scorecardresearch
 

Apple ने जासूसी सॉफ्टवेयर Pegasus बनाने वाली कंपनी पर किया केस, कोर्ट से की ये मांग

Apple ने स्पाईवेयर मेकर NSO Group पर कोर्ट केस किया है. Apple ये केस iPhone और इसके बनाए दूसरे डिवाइस को टारगेट करने के लिए किया है.

Apple Apple
स्टोरी हाइलाइट्स
  • Apple ने NSO Group पर कोर्ट केस किया है
  • पिछले कुछ टाइम से NSO Group काफी विवादों में रहा है

स्पाईवेयर बनाने वाली पॉपुलर कंपनी NSO Group की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं. Apple ने स्पाईवेयर मेकर NSO Group पर कोर्ट केस किया है. Apple ने ये केस iPhone और इसकी बनाई दूसरी डिवाइस को टारगेट करने के लिए किया है. Apple ने कहा कि Pegasus स्पाईवेयर स्कैंडल के लिए इजरायली कंपनी NSO Group को जिम्मेदार ठहराना चाहिए. 

पिछले कुछ टाइम से NSO Group काफी विवादों में रहा है. इस पर आरोप है इसके बनाए Pegasus  स्पाईवेयर से एक्टिविस्ट, जर्नलिस्ट और पॉलिटिशियन की जासूसी करवाई जा रही थी. कुछ समय पहले ही अमेरिकन ग्रुप्स और NSO ग्रुप के बीच संबंध पर प्रतिबंध लगा दिया गया था. 


Apple ने अपने स्टेटमेंट में बताया कि यूजर्स को नुकसान ना पहुंचे इसके लिए कंपनी NSO Group को किसी भी ऐपल सॉफ्टवेयर, सर्विस और डिवाइस से यूज करने से बैन लगाने की मांग की है. इसमें आगे बताया गया है कि NSO Group सॉफिस्टिकेटेड, स्टेट स्पॉन्सर्ड सर्विलांस टेक्नोलॉजी का यूज करके हाइली टारगेटेड  स्पाईवेयर का यूज करके विक्टिम पर नजर रखते हैं. 

ये स्पाईवेयर डिवाइस को तब भी इन्फेक्ट कर सकता था जब यूजर ने किसी मैलेशियस लिंक या मैसेज पर क्लिक नहीं किया है. इसको लेकर ऐपल सितंबर में एक फिक्स भी जारी किया था. ऐपल की इस खामी को zero-click कहा जिससे टारगेटेड डिवाइस करप्ट हो जाता था. 

इसे साइबर सिक्योरिटी वॉचडॉग Citizen Lab के रिसर्चर ने खोजा था. RICHMOND, Va. (AP) ने ये रिपोर्ट किया है कि  Apple इजरायली स्पाईवेयर कंपनी NSO Group को अपने डिवाइस को क्रैक करने से रोकना चाहता है. 


Pegasus स्पाईवेयर को लेकर भारत में भी काफी विवाद हुआ था. इसके जरिए कई भारत के कई पत्रकारों पर नजर रखी गई. NSO Group के अनुसार ये अपने स्पाईवेयर को सिर्फ सरकार को ही बेचता है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें