scorecardresearch
 

बिहार: जमुई में अवैध शराब बेचने पर उठाई आवाज, जान देकर चुकानी पड़ी कीमत

बिहार के जमुई में शराब माफियाओं का विरोध करना एक शख्स को भारी पड़ गया. गांव में कुछ लोग अवैध शराब का कारोबार कर रहे थे, जिसका वह लगातार विरोध कर रहा थे. कथित रूप से इसी वजह से उनकी हत्या कर दी गई.

X
पुलिस की गिरफ्त में दो आरोपी पुलिस की गिरफ्त में दो आरोपी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • हत्या कर शव को झाड़ी में फेंका
  • पुलिस ने 2 आरोपियों को किया गिरफ्तार

बिहार में पूर्ण शराबबंदी कानून लागू है. इसके बावजूद शराब माफिया चोरी-चुपके कारोबार करने से हिचक नहीं रहे है. कभी-कभी विरोध करने पर आम लोगों को इसकी कीमत अपनी जान देकर चुकानी पड़ती है. ताजा मामला जमुई से आया है, जहां शराब बेचने का विरोध करने पर एक व्यक्ति को अपनी जान गंवानी पड़ गई.

अवैध शराब की बिक्री करने वाले माफियाओं ने एक शख्स को पहले बंधक बनाया. उसकी बेरहमी से पिटाई करने के बाद धारदार हथियार से हत्या कर दी. शव को झाड़ी में फेंककर वे फरार हो गए. यह हैरान कर देने वाला मामला जमुई सदर थाना के डुंडो गांव का है. शव की पहचान गांव के ही रामचंद्र सिंह के बेटे संजीव कुमार सिंह के रूप में हुई. सूचना मिलते ही मृतक के घर में मातम छा गया.

संजीव की बेटी चंदा कुमारी ने कहा, 'गांव में कुछ लोग शराब का अवैध कारोबार करते हैं. उनके पिता ने इसका कई बार विरोध किया. इसी रंजिश में कारू पासवान और ब्रह्मदेव पासवान समेत कुछ लोगों ने गुरुवार रात नौ बजे घर से बुलाकर पिता को लेकर गए. काफी देर तक वह घर नहीं आए तो, परिवार वाले समझे कि वह गांव में कहीं सो गए होंगे. जब सुबह शौच के लिए ग्रामीण गए तो देखा कि वह झाड़ी में खून से लथपथ हैं. जब उन्हें उठाया गया तो उनके दोनों हाथ बंधे हुए थे और उनकी मौत हो चुकी थी.'

घटना की सूचना जमुई पुलिस को दी गई. पुलिस दलबल के साथ वहां पहुंची और शव को पोस्टमॉर्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया. इस मामले में आरोपी कारू पासवान और ब्रह्मदेव पासवान को गिरफ्तार कर लिया गया. जमुई के डीएसपी डॉ. राकेश कुमार ने बताया कि बाकी आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है. उन्हें जल्द पकड़ लिया जाएगा. पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें