scorecardresearch
 

गाय-भैसों को रोगों से मिलेगा छुटकारा, इस राज्य में दुधारू पशुओं का निशुल्क किया जा रहा टीकाकरण

Vaccination of Cow and Buffalo: बिहार समेत उत्तर भारत के तमाम राज्यों के किसान पशुपालन को काफी प्राथमिकता देते हैं. लेकिन हर साल पशुओं में बीमारियां फैलने की वजह से उनको काफी नुकसान होता है. इस बार बिहार सरकार के पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग ने गलाघोंटू और लंगड़ी रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत गाय और भैंसों को रोगों से बचाने के लिए निशुल्क टीकाकरण अभियान चलाया है.

Vaccination is being done in bihar to protect cows and buffaloes Vaccination is being done in bihar to protect cows and buffaloes
स्टोरी हाइलाइट्स
  • रोगों से बचाने के लिए पशुओं का टीकाकरण
  • पशुपालकों को निशुल्क दी जा रही है ये सुविधा

Vaccination of Cow & Buffalo in Bihar: ग्रामीण क्षेत्रों के ज्यादातर किसानों की आय का साधन खेती के अलावा पशुओं पर ही निर्भर है. यही वजह है कि किसानों के लिए पशुपालन एक प्रमुख व्यवसाय बनकर उभरा है. पशुओं में भी तमाम तरह की बीमारियां सामने आती हैं. जिसकी वजह कई पशुओं की असमय मौत की खबरें मिलती हैं. विभिन्न राज्य सरकार द्वारा पशुओं को बीमारी से बचाने के लिए कई तरह के टीकाकरण कार्यक्रम (Vaccination programme for Cattle and Buffalo) भी चलाए जाते हैं.

बिहार समेत उत्तर भारत के तमाम राज्य के किसान पशुपालन को काफी प्राथमिकता देते हैं. लेकिन हर साल पशुओं में बीमारियां फैलने की वजह से उनको काफी नुकसान होता है. इस बार बिहार सरकार पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग ने गलाघोंटू और लंगड़ी रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत गाय और भैंसों को रोगों से बचाने के लिए निशुल्क टीकाकरण अभियान चला रही है. 

इस कार्यक्रम के तहत संबंधित अधिकारियों की तरफ से घर-घर जाकर दुधारू गायों और पशुओं को टीका लगवाने का काम किया जा रहा है. पशुपालक किसी भी स्थिति में अपने पशुओं का टीकाकरण करवा लें.

इस कार्यक्रम को जिला पंचायत सदस्य सदस्य, मुख्य पंचायत समिति वार्ड समिति की देखरेख में किया जा रहा है. ऐसे में सरकार ने नोटिस जारी किया है कि अगर किसी भी स्थिति आपके पशु का टीकाकरण नहीं किया गया, इसके अलावा पशुपालकों से किसी भी प्रकार की राशि मांगी गई तो इसकी शिकायत पशुपालन निदेशालय के नं 0612-2230942 पर की जा सकती है.

कार्यक्रम काी अन्य जानकारियों के लिए पशु चिकित्सालय या संबंधित पशुपालन कार्यालय अथवा पशु स्वास्थ्य और उत्पादन संस्थान से प्राप्त की जा सकती है. इसके अलावा संपर्क नं  0612-2226049 पर भी कॉल कर जानकारी हासिल कर सकते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें