scorecardresearch
 

कभी चीन को रौंद डाला था इस छोटे से देश ने, सड़कों पर ऐसा कत्लेआम मचाया कि रूह कांप जाए

चीन आज दुनिया की सबसे बड़ी ताकतों में से एक है. लेकिन एक वक्त ऐसा भी था जब चीन कमजोर हुआ करता था. उस पर छोटे से जापान ने कब्जा कर रखा था. उसकी सड़कों पर ऐसी क्रूरता दिखाई थी, जिसके बारे में जानकर किसी की भी रूह कांप जाए. चीन की सड़कों पर जापानी सेना ने 3 लाख से ज्यादा लोगों की हत्या कर दी थी. सैकड़ों-हजारों लोगों को कैदी बनाकर उन पर बायोलॉजिकल और केमिकल हथियारों का ट्रायल किया जाता था.

X
दूसरी बार जंग में जापानी सेना ने चीन में जमकर तबाही मचाई थी. (फाइल फोटो-Getty Images) दूसरी बार जंग में जापानी सेना ने चीन में जमकर तबाही मचाई थी. (फाइल फोटो-Getty Images)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 1894-1895 में हुआ था जापान-चीन में पहला युद्ध
  • चीन-जापान का दूसरा युद्ध 1937-1945 तक चला
  • चीन की सड़कों पर जापानी सैनिकों ने क्रूरता दिखाई

चीन आज दुनिया की सबसे बड़ी शक्तियों में से एक है. अमेरिका जैसे देश को चीन धमका देता है. अमेरिकी नेता नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा पर चीन ने अमेरिका को 'आग से न खेलने' की धमकी तक दे डाली थी. आज चीन की सेना में सक्रिय जवानों की संख्या 22 लाख से ज्यादा है. सबसे ज्यादा सक्रिय जवानों की संख्या के मामले में चीन की सेना दुनिया में सबसे बड़ी है.

लेकिन ये चीन कभी इतना कमजोर हुआ करता था कि जापान जैसे छोटे से देश ने उसको बुरी तरह रौंद दिया था. चीन की सड़कों पर कत्लेआम मचा दिया था. चीन और जापान के रिश्ते हमेशा से खटास भरे रहे हैं. शायद यही वजह है कि 2006 में जब जापान के उस समय के डिप्टी पीएम तारो आसो भारत दौरे पर आए थे, तो उन्होंने कहा था, '1500 सालों से भी ज्यादा लंबे इतिहास का ऐसा कोई वाकया नहीं है जब चीन के साथ हमारे रिश्ते ठीक रहे हों.'

आज जब चीन दुनिया की एक बड़ी ताकत बन चुका है. खुलेआम अमेरिका को धमका रहा है. ताइवान को जंग के लिए ललकार रहा है. तब इतिहास का वो दौर याद करना भी जरूरी है, जब छोटे से देश जापान ने चीन में कत्लेआम मचा दिया था.

जापानी सैनिक चीन के शहरों में घुस गए थे. (फाइल फोटो-Getty Images)

चीन की राजशाही के घुटने टिका दिए थे

चीन और जापान के बीच पहली लड़ाई 1 अगस्त 1894 से 17 अप्रैल 1895 तक चला था. उस समय जापान और चीन, दोनों ही जगह राजशाही थी. इस लड़ाई की वजह कोरिया बना था. कोरिया, चीन का खास दोस्त था. कोरिया के पास कोयला और आयरन बहुत था. जापान को कोरिया के प्राकृतिक संसाधन चाहिए था. 

जापान ने कोरिया से अपने कोयला और आयरन जैसे प्राकृतिक संसाधन मांगे, लेकिन चीन के कारण उसने मना कर दिया. 1884 में जापान ने कोरियाई सरकार के तख्तापलट की कोशिश भी की, जिसे चीन ने नाकाम कर दिया. उस वक्त कोरिया की जमीन पर जापान और चीन के बीच जंग भी हुई. चीन ने कोरिया के किंग को बचा लिया, लेकिन उसने जापान के सैकड़ों सैनिकों को मार दिया. आखिरकार समझौते के बाद ये जंग खत्म हुई.

10 साल बाद 1894 में जापानी समर्थक कोरियाई नेता किम ओक-क्यून की शंघाई में हत्या कर दी गई. उनके शव को चीनी युद्धपोत में रखकर कोरिया पहुंचा दिया गया. जापान ने इसे अपमान के तौर पर लिया. जापान के 8 हजार सैनिकों ने कोरिया पर चढ़ाई कर दी. इस लड़ाई में चीन भी कूदा और 1 अगस्त 1894 को जंग शुरू हो गई.

जापान की शाही सेना के आगे चीन की सेना कमजोर थी. मार्च 1895 तक जापानी सेना ने चीन के शेंडोंग प्रांत और मनचुरिया पर कब्जा कर लिया. जापानी सेना ने चीन के समुद्री कारोबार के ठिकानों को निशाना बनाया. आखिरकार चीन ने हार मान ली. 

1895 में जापान-चीन में समझौता हुआ, जिसके बाद जंग खत्म हुई. समझौते के तहत, चीन ने कोरिया की आजादी को मान्यता दी. साथ ही उसे ताइवान, पेस्काडोरेस और मनचुरिया में लिआडोंग जापान को सौंपना पड़ा. 

जापानी सैनिक एडवांस्ड हथियारों से लैस थी. (फाइल फोटो-Getty Images)

चीन को मांगें मानने के लिए मजबूर किया

1911 में चीन में राजशाही का अंत हो गया. 1914 में दूसरा विश्व युद्ध शुरू हुआ. जापान इस युद्ध के बड़े खिलाड़ियों में था. जनवरी 1915 में जापान ने चीन को 21 मांगों का एक पत्र भेजा. मई में जापान ने चीन को मांगें नहीं मानने पर युद्ध की धमकी दे दी. आखिरकार चीन को जापान की मांगें माननी पड़ी. इससे चीन पर जापान की पकड़ और मजबूत हो गई.

मांगें मनवाने के बाद चीन को लेकर जापान थोड़ा शांत हो गया. लेकिन 1931 में मनचुरिया के मुकदेन में एक घटना ने जापानियों को मनचुरिया पर आक्रमण करने का बहाना दे दिया. एक बार यहां स्थापित होने के बाद जापानियों ने एक कठपुतली सरकार बनाई और क्विंग राजवंश के आखिरी राजा पुयी को यहां का प्रमुख बना दिया.

ये वो दौर था जब चीन में राष्ट्रवादी सरकार कुओमिंतांग और कम्युनिस्ट पार्टी में गृह युद्ध छिड़ा हुआ था. नतीजा ये हुआ कि चीन की राष्ट्रवादी सरकार को जापान से ज्यादा कम्युनिस्टों से निपटने की जल्दी थी. 

जुलाई 1937 में जापान ने फिर से चीन के खिलाफ जंग का ऐलान कर दिया. जापानी सेना ने चीनी सेना के जवानों पर खुलेआम गोलियां चलाईं और उनकी हत्या कर दी. जापान से निपटने के लिए राष्ट्रवादी और कम्युनिस्ट साथ तो आए, लेकिन मन से साथ नहीं थे. इससे जापान को फायदा पहुंचा. जापान की सेना भी मजबूत थी और उनके पास उस वक्त के एडवांस्ड हथियार भी थे. चीन की सेना जापान के आगे ढेर होती गई. जापानी सेना ने अपने टैंक चीन पर चढ़ा दिए, जबकि चीन के पास उस समय एक भी टैंक नहीं था.

जापान ने अपनी पहली लड़ाई चीन के पूर्वी तट पर कब्जा कर जीत ली. करीब 5 लाख जापानी सैनिक शंघाई, नानजिंग समेत चीन के कई प्रांतों में घुस गए. और जहां-जहां सैनिक घुस नहीं पाए, वहां जापानी वायुसेना ने बमबारी कर तबाही मचाई. जापानी सेना एक-एक कर चीनी प्रांतों पर कब्जा करने लगी. नानजिंग प्रांत से चीन की सरकार चलती थी, वहां से भी सरकार को भगा दिया गया.

जमीन से गोलियां और हवा से बम बरसाती थी जापानी सेना. (फाइल फोटो-Getty Images)

जापानी सैनिकों की क्रूरता

जापानी सैनिक अपनी क्रूरता के लिए कुख्यात थे. उन्होंने चीन की सड़कों पर खुलेआम कत्लेआम मचाया. महिलाओं के साथ बलात्कार किया गया. दिसंबर 1937 में नानजिंग की सड़कों ने जापानी सैनिकों की भयानक क्रूरता देखी. इसे अक्सर 'रेप ऑफ नानजिंग' कहा जाता है. ऐसा अनुमान है कि उस समय नानजिंग में जापानी सैनिकों ने 3 लाख लोगों की हत्या की थी और इनमें से ज्यादातर आम लोग थे.

कुछ रिपोर्ट्स में दावा किया जाता है कि उस समय जापानी सैनिकों ने चीनी नागरिकों को जिंदा दफना दिया था. सैकड़ों-हजारों की मशीन गन से हत्या कर दी. उस समय जापानी सैनिक चीनी महिलाओं को 'कम्फर्ट वुमन' कहकर अपने साथ ले जाते थे और उनके साथ बलात्कार करते थे. चीन को उस समय सोवियत संघ (अब रूस) का समर्थन जरूर था, लेकिन जापान की सेना के आगे सब कमजोर थे.

जापानी सैनिकों ने लाखों चीनी नागरिकों को मौत के घाट उतार दिया था. (फाइल फोटो-Getty Images)

इतना ही नहीं, कुछ रिपोर्ट्स बताती हैं कि जापानियों ने चीन में एक सीक्रेट बेस भी बना रखा था, जहां इंसानों पर बायोलॉजिकल और केमिकल टेस्ट किए जाते थे. कैदियों को चेचक, हैजा, टाइफाइड जैसी बीमारियों के इंजेक्शन दिए जाते थे. उन पर टेस्ट किया जाता था कि व्यक्ति बिना खाए कब तक जिंदा रह सकता है और कितनी सर्दी सह सकता है. ऐसे भी कहा जाता है कि उस दौर में जापान ने चीन के निन्गबो और चेंगडे जैसे शहरों पर बायोलॉजिकल हथियारों का इस्तेमाल कर ब्यूबोनिक प्लेग फैला दिया था. जापानी सैनिक 'सबको मारो, सबको लूटो, सबको नष्ट कर दो' जैसे नारे देते थे.

जापानी सेना चीन को बुरी तरह तबाह कर चुकी थी. 1939 में दूसरा विश्व युद्ध शुरू हो गया. अमेरिका भी इस जंग में कूद गया. इससे चीन को मदद मिली. चीन जापान के खिलाफ जंग का मैदान मिला. अमेरिका ने चीन को सैन्य मदद मुहैया कराई. 

1942 तक चीन में कम्युनिस्ट पार्टी मजबूत हो गई. उसकी रेड आर्मी में भी जवानों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही थी. जापान के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और सोवियत संघ जैसी शक्तियां साथ आ गई थीं. अगस्त 1945 में अमेरिका ने जापान के हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु हमला कर दिया. जापान कमजोर हो चुका था. सोवियत सेना ने मनचुरिया में जापानियों को सरेंडर करने को मजबूर कर दिया. चीन में भी जापानी सेना और राष्ट्रवादी सरकार को घुटने टेकने पड़े. आखिरकार चीन-जापान की ये जंग खत्म हुई. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें