scorecardresearch
 

कोरोना मरीजों की मौत के बाद बचे रेमडेसिविर इंजेक्शन बेच देते थे, दिल्ली पुलिस ने दो मेल नर्स को दबोचा

दिल्ली पुलिस ने महाराजा अग्रसेन अस्पताल के 2 मेल नर्स स्टाफ को गिरफ्तार किया है. ये लोग अस्पताल में इलाज के दौरान मर जाने वाले कोविड मरीजों के बचे हुए रेमेडेसिवर इंजेक्शन को 30 से 40 हजार में बाहर बेच रहे थे.

गिरफ्तार किए गए दोनों आरोपी मेल नर्स गिरफ्तार किए गए दोनों आरोपी मेल नर्स
स्टोरी हाइलाइट्स
  • महाराजा अग्रसेन अस्पताल के 2 मेल नर्स गिरफ्तार
  • कोरोना मरीजों की मौत के बाद बचे इंजेक्शन बेचते थे
  • 5 रेमडेसिवर इंजेक्शन भी बरामद किए गए

देश में कोरोना वायरस के बीच रेमडेसिवर इंजेक्शन की भरी किल्लत है, पूरे देश से रेमेडेसिवर इंजेक्शन की कालाबाजारी की खबरें सामने आ रही हैं. लेकिन ये बात तब और अत्यधिक असंवेदनशील लगती है जब कालाबाजारी करने वाले कोई और नहीं बल्कि मरीजों की देखभाल करने वाले डॉक्टर या नर्स होते हैं. ऐसा ही एक मामला दिल्ली पुलिस ने एक्स्पोज किया है.

दिल्ली पुलिस ने महाराजा अग्रसेन अस्पताल के 2 मेल नर्स स्टाफ को गिरफ्तार किया है. ये लोग अस्पताल में इलाज के दौरान मर जाने वाले कोविड मरीजों के बचे हुए रेमेडेसिवर इंजेक्शन को 30 से 40 हजार में बाहर बेच रहे थे. दिल्ली पुलिस ने इन्हें पकड़ने के लिए जाल बिछाया और दिल्ली की वेस्ट डिस्ट्रिक्ट की स्पेशल स्टाफ ने पंजाबी बाग से दोनों को गिरफ्तार कर लिया. इन दोनों आरोपियों की पहचान धोमन्ती यशवंत (27) और दीपक (28) के तौर पर हुई है. दिल्ली पुलिस ने इनसे 5 रेमडेसिवर इंजेक्शन भी बरामद किए हैं.

दिल्ली पुलिस के मुताबिक सीक्रेट इन्फॉर्मेशन मिली थी कि धोमंती यशवंत नाम का एक शख्स रेमेडेसिवर इंजेक्शन की ब्लैक मार्केटिंग कर रहा है, जिसके बाद वेस्ट दिल्ली की पुलिस टीम ने ब्रिटानिया चौक के पास से धोमंती यशवंत को पकड़ा उसके पास से 2 रेमेडेसिवर इंजेक्शन बरामद किया गया, पूछताछ में धोमंती ने बताया कि वो पंजाबी बाग में बने महाराजा अग्रसेन अस्पताल में नर्स स्टाफ है और अस्पताल के ही एक नर्स स्टाफ दीपक के साथ मिलकर अस्पताल में कोरोना का इलाज करवाने के दौरान मर चुके लोगों बचा हुआ रेमेडेसिवर इंजेक्शन चुराते थे और फिर बाहर जरूरतमंद लोगों को 30 से 40 हजार में बेच देते थे...

धोमंती से पूछताछ के बाद दिल्ली पुलिस ने महाराजा अग्रसेन अस्पताल में रेड करके दीपक को भी गिरफ्तार कर लिया. दीपक की मारुति कार से भी दिल्ली पुलिस ने 3 रेमेडेसिवर इंजेक्शन बरामद किए.

उल्लेखनीय है कि लगातार कोरोना संक्रमण बढ़ने से रेमडेसिवर इंजेक्शन की बाजार में कमी बनी हुई है. कई अस्पताल मरीजों को मजबूर कर रहे हैं कि वे रेमडेसिवर इंजेक्शन का इंतजाम करें, जबकि मार्केट में ये इंजेक्शन मिल ही नहीं रहा, इस कारण इस इंजेक्शन को ऊँचे दामों पर केवल ब्लैकमार्केट में ही खरीदा जा सकता है. यही कारण है कि बीते कुछ दिनों से रेमडेसिवर की कालाबाजारी देखने को मिल रही है.

ऑक्सीजन रेगुलेटर और मास्क की कालाबाजारी
उधर, यूपी में नोएडा के थाना सेक्टर 58 इलाके में पुलिस ने अति आवश्यक हाई प्रेशर डबलगेज ऑक्सीजन रेगुलेटर और ऑक्सीजन मास्क की कालाबाजारी करने वाले एक शातिर शख्स को सी-32, सेक्टर-58 के सामने पार्क के पास से गिरफ्तार कर लिया. उसके कब्जे से 6 हाई प्रेशर डबल गेज ऑक्सीजन रेगुलेटर और 20 ऑक्सीजन मास्क समेत एक कार और 7260 की नकदी बरामद हुई है. आरोपी की पहचान गौरव पुत्र इन्द्राज सिंह निवासी ग्राम पलवाडा, थाना बहादुरगढ़, जिला हापुड़ के तौर पर हुई है.  आरोपी गौरव मोटी कीमत पर हाई प्रेशर डबलगेज ऑक्सीजन रेगुलेटर और ऑक्सीजन मास्क बेच रहा था. पुलिस उससे पूछताछ कर रही है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें