scorecardresearch
 

बालाघाट

बालाघाट

बालाघाट

बालाघाट

बालाघाट (Balaghat) भारत के मध्य प्रदेश राज्य (Madhya Pradesh) का एक जिला है. यह बालाघाट जिले का प्रशासनिक मुख्यालय भी है. वैनगंगा (Vaingagnga) नदी शहर के बगल में बहती है. शहर को मूल रूप से ‘बुरहा’ कहा जाता था, लेकिन इस नाम को ‘बालाघाट’ से बदल दिया गया, जो मूल रूप से केवल जिले का नाम था. इसका क्षेत्रफल 9,229 वर्ग किलोमीटर है (Balaghat Geographical Area).

बालाघाट जिले में एक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र और 8 विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र हैं (Balaghat Assembly constituency) 

2011 जनगणना के आंकड़ों के मुताबिक बालाघाट की जनसंख्या (Balaghat Population) 17.02 लाख है और यहां प्रति वर्ग किलोमीटर 184 लोग रहते हैं (Density). यहां का लिंग अनुपात (Sex Ratio) 1021 है. इसकी 77.09 फीसदी जनसंख्या साक्षर है. इनमें पुरुष 85.36 फीसदी और महिलाओं की साक्षरता दर 69.04 फीसदी है. (Balaghat literacy)

बालाघाट जिला वर्तमान में रेड कॉरिडोर का हिस्सा है (Red Corridor). बालाघाट जिले का गठन 1867-1873 के दौरान भंडारा, मांडिया और सिवनी जिलों के कुछ हिस्सों को मिलाकर किया गया था. इसका नाम ‘घाटों के ऊपर’ का प्रतीक है और इस तथ्य के कारण है कि जिले के गठन में सरकार का मूल उद्देश्य घाटों के ऊपर के इलाकों के उपनिवेश को प्रभावित करना था (Formation of Balaghat). 

बालाघाट जिला, प्राकृतिक सुंदरता, खनिज भंडार और वनों से भी समृद्ध है. भारत में लगभग 80% मैंगनीज का उत्पादन बालाघाट जिले से होता है. मलंजखंड में हाल ही में खोजा गया तांबे का भंडार देश में सबसे बड़ा माना जाता है. बॉक्साइट (Bauxite), कानाइट (Kyanite), संगमरमर (Marble), डोलोमाइट (Dolomite), मिट्टी (Clay) और चूना पत्थर (Limestone) जिले के अन्य मुख्य खनिज हैं (Balaghat Economy). 

कान्हा टाइगर रिजर्व (Kanha Tiger Riserve), जिसे कान्हा राष्ट्रीय उद्यान भी कहा जाता है, भारत के बाघ अभयारण्यों में से एक है और यहां के प्रमुख पर्यटक स्थलों में शामिल है (Kanha National Park, Bakaghat).
 

और पढ़ें

बालाघाट न्यूज़