scorecardresearch
 

5 मिनट...11 वार...एक चाचा ने पैर और दूसरे ने पकड़े हाथ, तीसरे ने रेत दी साजिद की गर्दन

Meerut Murder Case: मेरठ में सरेराह बीच बाजार एक युवक की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई. आरोप है कि युवक के चाचाओं ने ही प्रॉपर्टी के विवाद को लेकर अपने साथियों के साथ मिलकर युवक पर चाकू से हमला बोला और उसकी हत्या कर दी. पूरी घटना एक सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई.

X
मेरठ में सगे चाचाओं ने की भतीजे की निर्मम हत्या. मेरठ में सगे चाचाओं ने की भतीजे की निर्मम हत्या.
1:22
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मेरठ में चाचाओं ने ली भतीजे की जान
  • सरेराह हत्या से मचा हड़कंप
  • प्रॉपर्टी विवाद आया सामने

ईद के आगामी त्यौहार के चलते मेरठ के इत्तेफाकनगर इलाके में इतवार को काफी चहल-पहल बनी हुई है. नजदीकी तारापुरी बाजार में दोपहर के वक्त सैकड़ों-हजारों लोग ख़रीदारी करने में जुटे थे. पास ही लगती मस्जिद से नमाज पढ़कर रोजेदार बाहर आ रहे थे और हंसते-मुस्कुराते अपने-अपने घरों की ओर लौट रहे थे. इसी बीच नमाज पढ़कर जा रहे एक युवक को तीन लोगों ने अचानक पकड़ा और जमीन पर गिरा लिया. इसके बाद ताबड़तोड़ चाकू से वार कर उसे बुरी तरह जख्मी कर दिया और इससे भी मन नहीं भरा तो आखिर में उसी धारदार हथियार से घायल की गर्दन रेत दी. जब तक कोई कुछ समझ पाता तब तक जख्मी युवक अचेत हो चुका था. जानिए पूरा घटनाक्रम... 

- यह पूरा मामला मेरठ के ब्रह्मपुरी थाना इलाके का है. जहां रविवार दोपहर करीब 2 बजे साजिद नाम के एक युवक की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई. हत्या करने वाले कोई और बल्कि साजिद के सगे तीन चाचा ही थे. 

- मौका-ए-वारदात से पुलिस को एक सीसीटीवी फुटेज मिला है. इसमें रिकॉर्ड वीडियो में देखा जा सकता है कि हमलावर सोची-समझी साजिश के तहत पहले से ही घात लगाकर बैठे हुए थे.

- साजिद के सड़क पर निकलते ही तीनों उसके पीछे दौड़े और उसे पकड़ कर जमीन पर गिरा लिया. एक चाचा नौशाद ने अपने भतीजे साजिद के पैर पकड़ लिए तो दूसरे जावेद ने उसके हाथ पकड़े. इसके बाद तीसरे चाचा शहजाद ने साजिद पर चाकू से बेरहमी से वार करने शुरू कर दिए. हमलावर चाचा ने पहले साजिद के पेट, सीने और दूसरी जगह 8 वार किए और एक वार कमर पर किया. तकरीबन 5 मिनट तक चले इस हमले में साजिद बुरी तरह तड़प उठा और कराहने लगा.

भतीजे साजिद पर चाकू से हमला करते उसके चाचा.

- इसके बाद तीनों हमलावर अलग अलग दिशाओं में भागने लगे. इसके बाद भी युवक की सांस चल रही थी और वह उठकर बैठ गया तो एक बार फिर हमलावर शहजाद लौटा और जख्मी हो चुके साजिद की गर्दन पर पूरी ताकत से दो बार अटैक किया यानी चाकू से गला रेत दिया. इस आखिरी और 11वें वार में साजिद लगभग मृतप्राय: हालत में पहुंच गया था. यह देख तीनों आरोपी मौके से भागने में कामयाब रहे.      

Live मर्डर देखते रहे लोग

मेरठ के भीड़ भरे वाले इलाके में बीच सड़क पर साजिद पर चाकू से वार होता रहा और चीख-पुकार के बाद भी कोई उसको बचाने नहीं आया. किसी ने आरोपियों को रोकने या पकड़ने की हिम्मत नहीं दिखाई. हर कोई वारदात को देखते हुए गुजर गया और कुछ तमाशबीन बने रहे. जितनी देर यह वारदात सड़क पर होती रही और वारदात के बाद भी काफी देर तक घायल सड़क पर पड़ा है, लेकिन रोड से आने जाने वाले सभी गुजरते गए.  थोड़ी देर बाद पुलिस पहुंची और उन्होंने घायल को ऑटो में रखकर अस्पताल पहुंचाया, जहां उसको मृत घोषित कर दिया गया. 

हत्या के तीनों आरोपी

कबाड़ का काम करता था साजिद 

दरअसल, मेरठ के थाना लिसाड़ी गेट के फिरोज नगर घंटे वाली गली निवासी यूनुस के पांच बेटे राशिद, आसिफ, साजिद, माजिद और शामिद हैं. मृतक साजिद अपने भाइयों में तीसरे नंबर का था. सभी भाई कबाड़ की फेरी का काम करते हैं और इनकी मां का अभी हाल ही में इंतकाल हो गया है.  यूनुस का प्रॉपर्टी को लेकर अपने भाई शहजाद ,जावेद और नौशाद से विवाद चल रहा था. सभी एक ही घर में रहते है. 

एक रात पहले ही थी तैयारी

बताया गया कि शनिवार रात को ही उसके तीन भाई अपने साथियों के साथ शराब पी रहे थे जिसका विरोध करने पर आरोपियों ने यूनुस के बड़े बेटे राशिद से मारपीट की और दोनों पक्षों में विवाद हुआ. लेकिन पुलिस चौकी में समझौता हो गया और दोनों ही पक्ष घर वापस आ गए. रविवार की सुबह को फिर विवाद हुआ, और फिर आसपास के लोगों ने बीच-बचाव कराकर मामला शांत करा दिया था.

इस मकान को लेकर भी परिवार में विवाद.

ठीक नहीं था आरोपियों का चाल-चलन

यूनुस के बड़े बेटे राशिद का कहना है कि उसके चाचाओं शहजाद ,जावेद और नौशाद का चाल चलन ठीक नहीं था, इसलिए उसके दादा ने प्रॉपर्टी अपने बेटों के नाम न करते हुए सभी पोतों के नाम करने की ठानी. बस इसी को लेकर उनके परिवार में विवाद शुरू हो गया. 

2 करोड़ की प्रॉपर्टी बनी वजह

दरअसल, मृतक साजिद के दादा की 160 गज की मार्केट है और 100 गज का मकान है. दोनों ही प्रॉपर्टी शहर के लिसाड़ी गेट रोड पर हैं. दोनों की ही कीमत लगभग 1.50 से 2 करोड़ रुपए के आसपास की है. इसी कीमती प्रॉपर्टी में हिस्सा बंटवारे का विरोध होने पर तीनों चाचाओं ने अपने बड़े भाई यूनुस के बेटे को मौत के घाट उतार दिया. 

मार्केट की इन दुकानों को लेकर भी विवाद

6 लोग हिरासत में लिए गए 

सीसीटीवी फुटेज सामने आने के बाद और घटना की सूचना मिलते ही पुलिस आरोपियों को पकड़ने में जुटी है. इस मामले में लगभग 6 लोगों को पुलिस ने अभी तक हिरासत में ले रखा है और मुख्य आरोपियों की तलाश में जुटी है.  

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें