scorecardresearch
 

दिलीप घोष का विवादित बयान, शरारती लड़के नहीं माने, तो कोच बिहार जैसी घटना हो सकती है

उत्तर 24 परगना जिले के बारानगर में एक कार्यक्रम में बंगाल बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, इन शरारती लड़कों को लगता था कि चुनाव ड्यूटी में लगे केंद्रीय बलों के जवानों ने हाथ में राइफल सिर्फ दिखाने के लिए रखी हैं. सितालकुची की घटना देखने के बाद वो दोबारा ऐसी गलती करने की हिम्मत नहीं करेंगे.

बंगाल बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने ये बयान एक कार्यक्रम में दिया. (फाइल फोटो-PTI) बंगाल बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने ये बयान एक कार्यक्रम में दिया. (फाइल फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष का विवादित बयान
  • घोष बोले- शरारती लड़के ज्यादा समय तक नहीं रहेंगे
  • चेतावनी दी कि ऐसी घटना 5वें फेज में भी हो सकती है

बंगाल बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष के एक बयान पर विवाद शुरू हो गया है. उन्होंने ये बयान पश्चिम बंगाल में चौथे फेज की वोटिंग के दौरान कोच बिहार में हुई हिंसा को लेकर दिया था. दिलीप घोष ने कहा कि अगर शरारती लड़के नहीं मानते हैं और कानून को अपने हाथ में लेते हैं, तो अगले फेज में भी कोच बिहार जैसी घटना हो सकती है. 

दरअसल, 10 अप्रैल को पश्चिम बंगाल की 44 सीटों के लिए वोटिंग हुई. उस दिन कोच बिहार के सितालकुची में हिंसा भड़क गई. इसके बाद केंद्रीय बलों ने गोली चलाई, जिसमें चार लोगों की मौत हो गई. इसी घटना को लेकर दिलीप घोष का बयान सामने आया है.

उत्तर 24 परगना जिले के बारानगर में एक कार्यक्रम में दिलीप घोष ने कहा, "ये शरारती लड़के यहां कहां से आते हैं? इन शरारती लड़कों को सितालकुची में गोलियां मारी गईं. ये लड़के ज्यादा समय तक बंगाल में नहीं रहेंगे. इन शरारती लड़कों को लगता था कि चुनाव ड्यूटी में लगे केंद्रीय बलों के जवानों ने हाथ में राइफल सिर्फ दिखाने के लिए रखी हैं. सितालकुची की घटना देखने के बाद वो दोबारा ऐसी गलती करने की हिम्मत नहीं करेंगे." उन्होंने कहा कि जो कोई भी कानून को अपने हाथ में लेने की हिम्मत करेगा, उसके साथ ऐसा ही होगा. उन्होंने चेतावनी दी कि 5वें फेज में भी ऐसी घटना हो सकती है.

दिलीप घोष यहीं नहीं रुके. उन्होंने आगे कहा, "दीदी (ममता बनर्जी) डर गई हैं. इसलिए वो चुनाव आयोग की नजर में आने के लिए कानून तोड़ने की कोशिश कर रही हैं. वो दिन गए, जब लोग उनसे डरते थे. अब लोग सुबह से लाइन में खड़े हो जाते हैं और अपना वोट डालते हैं." उन्होंने लोगों की तरफ इशारा करते हुए कहा, "मुझे उम्मीद है कि 17 तारीख को आप सुबह से लाइन में लगकर अपना वोट डालेंगे. वहां केंद्रीय बलों के जवान होंगे. कोई आपको नहीं डरा पाएगा. हम वहां रहेंगे. अगर कोई ऐसा करता है, तो आपने देखा कि सितालुकची में क्या हुआ. हर जगह सितालकुची बन जाएगी."

टीएमसी ने घोष की गिरफ्तारी की मांग की
तृणमूल कांग्रेस ने दिलीप घोष को गिरफ्तार करने की मांग की है. टीएमसी नेता सुखेंदु शेखर राय ने कहा, "ये पूरी तरह से भड़काऊ भाषण है. इस तरह के भड़काऊ भाषण और उकसावे वाले भाषण के लिए अधिकारियों को कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए और दिलीप घोष को गिरफ्तार करना चाहिए." 

वहीं, जादवपुर सीट से सीपीएम उम्मीदवार सुजान चक्रवर्ती ने इसे गैरजिम्मेदाराना बयान बताया है. उन्होंने कहा कि इस बयान से बीजेपी का फासीवादी चेहरा सामने आया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें