scorecardresearch
 

ओडिशाः सिविल ड्रेस में आधी रात को छापा मारने गई पुलिस, डकैत समझकर ग्रामीणों ने कर दिया हमला

ओडिशा के कोरापुट जिले (Odisha Koraput) के आदिवासी क्षेत्र में आधी रात को सिविल ड्रेस में छापा मारने गई पुलिस टीम पर ग्रामीणों ने हमला कर दिया. पुलिस को गांजा तस्करी के बारे में जानकारी मिली थी. इस दौरान हुई हिंसक झड़प में कई पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए.

X
हमले में घायल पुलिसकर्मी. हमले में घायल पुलिसकर्मी.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ग्रामीणों के साथ हिंसक झड़प में कई पुलिसकर्मी घायल
  • ओडिशा के कोरापुट जिले के आदिवासी क्षेत्र की घटना

ओडिशा के कोरापुट (Odisha Koraput) में सिविल ड्रेस में आधी रात को छापा मारने गई पुलिस पर ग्रामीणों ने डकैत समझकर हमला कर दिया. पुलिस टीम को गांजा तस्करी की सूचना मिली थी. आधी रात को गांव पहुंची मलकानगिरी पुलिस पर ग्रामीणों ने लाठियों व धारदार हथियारों से हमला कर दिया. यह घटना कोरापुट जिले के आदिवासी क्षेत्र के मचकुंड थाना क्षेत्र के माटीखाल गांव की है.

सिविल ड्रेस में आधी रात को छापा मारने गई पुलिस को ग्रामीणों ने समझा डकैत, लाठी व धारदार हथियारों से किया अटैक

रिपोर्ट के अनुसार, स्थानीय लोगों से क्षेत्र में गांजा तस्करी के बारे में सूचना मिलने के बाद मलकानगिरी जिले के 30 पुलिसकर्मी मटीकल गांव में छापेमारी करने पहुंचे. कहा जा रहा है कि ग्रामीणों ने पुलिस को डकैत समझकर लाठियों और धारदार हथियारों से पुलिस कर्मियों पर हमला कर दिया. हिंसक झड़प के बाद कई पुलिसकर्मी घायल हो गए, जबकि कुछ मौके से भाग गए. एक पुलिसकर्मी को ग्रामीणों ने बाइक के साथ पकड़ लिया. घटना की सूचना पर माचकुंड थाने की एक अन्य टीम मौके पर पहुंची और घायल पुलिसकर्मियों को अस्पताल पहुंचाया.

यह भी पढ़ें: राजस्थान: भीलवाड़ा के बाद हनुमानगढ़ में तनाव, VHP नेता पर हमले के बाद आक्रोश

एक सीनियर पुलिस अधिकारी ने कहा कि गांव के एक घर से लगभग 150 किलोग्राम गांजा जब्त किया गया था. इस दौरान कुछ ग्रामीणों ने इकट्ठा होकर पथराव शुरू कर दिया, जिसके बाद पुलिस के जवान घायल हो गए. उन्होंने कहा कि जिले में गांजा तस्करी के खिलाफ अभियान जारी रहेगा. उन्होंने कहा कि तस्करों के साथ कुछ पुलिस कर्मियों की संलिप्तता से इनकार नहीं किया जा सकता है.

वहीं, एक ग्रामीण ने आरोप लगाया कि आमतौर पर गांव के पुरुष काजू के पौधों की रखवाली के लिए रात में जंगलों में जाते हैं. शुक्रवार की रात करीब 9:30 बजे कई पुलिसकर्मी गांव आए थे.

ग्रामीण ने आरोप लगाया कि छापेमारी के बहाने वे घरों में घुसे. महिलाओं के साथ बदसलूकी की. जब आपत्ति की गई तो उन्होंने कहा कि वे कोरापुट एसपी के आदेश से तलाशी लेने आए हैं. 'इंडिया टुडे' ने जब कोरापुट के SP वरुण गुंटुपल्ली को कॉल किया तो कोई जवाब नहीं मिला.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें