scorecardresearch
 

अलविदा 2015: दुनिया को हिला देने वाले पांच बड़े हादसे

हर साल अपने साथ बहुत सी ऐसी घटनाएं और हादसे लेकर आता है, जो लोगों के जेहन पर सीधा असर करती हैं. जिन्हें हम आसानी से भूला नहीं पाते. उन हादसों की दहशत और दुख हमेशा लोगों के बीच बना रहता है. साल 2015 में भी ऐसे ही कुछ हादसे हुए जिन्होंने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया. नजर डालते हैं इस साल दुनियाभर में हुए पांच बड़े हादसों पर.

इन हादसों ने पूरी दुनिया को दहलाकर रख दिया इन हादसों ने पूरी दुनिया को दहलाकर रख दिया

हर साल अपने साथ बहुत सी ऐसी घटनाएं और हादसे लेकर आता है, जो लोगों के जेहन पर सीधा असर करती हैं. जिन्हें हम आसानी से भूला नहीं पाते. उन हादसों की दहशत और दुख हमेशा लोगों के बीच बना रहता है. साल 2015 में भी ऐसे ही कुछ हादसे हुए जिन्होंने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया. नजर डालते हैं इस साल दुनियाभर में हुए पांच बड़े हादसों पर.

यह हमला एक पज्ञिका के दफ्तर पर किया गया था

चार्ली एब्दो हमला, पेरिसः 07-01-2015

फ्रांस की राजधानी पेरिस में नए साल का आगाज होते ही अज्ञात बंदूकधारियों ने व्यंग्य-पत्रिका 'चार्ली एब्दो' के दफ्तर पर हमला किया था. हमले में 12 लोगों की मौत हो गई थी. इस हमले में कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे. इस हमले में 9 पत्रकार और 2 पुलिसकर्मी भी मारे गए थे. पत्रिका के संपादक स्टीफन चारबोनियर की भी हमले में मौत हो गई थी. कार्टूनिस्ट कोरीन रे उर्फ 'कोको' उन लोगों में से थे, जिन्होंने बिल्डिंग के भीतर छिपकर अपनी जान बचाई थी. उनका दावा था कि हमलावर सधी हुई फ्रेंच भाषा बोल रहे थे और खुद को अलकायदा का सदस्य बता रहे थे. यह हमला मैगजीन में छपे पैगंबर मुहम्मद के कार्टून से नाराजगी का नतीजा था. पत्रिका काफी समय से अपने कथित 'इस्लाम विरोधी' कंटेंट की वजह से कट्टरपंथियों के निशाने पर थी. इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने ली थी. पुलिस ने दावा किया था कि घटनास्थल पर हमलावरों ने 'हमने पैगबंर का बदला ले लिया' जैसे नारे लगाए थे.

इस भूंकप ने हजारों लोगों की जान ले ली थी

नेपाल भूकम्पः 25-04-2015

नेपाल के लिए यह साल भूकम्प के हमले का साल रहा. 25 अप्रैल के दिन भूकम्प ने नेपाल को हिला कर रख दिया. पड़ोसी देशों में भी भूकम्प के झटके साफ महसूस किए गए. इस भूकम्प की तीव्रता 8.1 मापी गई. भूकम्प का केन्द्र नेपाल से 38 कि.मी. दूर लामजुंग में था. भूकम्प के केन्द्र की गहराई लगभग 15 कि.मी. नीचे थी. इस भूकम्प में कई महत्वपूर्ण प्राचीन ऐतिहासिक मंदिर और अन्य इमारतें बर्बाद हो गईं थी. 1934 के बाद पहली बार नेपाल में इतना प्रचंड तीव्रता वाला भूकम्प आया था. इस भूकम्प में 8000 से ज्यादा लोग मारे गए थे. जबकि 2000 हजार से ज्यादा लोग घायल हो गए थे. इस भूकम् का असर चीन, भारत, बांग्लादेश और पाकिस्तान में भी हुआ था. इस दौरान नेपाल के अलावा चीन, भारत और बांग्लादेश में भी लगभग 250 लोगों की मौत हो गई थी. भूकम्प की वजह से एवरेस्ट पर्वत पर हिमस्खलन हो गया था, जिसमें 17 पर्वतारोहियों की मौत हो गई थी. काठमांडू घाटी में यूनेस्को विश्व धरोहर समेत कई प्राचीन एतिहासिक इमारतों को नुकसान पहुंचा था. 18वीं सदी में निर्मित धरोहर की एक मीनार पूरी तरह से नष्ट हो गयी थी. अकेले इस मीनार के मलबे से 200 से ज्यादा शव निकाले थे.

इस हादसे में कई हज यात्री मारे गए

हज हादसा, मीनाः 24-9-2015

सऊदी अरब में हज यात्रा के बीच मीना में शैतान को कंकड़ी मारने की रस्म के दौरान हुई भगदड़ में कम से कम 717 लोग मारे गए थे. मरने वालों में 14 भारतीय श्रद्धालु भी शामिल थे. इस हादसे में सैंकडों लोग घायल हो गए थे. सालाना हज पर हुई अब तक की यह दूसरी सबसे भीषण त्रासदी थी. इससे पहले 1990 में हुए हादसे में 1,426 लोग मारे गए थे. इस घटना पर दुनिया भर के लोगों ने दुख जताया था. हज यात्रा के दौरान हादसों का एक लंबा इतिहास रहा है. 24 सितंबर का हादसा इसकी एक कड़ी ही कहा जाएगा. बीते 25 साल पर नजर डालें, तो पता चलता है कि हजयात्रा के दौरान होने वाली भगदड़ की घटनाओं में अब तक 2700 से अधिक हज यात्रियों की मौत चुकी है.

इस विमान हादसे में सभी यात्री मारे गए थे

रूसी विमान KGL 9268 हादसा, मिस्रः 31-10-2015

रशियन एयरलाइन मेट्रोजेट की उड़ान संख्या KGL 9268 मिस्र में क्रैश हो गई थी. इस विमान ने मिस्र के शर्मल शेख इंनरनेशनल एयरपोर्ट से रूस के सेंट पीटरबर्ग जाने के लिए उड़ान भरी थी. इस दौरान प्लेन मिस्र के लाल सागर के किनारे मौजूद खूबसूरत एयरपोर्ट पर कुछ देर रूकने के बाद फिर से सेंट पीटरबर्ग जाने के लिए हवा में उड़ने लगा था. टेकऑफ के बाद अगले चंद मिनटों में ही प्लेन करीब 30 हजार फीट की ऊंचाई पर उड़ रहा था. लेकिन ठीक 23 मिनट बाद अचानक प्लेन का संपर्क एयर ट्रैफिक कंट्रोल यानी एटीसी से टूट गया. विमान का आखिरी संपर्क तुर्की एटीसी से हुआ था. उसके बाद इसे साइप्रस के एटीसी के संपर्क मे होना था लेकिन ऐसा नहीं हुआ. इस दौरान विमान के रूट और उससे लगे तमाम एटीसी को खंगाला गया मगर विमान का कोई सुराग नहीं मिला. जहां विमान का संपर्क टूटी था, उन इलाकों की सेना को भी अलर्ट कर दिया गया था. दरअसल, रूसी प्लेन एटीसी से संपर्क खोने के बाद मिस्र में सिनाई की पहाड़ियों में जा गिरा. आसपास की आबादी ने इस प्लेन क्रैश की खबर सरकारी अधिकारियों को दी. मौके पर पहुंचे बचाव दल के सदस्य हवाई जहाज का मलबा देखकर हैरान रह गए क्योंकि मलबा पूरे नौ किलोमीटर के इलाके में बिखरा पड़ा था. विमान के कई टुकड़े गए थे. विमान हादसे के कुछ घंटे बाद ही आईएस ने दावा किया कि रूस के यात्री विमान को उसी ने मार गिराया है.

इस हमले ने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया 

पेरिस हमलाः 13-11-2015

फ्रांस की राजधानी पेरिस 13 नवंबर को एक बार फिर धमाकों से गूंज उठी. यहां एक बड़ा आतंकी हमला हुआ था. गोलीबारी और धमाकों में 150 से ज्यादा लोग मारे गए. पेरिस में आतंकियों ने एक साथ कई जगहों पर हमले किए थे. हिंसक वारदातों के मद्देनजर फ्रांस की सीमा को सील कर दिया गया था. साथ ही पेरिस में इमरजेंसी का ऐलान भी कर दिया गया था. लेकिन सिर्फ ये ही नहीं बल्कि इसी साल कई आतंकी हमलों ने इस देश को हिला कर रखा. इस हमले को जोड़ लें तो इस साल फ्रांस में होने वाला ये छठा आतंकी हमला था. इस आतंकवादी हमले की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट ने ली थी. 13 नवंबर की शाम को फ्रांस की राजधानी पेरिस और उसके उत्तरीय उपनगरीय इलाके सेंट डेनिस में आतंकी हमलों की एक श्रृंखला को अंजाम दिया गया था. जिसमें बड़े पैमाने पर गोलीबारी, आत्मघाती बम विस्फोट किए गए थे. साथ ही लोगों को बंधक बनाया गया था. सबसे घातक हमला 14 नवंबर को बाटाक्लेन थिएटर में हुआ था, जहां हमलावरों ने पुलिस के साथ उलझने से पहले लोगों को बंधक बना रखा था. यहां सबसे ज्यादा 89 की मौत हुई थी. और 80 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे. इस दौरान सात हमलावर भी मारे गए. द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद फ्रांस पर यह सबसे घातक हमला था. 18 नवंबर को हमलों का मास्टरमाइंड बेल्जियम निवासी अब्देल हामिद भी फ्रांसीसी पुलिस के एक छापे में मारा गया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें