scorecardresearch
 

फर्जी सिम से बैंक खाता खोल विदेशों से मंगाते थे पैसा, 17 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट

उत्तर प्रदेश एटीएस ने 17 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी है. आरोपियों में तीन चीनी नागरिक भी शामिल हैं. इन पर आरोप है कि ये प्रीएक्टिवेटेड सिम कार्ड के जरिए बैंकों में फर्जी अकाउंट खोलते थे और फिर उसमें विदेशों से पैसा मंगाते थे.

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जनवरी में यूपी एटीएस ने की थी गिरफ्तारी
  • चार्जशीट में तीन चीनी नागरिकों के भी नाम
  • दो चीनी नागरिक अब भी फरार चल रहे

उत्तर प्रदेश एटीएस ने साइबर क्राइम करने वाले 17 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी है. आरोपियों में तीन चीनी नागरिकों के नाम भी शामिल हैं. यूपी एटीएस ने स्पेशल कोर्ट में 2 हजार 151 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की. आरोपियों के खिलाफ फर्जी आईडी के आधार पर सिम कार्ड लेने और बैंकों में खाते खोलकर अवैध लेन देन करने का आरोप है. 

जनवरी महीने में ही एटीएस ने इस रैकेट का भंडाफोड़ किया था. इसके बाद इस गिरोह में शामिल लोगों को गिरफ्तार किया गया. पश्चिमी उत्तर प्रदेश से एटीएस ने 14 लोगों को गिरफ्तार किया गया था. इनसे पूछताछ के आधार पर बाद में दिल्ली और गुरुग्राम से एक महिला समेत तीन चीनी नागरिकों को गिरफ्तार किया गया था. 

पकड़े गए चीनी नागरिकों के नाम शू सुंग फू, ली तेंग ली और सुन जी झिंग हैं. जांच में दो और चीनी नागरिकों जुन वेई हान उर्फ जेम्स और युन ताई तियान उर्फ विविया के नाम भी सामने आए हैं. यूपी एटीएस इनकी तलाश कर रही है. इन दोनों के खिलाफ ब्लू कॉर्नर नोटिस जारी किया गया है.

क्या है पूरा मामला?
दरअसल, ये लोग गलत नाम और पता से ऑनलाइन माध्यम से अलग-अलग बैंकों में खाता खोलते थे. अज्ञात सोर्स से इन खातों में रकम आती थी और ये लोग कार्डलेस पेमेंट मोड से एटीएम से पैसे निकाल लेते थे. एटीएस के मुताबिक इन खातों को खोलने के लिए ये प्रीएक्टिवेटेड सिम डिस्ट्रीब्यूटर्स से लेते थे. ये लोगों की आईडी का गलत कर उनकी जानकारी के बिना ये सिम एक्टिवेट करा लेते थे. ऐसे सिम कार्ड इन्हें 260 रुपये में मिलते थे. एटीएस को आरोपियों के पास से 300 से ज्यादा सिम कार्ड भी मिले थे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें