scorecardresearch
 

फरीदाबाद: जस्ट डायल से ली जानकारी, फिर SBI का अधिकारी बनकर करीब 200 लोगों को ठगा

शातिर फेक कॉल करके बैंक अधिकारी बनकर लोगों के पुराने क्रेडिट कार्ड की लिमिट को नए कार्ड में ट्रांसफर करने का झांसा देते थे. फिर धोखाधड़ी से पूरी रकम अपने खातों में ट्रांसफर कर लेते थे.

X
ठगी करने वाले गिरोह के सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया ठगी करने वाले गिरोह के सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कई राज्यों में 187 वारदात कर चुके थे
  • 35 मोबाइल, 109 सिम कार्ड किए बरामद
  • 15 एटीएम कार्ड, 22 लाख रुपए बरामद

वर्तमान में अधिकतर काम ऑनलाइन होने लगे हैं, इसमें खऱीदारी से लेकर बैंकिंग तक सब कुछ शामिल है. ऐसे में सावधानी बरतना बेहद जरूरी है. साथ ही अगर किसी बैंक से कॉल आए तो सतर्क हो जाएं, क्योंकि सावधानी हटी, दुर्घटना घटी. दरअसल, हाल ही में पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है, जो SBI के अधिकारी बनकर एसबीआई के ही कस्टमर केयर नंबर से लोगों को फोन करके ठगी करते थे. 

बता दें कि शातिर फेक कॉल करके बैंक अधिकारी बनकर लोगों के पुराने क्रेडिट कार्ड की लिमिट को नए कार्ड में ट्रांसफर करने का झांसा देते थे. फिर धोखाधड़ी से पूरी रकम अपने खातों में ट्रांसफर कर लेते थे. ठगी करने वाले गिरोह के 7 सदस्यों को साइबर अपराध थाना फरीदाबाद ने गिरफ्तार किया है.

पुलिस आयुक्त विकास अरोड़ा ने बताया कि आरोपी जस्ट डायल वेबसाइट से डाटा खरीदकर SBI के क्रेडिट कार्ड धारकों को एक कस्टमाइज एप के जरिए एसबीआई के कस्टमर केयर के नंबर से कॉल करते थे. लोगों को अपनी बातों के जाल में फंसाकर CARD NUMBER, CVV NUMBER, कार्ड की EXPIRY DATE ले लेते थे. आरोपी क्रेडिट कार्ड की राशि को अपने बैंक अकाउंट में ट्रान्सफर करते थे.

पुलिस उपायुक्त नितीश अग्रवाल के निर्देश पर एसीपी क्राइम सुरेंदर श्योराण के नेतृत्व में टीम बनाई. पुलिस ने सोनवीर, अमन, शक्ति, राहुल, पंकज, अबदुल्ला और शुभान को गिरफ्तार किया है.

पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से 35 मोबाइल फोन, 109 सिम कार्ड, 15 ATM कार्ड, 22 लाख 60 हजार रुपए बरामद किए हैं. पूछताछ के दौरान आरोपियों ने 17 बैंक खातों की जानकारी दी है. पुलिस ने इन खातों का पता लगाया तो इनमें लगभग 1.25 करोड का फर्जी लेन देन हुआ है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें