scorecardresearch
 

कोरोना पार्ट-2 में फेफड़ों को है सबसे बड़ा खतरा, डॉक्टर से जानिए कैसे रख सकते हैं ख्याल

जिस तरह अभी करंट कोविड स्ट्रेन चल रहा है इस स्ट्रेन को देख कर लग रहा है कि इसका प्रसार पिछले कोरोना से ज्यादा है और जो भी इस स्ट्रेन से प्रभावित हो रहे हैं उनमें सबसे ज्यादा खतरा फेफड़ों को है

प्रतीकात्मक चित्र प्रतीकात्मक चित्र
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कोरोना पार्ट-2 में फेफड़ों का ख्याल रखना जरूरी
  • एरोबिक एक्सरसाइज से फेफड़े होते हैं मजबूत
  • खानपान और नींद का भी रखना होगा ख्याल

उत्तर प्रदेश में दिन-ब-दिन, कोरोना का ग्राफ तेजी से बढ़ता जा रहा है और लोगों में खौफ का माहौल बना हुआ है. अकेले उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कोरोना संक्रमण के मामले अन्य जिलों की अपेक्षा सबसे ज्यादा सामने आए हैं. कोरोना का यह दूसरा स्ट्रेन बहुत ही तेजी से फैल रहा है. डॉक्टरों की मानें तो पिछले कोरोना के मुकाबले इस कोरोना वायरस में स्प्रेडिंग पावर ज्यादा है.

 ऐसे में हमें अपने आपको कोरोना पार्ट टू के कहर से खुद को बचाने के लिए फेफड़ों का खास ध्यान रखना होगा. केजीएमयू अस्पताल के पलमोनरी एंड क्रिटिकल केयर मेडिसिन के विभागाध्यक्ष डॉ. वेद प्रकाश ने आज तक को बताया कि जिस तरह से अभी करंट कोविड स्ट्रेन चल रहा है इस स्ट्रेन को देख कर लग रहा है कि इसका प्रसार पिछले कोरोना से ज्यादा है और जो भी इस स्ट्रेन से प्रभावित हो रहे हैं उनमें सबसे ज्यादा खतरा फेफड़ों को है.

इस बीमारी में सबसे ज्यादा सीरियस कंडीशन कोविड निमोनिया की हो रही है जिसमें मौत हो जा रही है. डॉक्टर ने बताया कि ऐसे में हमें अपने पूरे शरीर का ख्याल रखना होगा. विशेष तौर पर फेफड़ों का ख्याल रखना होगा. फेफड़ों को स्वस्थ करने के लिए और उसको सुरक्षा कवच प्रदान करने के लिए एक्सरसाइज करनी होगी और एक्सरसाइज में हमें एरोबिक एक्सरसाइज को शामिल करना होगा. क्योंकि एरोबिक एक्सरसाइज, कार्डियक एक्सरसाइज का काम करती है, जिसमें हृदय की धड़कन तेज हो जाती हैं.

इसके अलावा डीप ब्रीदिंग और स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज पर भी जोर देना होगा. डॉ. वेद प्रकाश आगे बताते हैं कि फेफड़ों को मजबूत करने के लिए डायाफ्राम एक्सरसाइज भी है जिससे कि फेफड़ों के जो बोनीएज और डायफ्राम हैं, वे मजबूत हो सके और यह तभी संभव है जब हम डेली रूटीन के तौर पर एक्सरसाइज करते रहें.

पीसीसीएम के विभागाध्यक्ष आगे यह भी बताते हैं कि एक्सरसाइज के अलावा हमें अपने खानपान और नींद का भी पूरा ख्याल रखना होगा. हमें अपने खाने की थालियों में 5 रंगों को यानी कि 5 किस्मों को शामिल करना होगा, जिसमें, लहसुन, अदरक, हरी पत्तियों की सब्जियां, फल और भरपूर मात्रा में पानी का सेवन करना शामिल होगा.

केजीएमयू अस्पताल के डॉ. वेद प्रकाश
केजीएमयू अस्पताल के डॉ. वेद प्रकाश

विटामिन सी वाली चीजें खानी होंगी. संतरा, नींबू और आंवलों का भी सेवन करना होगा. साथ ही साथ पपीता और अंजीर का भी प्रयोग हमें खाने में करना चाहिए. आंवले में बहुत सारे पोषक तत्व होते हैं. इसका सेवन जरूर करना चाहिए. पानी की बात करें तो इस कोविड काल में हमें 3 से 4 लीटर पानी पीने की आवश्यकता है. अगर हमें अपने फेफड़ों को स्वस्थ रखना है तो हमें 3 से 4 लीटर पानी जरूर पीना चाहिए. 

इनके अलावा मेडिटेशन और योगा भी हमें करना चाहिए. इससे हम मानसिक रूप से स्वस्थ होते हैं. इन सभी चीजों को अपने जीवन में उतार कर हम लोग अपने आप को स्वस्थ रख सकते हैं.

केजीएमयू के वरिष्ठ डॉक्टर वेद प्रकाश आज तक को बताते हैं कि स्वस्थ शरीर के लिए नींद बहुत आवश्यक है और ऐसे में अगर हम अपने फेफड़ों को स्वस्थ रखना चाहते हैं तो जो एडल्ट्स हैं उनको 7 घंटे की अच्छी क्वालिटी वाली नींद लेनी चाहिए. जो छोटे बच्चे हैं उनको 7 से 10 घंटे की नींद, वहीं जो नवजात शिशु पैदा हुए हैं उनको लगभग 24 घंटे की भरपूर नींद लेनी चाहिए.

नींद के लिए जो एक स्लीप हाइजीन है उसको भी मेंटेन करना आवश्यक है. अच्छी नींद के लिए हमें जल्दी खाना खाना चाहिए और यह ध्यान में रखना चाहिए कि खाने और सोने के बीच का जो समय है वह 3 घंटे का होना चाहिए. यानी कि सोने से 3 घंटे पहले हमें खाना खा लेना चाहिए, साथ ही साथ सोने से पूर्व हमें अपने रूम की लाइट 1 घंटे पहले बंद कर देनी चाहिए. इन सब तरीकों से हम अपनी नींद को बेहतर बना सकते हैं और सेहतमंद जिंदगी जी सकते हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें