scorecardresearch
 

पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में तगड़ा रिटर्न, इतने महीने में डबल होता है पैसा!

किसान विकास पत्र स्कीम की मैच्योरिटी पिरियड 124 महीने की है. अगर कोई इस स्कीम खरीदने के एक साल के भीतर ही वापस कर देता है, तो उसे किसी भी तरह के ब्याज का लाभ नहीं मिलेगा. पोस्ट ऑफिस की ये स्कीम इनकम टैक्स अधिनियम (Incmome Tax Act) 80c के तहत नहीं आती है.

X
किसान विकास पत्र में मिलता है बढ़िया रिटर्न
किसान विकास पत्र में मिलता है बढ़िया रिटर्न
स्टोरी हाइलाइट्स
  • रिटर्न पर जमा करना होता है टैक्स
  • 1000 रुपये से कर सकते हैं शुरुआत

पोस्ट ऑफिस की तमाम स्कीम्स (Post Office Schemes) देश के लाखों नागरिकों ने अपनी कमाई निवेश की है. पोस्ट ऑफिस अपने अपने ग्राहकों के लिए कई तरह की स्कीम चलाता है. लोग पोस्ट ऑफिस में इसलिए निवेश करना पसंद करते हैं, क्योंकि इसकी स्कीम्स में बढ़िया रिटर्न के साथ निवेश की राशि भी सुरक्षित रहती है. पोस्ट ऑफिस की एक स्कीम है, जिसमें निवेश पर तगड़ा रिटर्न मिलता है. पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम का नाम है किसान विकास पत्र (Kisan Vikas Patra). लोग इसमें अपने पैसे को डबल करने के लिए भी निवेश करते हैं. इस वजह से ये स्कीम काफी पॉपुलर है.

कितने साल में डबल होता है पैसा?

पोस्ट ऑफिस की ओर से किसान विकास पत्र में निवेश पर 6.9 फीसदी की दर से ब्याज मिलता है. 18 साल या उससे अधिक उम्र का कोई भी नागरिक इस स्कीम में निवेश कर सकता है. किसान विकास पत्र में मिनिमम निवेश की राशि 1000 रुपये है. मैक्सिमम निवेश की कोई लिमिट नहीं तय की गई है. पोस्ट ऑफिस के अनुसार, किसान विकास पत्र में आपकी निवेश राशि 124 महीने यानी 10 साल 4 महीने में डबल हो जाती है. 

कहां खुलेगा निवेश के लिए अकाउंट?

किसान विकास पत्र में 10 साल से कम उम्र के नाबालिग की ओर से कोई भी व्यस्क अकाउंट खुलवा सकता है. जैसे ही नाबालिग की उम्र 10 साल होगी, खाता उसके नाम पर कर दिया जाता है. पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में एक साथ 18 साल या उससे अधिक की उम्र के तीन लोग ज्वाइंट अकाउंट खुलवा सकते हैं. देशभर के किसी भी पोस्ट ऑफिस में इस स्कीम में निवेश करके लाभ उठाया जा सकता है.

रिटर्न पर देना होता है टैक्स

किसान विकास पत्र स्कीम की मैच्योरिटी पीरियड 124 महीने की है. अगर कोई इस स्कीम को खरीदने के एक साल के भीतर ही वापस कर देता है, तो उसे किसी भी तरह के ब्याज का लाभ नहीं मिलेगा. पोस्ट ऑफिस की ये स्कीम इनकम टैक्स अधिनियम (Income Tax Act) 80c के तहत नहीं आती है. इस वजह से निवेश राशि पर जो भी रिटर्न आपको मिलेगा, उसपर आपको टैक्स भरना होगा. हालांकि, इस स्कीम में TDS की कटौती नहीं की जाती है.

किसान विकास पत्र में अगर आप 50 हजार से अधिक की राशि निवेश करते हैं, तो आपको पैन कार्ड की डिटेल्स शेयर करनी पड़ेगी. इस स्कीम के जरिए आप लोन ले सकते हैं. किसान विकास पत्र को आप गारंटी के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं.

कैसे करें निवेश?

अगर आप किसान विकास पत्र में निवेश करना चाहते हैं, तो आपको इसके लिए अपने नजदीकी पोस्ट ऑफिस जाना होगा. वहां, जमा रसीद के साथ आवेदन भरें. इसके बाद निवेश की रकम नगद, चेक, डिमांड ड्राफ्ट या पे ऑर्डर के माध्यम से जमा कर दें. आवेदन के साथ पहचान पत्र की फोटो कॉपी जरूर लगाएं. आवेदन और पैसा जमा करने के बाद आपको किसान विकास पत्र में निवेश का प्रमाण पत्र मिल जाएगा. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें