scorecardresearch
 

नोएडा: सोशल मीडिया पर दोस्ती कर महिलाओं को बनाया शिकार, 1.6 करोड़ की यूं की ठगी

साइबर क्राइम लखनऊ और नोएडा टीम ने ऐसे साइबर अपराधी को गिरफ्तार किया है, जो सोशल मीडिया पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर महिलाओं को अपना शिकार बनाता था.

X
पुलिस के गिरफ्त में साइबर ठग पुलिस के गिरफ्त में साइबर ठग
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अफ्रीकी मूल का है साइबर अपराधी
  • कस्टम क्लीयरेंस के नाम पर करता था लाखों की ठगी
  • 2019 में टूरिस्ट वीजा पर आया था भारत

साइबर क्राइम लखनऊ और नोएडा सेक्टर-36 की पुलिस टीम ने वॉन्टेड अपराधी को दिल्ली से गिरफ्तार किया है. यह अपराधी पेशे से आईटी इंजीनियर और अफ्रीकी मूल का रहने वाला है. जो महिलाओं से इंस्टाग्राम पर दोस्ती करता था, फिर फर्जी महंगे गिफ्ट और डोनेशन भेजकर कस्टम क्लीयरेंस के नाम पर लाखों रुपये की ठगी करता था. 

पुलिस की पूछताछ पर उसने बताया कि उसने बारहवीं तक पढ़ाई की है. 2019 में वह टूरिस्ट वीजा पर भारत आया था. शुरुआत में उसने अफ्रीकी फूड और रेडीमेड गारमेंट का दिल्ली में कारोबार किया. कोविड महामारी में लॉकडाउन से व्यापार बंद हो गया और आमदनी का कोई सोर्स नहीं रहा. ऐसे में वह सोशल मीडिया पर महिलाओं से दोस्ती कर उनसे ठगी करने लगा.

आरोपी अब तक सोशल मीडिया पर 15 महिलाओं को अपने जाल में फंसाकर करीब 1 करोड़ 60 लाख रुपये की ठगी कर चुका है. उसके पास से 5 मोबाइल, एक लैपटॉप, एक सैमसंग टैबलेट, 2 इंटरनेट डोंगल, एक वाई-फाई राउटर और दो पासपोर्ट मिले हैं. 

साइबर थाना प्रभारी रीता यादव ने बताया कि साइबर अपराधियों का संगठित गैंग है, जो भारतीय महिलाओं को सोशल मीडिया पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजकर उनसे फ्रेंडशिप करते हैं. इसके बाद व्यक्तिगत जानकारी प्राप्त कर उनको महंगे गिफ्ट भेजने के नाम पर कस्टम ड्यूटी और मनी लॉन्ड्रिंग का केस बताकर लाखों रुपये की ठगी करते हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें