scorecardresearch
 

सच हुआ Elon Musk का मंदी का अंदेशा? अब Tesla में जाएगी इतने एम्पलॉइज की नौकरी

एलन मस्क ने अपने ई-मेल में लिखा है कि कंपनी को दुनियाभर में नए लोगों को नौकरियों पर रखने की प्रोसेस पर रोक लगा देनी चाहिए. इकोनॉमी को लेकर उन्हें 'बहुत बुरी फीलिंग' है.

X
एलन मस्क (Photo : Reuters) एलन मस्क (Photo : Reuters)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • भारत में भी कंपनियां कर चुकी हैं छंटनी
  • Netflix ने 150 लोगों को नौकरी से निकाला

दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति और इलेक्ट्रिक कार कंपनी टेस्ला के फाउंडर एलन मस्क बार-बार इकोनॉमी के हालात ठीक नहीं होने का अंदेशा जता रहे हैं. कुछ दिन पहले तो उन्होंने मंदी आने की आशंका भी व्यक्त की थी. अब उनका कहना है कि अगर हालात ऐसे ही रहे तो टेस्ला में बड़े पैमाने पर छंटनी हो सकती है.

जाएगी Tesla के 10% एम्पलॉइज की नौकरी
टेस्ला इंक के सीईओ Elon Musk ने अपने कुछ अधिकारियों को एक ई-मेल भेजा है. रॉयटर्स ने इसके हवाले से खबर दी है कि एलन मस्क को इकोनॉमी की स्थिति को देखकर 'Super Bad Feeling' है और इसलिए वो अपनी कार कंपनी से 10% कर्मचारियों की छंटनी करना चाहते हैं.

'दुनियाभर में रोक दें नई नौकरियां देना'
एलन मस्क ने अपने ई-मेल में लिखा है कि कंपनी को दुनियाभर में नए लोगों को नौकरियों पर रखने की प्रोसेस पर रोक लगा देनी चाहिए. इकोनॉमी को लेकर उन्हें 'बहुत बुरी फीलिंग' है. मंगलवार को एलन मस्क ने एक और ई-मेल में अपने कर्मचारियों को चेतावनी दी थी कि या तो वो काम पर लौट आएं या टेस्ला को छोड़ दें. साथ ही लिखा था कि हर कर्मचारी को एक सप्ताह में कम से कम 40 घंटे काम करना अनिवार्य है.

टेस्ला की फैक्टरी में काम करता कर्मचारी (File Photo)
टेस्ला की फैक्टरी में काम करता कर्मचारी (File Photo)

ऐसे में एलन मस्क का छंटनी करने का ये संकेत काफी मायने रखता है. शेयर मार्केट को दी जानकारी के मुताबिक 2021 के अंत तक टेस्ला के एम्पलॉइज की टोटल संख्या 1 लाख थी. हालांकि इस खबर पर टेस्ला की कोई तत्काल प्रतिक्रिया नहीं आई है.

भारत में भी कंपनियों ने की छंटनी
हाल में भारत में कई टेक और स्टार्टअप कंपनियों ने अपने स्टाफ को कम किया है. Cars24 नाम की ई-कॉमर्स कंपनी ने 600 एम्प्लॉइज को नौकरी से निकाल दिया था. एजुकेशन टेक कंपनी  Vedantu ने भी मई दो बार में लोगों को नौकरी से निकाला, पहले 200 और फिर 424 लोगों की छंटनी (Vedantu Lay Offs) कर दी. अप्रैल में एक और एजुटेक कंपनी Unacademy ने भी 600 लोगों को नौकरी से निकाल दिया था. जबकि रॉनी स्क्रूवाला से निवेश पाने वाली स्टार्टअप कंपनी Lido Learning अपना ऑपरेशन बंद कर चुकी है और कई एम्प्लॉइज का कहना है कि Lido ने पिछले कई महीनों से वेतन नहीं दिया है. इसके अलावा Meesho, Furlenco और Trell जैसी कंपनी भी लोगों को नौकरी से निकाल चुकी है.

नौकरी से निकाले जाने की घटना सिर्फ भारत में ही नहीं, बल्कि दुनिया के अन्य हिस्सों में भी देखने को मिली. पॉपुलर OTT प्लेटफॉर्म Netflix ने भी करीब 150 कर्मचारियों और दर्जनों कॉन्ट्रैक्टर्स की छंटनी कर दी थी. 

ये भी पढ़ें: 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें