scorecardresearch
 

Katihar : RJD प्रत्याशी बोले- ऐसा कोई सगा नहीं जिसको नीतीश ने ठगा नहीं

टिकट मिलने के बाद डॉ रामप्रकाश महतो ने विपक्ष पर जमकर हमला बोला. नीतीश-लालू के काफी करीबी रहे डॉ रामप्रकाश महतो ने बिहार सरकार को संवेदनहीन कहते हुए नीतीश कुमार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि 'ऐसा कोई सगा नहीं, जिसको नीतीश ने ठगा नहीं'. 

कटिहार का सातों विधानसभा में महागठबंधन की होगी जीत. कटिहार का सातों विधानसभा में महागठबंधन की होगी जीत.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कटिहार की सातों विधानसभा में महागठबंधन की होगी जीत
  • लालू यादव को शेरे बिहार कहा, वहीं राबड़ी को अभिभावक
  • आरजेडी पार्टी की तारीफ करते हुए डॉ रामप्रकाश ने नीतीश कुमार पर निशाना साधा

बिहार विधानसभा चुनाव में बयानबाजी का दौर जारी है. कटिहार विधानसभा सीट से आरजेडी प्रत्याशी डॉ रामप्रकाश महतो को टिकट मिला है. वहीं इस सीट से उनकी सीधी टक्कर बीजेपी विधायक तारकिशोर प्रसाद से होगी.

टिकट मिलने के बाद डॉ रामप्रकाश महतो ने विपक्ष पर जमकर हमला बोला. नीतीश-लालू के काफी करीबी रहे डॉ रामप्रकाश महतो ने बिहार सरकार को संवेदनहीन कहते हुए नीतीश कुमार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि 'ऐसा कोई सगा नहीं, जिसको नीतीश ने ठगा नहीं'. 

आरजेडी पार्टी की तारीफ करते हुए डॉ रामप्रकाश ने लालू यादव को शेरे बिहार कहा तो वहीं राबड़ी को अभिभावक बताया. उन्होंने तेजस्वी को बिहार का भविष्य कहा है. डॉ रामप्रकाश ने कहा कि कटिहार की सातों विधानसभा में महागठबंधन की जीत होगी. उन्होंने कहा कि विपक्षी लालू के समय को जंगल राज इसलिए कहते हैं क्योंकि लालू ने शोषित, दलित, वंचित, कमजोर, लाचार और पिछड़ा वर्ग को जुबान दी है.

काफी संघर्ष पूर्ण रहा राजनीतिक जीवन
लालू राबड़ी की सरकार के काल में प्रोफेसर डॉ. राम प्रकाश महतो माध्यमिक शिक्षा राज्य मंत्री रह चुके हैं. डॉ. महतो का राजनीतिक जीवन काफी संघर्ष पूर्ण रहा है. इनकी विधानसभा की राजनीति की शुरुआत 1990 से हुई. उस वक्त कटिहार सदर सीट पर जनता दल से बीजेपी के जगबंधु अधिकारी को हराकर जीत हासिल की थी. 2000 में आरजेडी के टिकट पर फिर से जीत हासिल कर लालू मंत्रिमंडल में माध्यमिक शिक्षा राज्य मंत्री बने. 

लालू ने फिर से 2005 में जीत हासिल की पर सरकार का गठन नहीं हो पाया था और 2005 के अक्टूबर में दुर्भाग्य वश 116 वोट से भाजपा के तारकिशोर प्रसाद से हार गए. 2010 में भी इनके हाथ हार लगी. 2015 में राम प्रकाश महतो ने एनसीपी से अपना भाग्य आजमाया. लेकिन हार ही मिली. तब तक डॉ महतो ने विधायकी से अपना मन बदल लिया और 2014 में जेडीयू पार्टी के टिकट पर कटिहार लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा, लेकिन यहां भी निराशा हाथ आई.
(इनपुट-बिपुल राहुल)

ये भी पढ़ें:

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें