scorecardresearch
 

बाइक बोट कंपनी का एडिशनल डायरेक्टर ललित भाटी गिरफ्तार, 50 हजार था इनाम

शातिर ललित भाटी काफी समय से फरार चल रहा था. उसकी गिरफ्तारी पर 50 हजार का इनाम भी घोषित किया गया था. ललित को बीती देर रात यूपी एसटीएफ और ईओडब्ल्यू मेरठ की टीम ने दादरी की शिव नादर यूनिवर्सिटी के पास से गिरफ्तार कर लिया.

यूपी STF और EOW की टीम ने ललित भाटी को गिरफ्तार कर लिया यूपी STF और EOW की टीम ने ललित भाटी को गिरफ्तार कर लिया
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बाइक टैक्सी के नाम पर बड़ा घोटाला
  • करोड़ों रुपये की ठगी का है मामला
  • जेल में बंद है मुख्य आरोपी संजय भाटी

यूपी एसटीएफ की नोएडा यूनिट और आर्थिक अनुसंधान शाखा की संयुक्त टीम ने बाइक बोट घोटाला मामले में फरार चल रहे 50 हजार के इनामी ललित भाटी को गिरफ्तार कर लिया है. पकड़ा गया आरोपी कंपनी में एडिशनल डायरेक्टर के पद पर तैनात था. उस पर हजारों लोगों से बाइक टैक्सी की किश्त के नाम पर ठगी करने का आरोप है. 

शातिर ललित भाटी काफी समय से फरार चल रहा था. उसकी गिरफ्तारी पर 50 हजार का इनाम भी घोषित किया गया था. ललित को बीती देर रात यूपी एसटीएफ और ईओडब्ल्यू मेरठ की टीम ने दादरी की शिव नादर यूनिवर्सिटी के पास से गिरफ्तार कर लिया. इसके बाद उसे दादरी पुलिस के हवाले कर दिया गया. पुलिस ने आरोपी को जेल भेज दिया है.

देखें: आजतक LIVE TV

ललित भाटी मेरठ के मवाना का रहने वाला है. वह बाइक बोट कंपनी में एडिशनल डायरेक्टर के पद पर काम करता था. ललित ने अपने साथियों के साथ मिलकर बाइक बोट कंपनी में बाइक टैक्सी चलवाने के नाम पर हजारों लोगों से करोड़ों रुपये ठग लिए. वो पैसे को दोगुना करने का लालच देकर लोगों को ठगता रहा फिर अचानक कंपनी बंद कर फरार हो गया था. 

इस मामले में ललित भाटी ओर उसके साथियों के खिलाफ दादरी कोतवाली में 56 मुकदमे दर्ज हैं. ठगी कांड का मुख्य आरोपी संजय भाटी पहले ही कोर्ट में सरेंडर कर चुका है. अब वो जेल में बंद है. आरोपी संजय समेत 17 लोग जेल में बंद हैं. अन्य फरार आरोपियों को यूपी एसटीएफ और ईओडब्ल्यू की संयुक्त टीम तलाश रही है.  

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें