scorecardresearch
 

Mukesh Ambani खरीद रहे हैं 74 अरब रुपये के रोबोट, कराएंगे ये काम

एडवर्ब के डायनेमो 200 रोबोट्स का पहले से ही जामनगर रिफाइनरी में इंट्रा-लॉजिस्टिक्स ऑपरेशन में इस्तेमाल हो रहा है. ये सारे रोबोट्स 5जी से जुड़े हुए हैं और इन्हें अहमदाबाद स्थित रिमोट सर्वर से कंट्रोल किया जाता है.

X
जामनगर प्लांट में होगा इस्तेमाल जामनगर प्लांट में होगा इस्तेमाल
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 5G से कनेक्टेड होंगे सारे रोबोट
  • जामनगर प्लांट में होगा इस्तेमाल

मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) ने एडवर्ब टेक्नोलॉजीज (Addverb Technologies) को हाल ही में 1 बिलियन डॉलर (करीब 74 अरब रुपये) का ऑर्डर दिया है. यह ऑर्डर 5G टेक्नोलॉजी से लैस रोबोट्स के लिए है. इनका इस्तेमाल रिलायंस की जामनगर रिफाइनरी में करने की योजना है.

हाल ही में रिलायंस ने खरीदी हिस्सेदारी

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने कुछ ही समय पहले रोबोटिक्स स्टार्टअप Addverb Technologies की 54 फीसदी हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया था. यह सौदा रिलायंस इंडस्ट्रीज की रिटेल यूनिट रिलायंस रिटेल वेंचर्स लिमिटेड (Reliance Retail Ventures Ltd) के जरिए किया था. रिलायंस रिटेल ने यह डील 132 मिलियन डॉलर यानी करीब 985 करोड़ रुपये में की थी.

5जी से जुड़े एक्सपेरिमेंट भी करेगी रिलायंस

खबरों के अनुसार, रिलायंस इंडस्ट्रीज इन रोबोट्स के जरिए 5जी से जुड़े एक्सपेरिमेंट भी करेगी. एडवर्ब के डायनेमो 200 रोबोट्स का पहले से ही जामनगर रिफाइनरी में इंट्रा-लॉजिस्टिक्स ऑपरेशन में इस्तेमाल हो रहा है. ये सारे रोबोट्स 5जी से जुड़े हुए हैं और इन्हें अहमदाबाद स्थित रिमोट सर्वर से कंट्रोल किया जाता है. इसके लिए एडवर्ब के फ्लीट मैनेजमेंट सिस्टम लीजन का इस्तेमाल किया जाता है. इसके अलावा 1 टन पेलोड कैपेसिटी वाले डायनेमो रोबोट्स का इस्तेमाल बैगिंग लाइन ऑटोमेशन में किया जा रहा है.

एडवर्ब की ये है योजनाएं

रिलायंस इंडस्ट्रीज के द्वारा हिस्सेदारी खरीदे जाने के बाद स्टार्टअप कंपनी ने कहा था कि इस डील से उसे अमेरिका और यूरोप के बाजार में उतरने में मदद मिलने वाली है. इसके साथ ही रिलायंस इंडस्ट्रीज से मिले पैसों से उसे एक ही लोकेशन पर बड़ा रोबोटिक्स मैन्यूफैक्चरिंग प्लांट (Robotics Manufacturing Plant) लगाने का संसाधन भी मिलेगा. कंपनी अस्पतालों और हवाईअड्डों पर रोबोट डिप्लॉय करने की योजना पर काम कर रही है. इस सौदे से इसमें तेजी आने की संभावना है.

नोएडा में है एडवर्ब का प्लांट

रिलायंस इंडस्ट्रीज के द्वारा शेयर खरीदे जाने के बाद एडवर्ब की वैल्यूएशन 26.5 से 27 करोड़ डॉलर (करीब 2000 करोड़ रुपये) पर पहुंच गई है. कंपनी अभी नोएडा प्लांट में हर साल करीब 10 हजार रोबोट बना रही है. एडवर्ब रिलायंस रिटेल को पहले से ही समाधान मुहैया करा रही है. अब बड़े स्तर पर एडवर्ब के रोबोटों का इस्तेमाल रिलायंस के विभिन्न उपक्रमों में होने वाला है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें