scorecardresearch
 

AC, LED Lights मैन्युफैक्चरिंग के लिए PLI योजना मंजूर, आएगा इतना निवेश, पैदा होंगे 4 लाख रोजगार

देश में ‘मेक इन इंडिया’ को नए पंख लगने जा रहे हैं. सरकार ने बुधवार को AC और LED Lights के कम्पोनेंट्स का देश में उत्पादन बढ़ाने के लिए PLI Scheme को मंजूरी दे दी. जानें क्या फायदा होगा इससे देश को...

सरकार ने व्हाइट गुड्स के लिए शुरू की है पीएलआई स्कीम (सांकेतिक फोटो) सरकार ने व्हाइट गुड्स के लिए शुरू की है पीएलआई स्कीम (सांकेतिक फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सरकार देगी 4 से 6% तक का प्रोत्साहन
  • एमएसएमई सेक्टर को भी होगा फायदा
  • बनेंगी वर्ल्ड क्लास मैन्युफैक्चरिंग कंपनियां

देश में ‘मेक इन इंडिया’ को नए पंख लगने जा रहे हैं. सरकार ने बुधवार को AC और LED Lights के कम्पोनेंट्स का देश में उत्पादन बढ़ाने के लिए PLI Scheme को मंजूरी दे दी. जानें इससे क्या फायदा होगा देश को...

6,238 करोड़ की PLI योजना
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को कैबिनेट ने व्हाइट गुड्स जैसे कि एयर कंडीशनर (AC) और एलईडी लाइट के लिए उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन योजना (PLI) को मंजूरी दे दी. इसके लिए सरकार ने अगले 5 साल में 6,238 करोड़ रुपये के उत्पादन से जुड़े प्रोत्साहन देने का बजट रखा है.

ग्लोबल सप्लाई चेन का हिस्सा बनाना
AC और LED Lights के लिए शुरू की गई इस पीएलआई योजना का मुख्य लक्ष्य देश में इनके कम्पोनेंट्स की मैन्युफैक्चरिंग का इकोसिस्टम तैयार करना है.साथ ही क्षेत्र में विनिर्माण क्षमता को बढ़ावा देते हुए भारत को ग्लोबल सप्लाई चेन का हिस्सा बनाना है.

सरकार देगी 4 से 6% का प्रोत्साहन
पीएलआई योजना के तहत सरकार एयर कंडीशनर और एलईडी लाइट के निर्माण में लगी कंपनियों को अगले पांच साल में उनके इंक्रीमेंटल प्रोडक्शन के आधार पर 4 से 6% का प्रोत्साहन देगी. इसमें वैश्विक निवेश को बढ़ावा देने के लिए अलग-अलग तरह के कलपुर्जों को ध्यान में रखते हुए अलग क्षेत्रों की पहचान की गई है.

एमएसएमई को भी फायदा
योजना की जानकारी देते हुए वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने एक प्रेस वार्ता में कहा कि इसमें वैश्विक कंपनियों के निवेश करने और भारत में विनिर्माण के लिए आने की उम्मीद तो है ही. साथ ही कलपुर्जों का अधिकतर निर्माण एमएसएमई क्षेत्र में होता है तो इस योजना से उन्हें भी मदद मिलेगी.

इतना ही नहीं इन कंपनियों को घरेलू स्तर पर बीआईएस और बीईई मानकों को पूरा करना होगा. वही इससे देश में वर्ल्ड क्लास प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनियों को भी खड़ा करने में मदद मिलेगी.

7,920 करोड़ के निवेश
पीआईबी की खबर के मुताबिक सरकार को AC और LED Lights के कम्पोनेंट्स के लिए लाई गई पीएलआई योजना से अगले 5 वर्षों के दौरान 7,920 करोड़ रुपये का निवेश आने की उम्मीद है. सरकार का अनुमान है कि इससे देश में 1,68,000 करोड़ रुपये मूल्य की वस्तुओं का उत्पादन जबकि 64,400 करोड़ रुपये मूल्य की वस्तुओं का निर्यात होगा. वहीं सरकार को 49,300 करोड़ रुपये तक का प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष राजस्व मिलेगा और देश में सीधे और परोक्ष तौर पर रोजगार के 4 लाख से अधिक अवसर पैदा होंगे.

‘कम्पोनेंट्स का पूरो इकोसिस्टम बनेगा’
इंडिया सेल्युलर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स एसोसिएशन (ICEA) के चेयरमैन पंकज महिन्द्रू ने कहा कि दूरसंचार उपकरण और आईटी हार्डवेयर के लिए पीएलआई स्कीम की घोषणा करने के बाद सरकार का नया निर्णय एक और विकास का कदम है. पीएलआई स्कीम इस तरह से देश में कम्पोनेंट्स बनाने का एक पूरा इकोसिस्टम तैयार करेगी. इससे भारत वैश्विक सप्लाई चेन का अहम हिस्सा बन सकेगा.

ये भी पढ़ें:

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें