scorecardresearch
 

अमेरिका: भारतीय मूल की माला अडिगा बनीं बाइडेन की पत्नी जिल की सलाहकार

भारतीय मूल की माला अडिगा इससे पहले उच्च शिक्षा और सैन्य परिवारों के लिए निदेशक के रूप में बिडेन फाउंडेशन में काम कर चुकी हैं. ओबामा प्रशासन के दौरान भी अडिगा एसोसिएट अटार्नी जनरल की सलाहकार के तौर पर कार्यरत थीं.

माला अडिगा. माला अडिगा.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • भारतीय मूल की माला अडिगा को अहम जिम्मा
  • ओबामा प्रशासन में भी कर चुकी हैं काम

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन ने भारतीय मूल की महिला माला अडिगा को एक अहम जिम्मेदारी सौंपी है. माला को अमेरिका की होने वाली प्रथम महिला जिल बाइडेन की नीति निर्देशक बनाया है.

जिल अमेरिका में शिक्षा और कम्यूनिटी टीचिंग पर ध्यान केंद्रित करने की तैयारी में हैं इसलिए शिक्षा नीति को लेकर अनुभवी रहीं माला अडिगा को यह जिम्मेदारी दी गई है. माला इससे पहले जिल की वरिष्ठ सलाहकार रह चुकी हैं और उन्होंने बाइडेन के राष्ट्रपति चुनाव प्रचार अभियान में सीनियर पॉलिसी एडवाइजर की भूमिका निभाई थी.

वह इससे पहले उच्च शिक्षा और सैन्य परिवारों के लिए निदेशक के रूप में बाइडेन फाउंडेशन में काम कर चुकी हैं. ओबामा प्रशासन के दौरान भी अडिगा एसोसिएट अटार्नी जनरल की सलाहकार के तौर पर भी कार्यरत थीं.

सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक फ्यूचर फर्स्ट लेडी जिल बाइडेन की नीति निदेशक माला अडिगा होंगी. माला ने बाइडेन-हैरिस कैंपेन के दौरान वरिष्ठ नीति सलाहकार के रूप में कार्य किया था. जिल का कहना है कि वह शिक्षा और सैन्य परिवारों को प्राथमिकता देने का इरादा रखती हैं.

बता दें कि बाइडेन ने शुक्रवार को व्हाइट हाउस के कर्मचारियों के पदों को लेकर घोषणा की. बाइडेन फाउंडेशन के कार्यकारी निदेशक के रूप में कार्य कर चुकीं लुइसा टेरेल व्हाइट हाउस ऑफ़ लेजिस्लेटिव अफेयर्स के निदेशक के तौर पर काम करेंगी. रिपोर्ट में कहा गया है कि उनके पास ओबामा-बिडेन प्रशासन में विधान मामलों के लिए राष्ट्रपति के विशेष सहायक के रूप में कार्य करने का अनुभव है.

देखें- आजतक LIVE TV

ये भी पढ़ें-

 

 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें