scorecardresearch
 
टेक न्यूज़

भारत की बिजली कंपनी और सरकारी सिस्टम को निशाना बना रहे हैं पाकिस्तानी हैकर्स

Cyber Attack
  • 1/6

साइबर अटैक अब काफी बढ़ता जा रहा है. कई साइबर अटैक के पीछे चीन का हाथ होता है. अब पाकिस्तान के भी इसमें शामिल होने की रिपोर्ट आई है. इस साल की शुरूआत में एक नए मैलवेयर की मदद से पाकिस्तान स्थित साइबर अटैकर्स ने भारत में ऊर्जा कंपनियों और कम से कम एक सरकारी संगठन को निशाना बनाया है. 

Cyber Attack
  • 2/6

साइबर अटैकर्स नए प्रकार के रिमोट एक्सेस ट्रोजन (RAT) को इंस्टॉल कर दिया था. इससे विक्टिन के कंप्यूटर पर नजर रखी जा सकती है. इतना ही नहीं अटैकर्स ने भारत में शिकार हुए डोमेन URL का यूज किया. 

 

Cyber Attack
  • 3/6

इस साइबर अटैक को सबसे पहले Lumen Technologies के ब्लैक लोटस लैब्स की सिक्योरिटी टीम ने रिपोर्ट किया. इसमें बताया गया है कि हैकर्स ग्रुप्स को जो IP एड्रेस दिया गया है वो पाकिस्तान के मोबाइल डेटा ऑपरेटर CMPak Limited का है. इसे पाकिस्तान में Zong 4G के नाम से भी जाना जाता है. ये मोबाइल ऑपरेटर चाइना मोबाइल कम्युनिकेशन्स कॉर्पोरेशन का हिस्सा है. 

Cyber Attack
  • 4/6

India Today TV से बातचीत में ब्लैक लोटस लैब्स के हेड Micheal Benjamin ने बताया कि कई इंडिकेटर्स मौजूद है जो बताते हैं कि अटैकर्स पाकिस्तान में स्थित है. ये सभी भारत को टारगेट कर रहे थे. ये पावर कंपनियों और सरकारी इकाई को टारगेट कर रहे थे. 

Cyber Attack
  • 5/6

पाकिस्तान बेस्ड हैकर्स के नेटवर्क ने अफगानिस्तान के भी इंफ्रास्ट्रक्चर को टारगेट किया था. ये भी भारत में किए गए साइबर हमले की तरह किया गया था. हालांकि भारत से कम क्षति अफागानिस्तान को पहुंचाया गया. इसके लिए अटैकर्स नए मैलवेयर का उपयोग करते हैं जिसके बारे में पब्लिक को पता नहीं है. इसके अलावा वो सिक्योरिटी कम्युनिटी के पहचाने मैलवेयर का भी यूज कर रहे हैं.   

Cyber Attack
  • 6/6

हाल ही में चीनी साइबर अटैक्स को पिछले साल मुंबई में हुए पावर आउटेज से जोड़ा गया था. इस पावर आउटेज की वजह से जरूरी सर्विस जैसे ट्रेन भी प्रभावित हुई थी. International Institute for Strategic Studies (IISS) की एक रिपोर्ट के अनुसार भारत ने साइबर सिक्योरिटी मजबूत करने में काफी कम काम किया है.