएम के सौगात से भी मोदी नवाज सकते हैं. माना जा रहा है कि इन सौगातों के जरिए बीजेपी दरभंगा ही नहीं बल्कि पूरे मिथिलांचल के राजनीतिक समीकरण को साधने की कवायद में है. 

बता दें कि 2015 के चुनाव में दस साल बाद मिथिलांचल की सियासत ने करवट बदली थी. मिथिला की जनता ने पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी को नकारते हुए महागठबंधन को सिर आंखों पर बैठाने का काम किया था. आरजेडी मिथिला में अपनी खोई हुई सियासत को पाने में सफल रही थी जबकि बीजेपी का पूरे इलाके से सफाया हो गया था. 

दरभंगा प्रमंडल की 30 विधानसभा सीटों में से बीजेपी महज 3 सीट ही जीत सकी थी और आरजेडी को 11 और जेडीयू को 12 सीटें मिली थीं. इसके अलावा कांग्रेस को एक और दो सीटें अन्य को मिली थी. हालांकि, इस बार राजनीतिक समीकरण बदल गए हैं और नीतीश कुमार एक बार फिर एनडीए खेमे की अगुवाई कर रहे हैं. इसके बावजूद बीजेपी मिथिलांचल में अपनी सियासी जमीन तैयार करने की कवायद में जुटी है, जिसके तहत दरभंगा को केंद्र सरकार एक के बाद एक सौगात से नवाजती जा रही है ताकि भविष्य में उसके किले में विपक्ष सेंधमारी न कर सके.  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाले केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मंगलवार को बिहार के दरभंगा में 750 बेड के एम्स स्थापना को मंजूरी दे दी है. एम्स को प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना के तहत स्थापित किया जाएगा, जहां ओपीडी के साथ-साथ इमरजेंसी/ट्रॉमा बेड, आईसीयू बेड, आयुष बेड, और स्पेशलिटी व सुपर स्पेशलिटी बेड की सुविधाएं मिल सकेंगी. दरभंगा एम्स के शुरू हो जाने से मिथिलांचल ही नहीं बल्कि उत्तर बिहार के लोगों को इलाज के लिए काफी मदद मिल सकेगी. दरभंगा ही नहीं बल्कि पूरे इलाके के लिए बड़ा तोहफा माना जा रहा है.

केंद्रीय कैबिनेट से एम्स को मंजूरी मिलने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा, 'दरभंगा में एम्स के निर्माण से जहां बिहार के हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूती मिलेगी, वहीं स्वस्थ भारत के संकल्प को भी नया बल मिलेगा. इससे न केवल हेल्थकेयर प्रोफेशनल्स को ट्रेनिंग मिलेगी, बल्कि आसपास के लोगों को रोजगार भी प्राप्त होगा.' 

मिथिलांचल इलाके के लोगों को छठ पर्व पर एक बड़ा तोहफा मिलने जा रहा है. दरभंगा एयरपोर्ट से नवंबर से उड़ान शुरू होने वाली हैं. दिल्ली, मुंबई और बेंगलुरु से आने वाले मिथिलांचल के लोगों को बड़ी सुविधा मिलने वाली है. हाल ही में केंद्रीय उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने दरभंगा एयरपोर्ट का निरीक्षण किया और ऐलान किया कि 30 सितंबर से ही विमानों में बुकिंग शुरू हो जाएगी. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि छठ पर्व को देखते हुए नवंबर से ही उड़ान सेवा शुरू करने का निर्णय लिया गया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें