scorecardresearch
 

कोरोना: दिल्ली सरकार ने मांगी सेना की मदद, HC ने केंद्र से जवाब देने को कहा

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना के कारण बिगड़ते हालात के बीच राज्य सरकार ने भारतीय सेना की मदद मांगी है. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को इस बारे में चिट्ठी लिखी है. 

दिल्ली में कोरोना के बिगड़ते हालात के बीच मांगी गई सेना की मदद (फाइल फोटो) दिल्ली में कोरोना के बिगड़ते हालात के बीच मांगी गई सेना की मदद (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिल्ली सरकार ने भारतीय सेना की मदद मांगी
  • मनीष सिसोदिया ने राजनाथ सिंह को चिट्ठी लिखी

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना के कारण बिगड़ते हालात के बीच राज्य सरकार ने भारतीय सेना की मदद मांगी है. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को इस बारे में चिट्ठी लिखी है. 

मनीष सिसोदिया ने राजनाथ सिंह से अपील की है कि दिल्ली में ऑक्सीजन के अधिक से अधिक टैंकर उपलब्ध करवाए जाएं, डीआरडीओ ने जिस तरह का अस्पताल बनाया है, दिल्ली में ऐसे ही और अस्पताल तैयार करवाए जाएं.  

इस अपील से इतर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार दोपहर को एक अहम बैठक बुलाई है. इस बैठक में होम आइसोलेशन को लेकर चर्चा होनी है, बैठक में डिप्टी सीएम समेत अन्य अधिकारी शामिल होंगे.

हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार से जवाब देने को कहा
केंद्र से सेना की मदद मांगने पर दिल्ली सरकार ने हाईकोर्ट को भी सूचना दे दी है. अब दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार से जवाब देने को कहा है. सोमवार को अदालत में केंद्र की ओर से ASG चेतन शर्मा ने कहा है कि वह केंद्र से इसपर निर्देश लेंगे. 

अदालत में सुनवाई के दौरान केंद्र ने बताया कि उनकी कोशिश है कि लोगों को शुरुआती वक्त में ही घर पर इलाज दिया जाए, ताकि बीमारी आगे ना बढ़ सके. इससे लोगों को मदद मिलेगी और अस्पतालों पर भार भी कम पड़ेगा.

दिल्ली में ठीक नहीं हो रहे हैं हालात
आपको बता दें कि दिल्ली में बीते कई दिनों से औसतन 20 हजार से ज्यादा मामले हर रोज रिपोर्ट हो रहे हैं, बीते दो दिनों से राजधानी में 400 से अधिक मौतें हो रही हैं. दो हफ्ते से लगे हुए मिनी लॉकडाउन के बाद भी दिल्ली में स्थिति बेहतर नहीं हुई है. हालांकि, बीते दिन पॉजिटिविटी रेट कुछ कम हुआ था. 

दिल्ली के अस्पतालों में सबसे बड़ी चिंता बेड्स और ऑक्सीजन की है. अस्पतालों में बेड्स नहीं हैं, लोगों को बेड के लिए इधर से उधर घूमना पड़ रहा है. वहीं, ऑक्सीजन की किल्लत भी लगातार जारी है. कई अस्पताल ऑक्सीजन की सप्लाई के लिए हाईकोर्ट का रुख कर चुके हैं, जबकि कई जगह अंतिम वक्त पर ही ऑक्सीजन पहुंच रही है.

बता दें कि दिल्ली में बेड्स की किल्लत के बीच केंद्र द्वारा ही सरदार पटेल कोविड सेंटर बनाया गया था, जहां ऑक्सीजन बेड्स की भी सुविधा है और आईटीबीपी इसका संचालन कर रही है. दिल्ली सरकार भी अपने स्तर पर बेड्स बढ़ाने की कोशिश कर रही है. इस बीच केंद्र और दिल्ली सरकार के बीच ऑक्सीजन की सप्लाई को लेकर तू-तू मैं-मैं चल रही है. 
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें