scorecardresearch
 
ट्रेंडिंग

7 रुपये में 35 KM चलती है ये पुरानी बाइक, जुगाड़ से इलेक्ट्र‍िक बना दी 18 साल पुरानी गाड़ी

 7 रुपये में 35 KM चलती है ये पुरानी बाइक, जुगाड़ से इलेक्ट्र‍िक बना दी 18 साल पुरानी गाड़ी
  • 1/6

रोज बढ़ते पेट्रोल के दाम जेब ढीली कर रहे हैं. इसके लिए मध्य प्रदेश के बैतूल के देसी इंजीनियर ने एक अनोखा विकल्प निकाल लिया है. उषाकान्त नाम के व्यक्ति ने जुगाड़ करके अपनी पुरानी बाइक को इलेक्ट्रिक बाइक में तब्दील कर लिया है जो प्रदूषण रहित है और बिना पेट्रोल के चलती है.

 7 रुपये में 35 KM चलती है ये पुरानी बाइक, जुगाड़ से इलेक्ट्र‍िक बना दी 18 साल पुरानी गाड़ी
  • 2/6

उषाकान्त, बैतूल में बिजली विभाग में लाइनमैन हैं और उसी ने इस अनोखी बाइक को बनाया है. उषाकान्त का कहना है कि मेरे पास 18 साल पुरानी बाइक थी, उसको इलेक्ट्रिक बाइक बनाया है. इसमें 12 वाट की 4 बैटरी लगाई है, साथ ही एक मोटर लगाई है जिससे ये बाइक चल रही है.

 7 रुपये में 35 KM चलती है ये पुरानी बाइक, जुगाड़ से इलेक्ट्र‍िक बना दी 18 साल पुरानी गाड़ी
  • 3/6

ये बाइक 6 घंटे में चार्ज होती है और इसमें एक यूनिट बिजली का खर्च आता है. उससे ये एक बार में 35 किलोमीटर चल जाती है. ये वास्तव में बेहद हैरान करने वाला प्रयोग है कि 7 रुपये की एक यूनिट बिजली में 35 किलोमीटर. 
 

 7 रुपये में 35 KM चलती है ये पुरानी बाइक, जुगाड़ से इलेक्ट्र‍िक बना दी 18 साल पुरानी गाड़ी
  • 4/6

उषाकान्त के साथी दयाराम का कहना है कि बढ़ती महंगाई के समय घूमना भी महंगा पड़ता है और खर्च ज्यादा आता है. नई बाइक खरीदने पर 90,000 से एक लाख रुपये तक का खर्च आता. इसलिए उषाकान्त ने पुरानी बाइक को इलेक्ट्रिक बना लिया जिससे पेट्रोल की बचत हो रही है और प्रदूषण का झंझट भी नहीं है.

 7 रुपये में 35 KM चलती है ये पुरानी बाइक, जुगाड़ से इलेक्ट्र‍िक बना दी 18 साल पुरानी गाड़ी
  • 5/6

उषाकान्त अपने गांव से ऑफिस इसी बाइक से आते हैं और साथ मे उनके मित्र दयाराम भी आते है, जो उन्हीं के साथ बिजली विभाग में नौकरी करते हैंं. 

 7 रुपये में 35 KM चलती है ये पुरानी बाइक, जुगाड़ से इलेक्ट्र‍िक बना दी 18 साल पुरानी गाड़ी
  • 6/6

उषाकान्त का कहना है कि यदि वो अपनी पुरानी बाइक को कबाड़ में बेचते तो उनको बहुत कम पैसे मिलते. बाइक पुरानी थी और उसका रजिस्ट्रेशन भी खत्म हो गया था. इसलिये बाइक में 28 हज़ार रुपये लगाकर इसे इलेक्ट्रिक बना दिया. पहले पेट्रोल की बाइक में रोज 80 से 100 रुपये खर्च होते थे, अब उन्हें दो से ढाई हजार रुपये महीने की बचत होती है.