scorecardresearch
 
टेक न्यूज़

भारतीय भाषाओं के लिए देशी Koo ने लॉन्च किया ये खास फीचर, पढ़ें क्या है खास

Koo
  • 1/6

देशी माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म Koo ने एक नए फीचर की घोषणा की है. इस फीचर का नाम Koo ने Talk to Type रखा है. इससे यूजर बिना टाइप किए बस बोलकर अपने विचारों को इस प्लेटफॉर्म पर शेयर कर सकते हैं. ये उन सभी भारतीय भाषाओं को सपोर्ट करेगा जो Koo पर फिलहाल उपलब्ध है. 

Koo
  • 2/6

Koo ने कहा ये उनके लिए काफी उपयोगी साबित होगा जिन्हें लोकल भाषा टाइप करने में दिक्कत होती है. वो बोल कर अपनी भाषा में टाइप कर सकते हैं. 

Koo
  • 3/6

Koo को पिछले महीने काफी लोकप्रियता मिली थी जब भारत सरकार के कई मंत्रियों ने इसपर अपना अकाउंट बनाया था. भारत सरकार के पिछले साल दिए गए चैलेंज आत्मनिर्भर भारत में Koo ऐप विनर बना था. Koo के को-फाउंडर Mayank Bidawatka ने कहा है ये फीचर भारत के क्रिएटर्स को ध्यान में रख कर बनाया गया है. 

Koo
  • 4/6

इस फीचर की मदद से यूजर्स बिना किसी कीबोर्ड कॉन्सेप्ट के भी आसानी से बोल कर टाइप कर सकते हैं. Koo पहला सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है जिसने इस फीचर को लॉन्च किया है. ये फीचर यूजर्स को फेसबुक, ट्विटर या किसी दूसरे ग्लोबल प्लेटफॉर्म पर नहीं मिलेगा.   

Koo
  • 5/6

Koo को माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म के तौर पर पिछले साल मार्च में लॉन्च किया गया था. इसे भारतीय भाषाओं में लॉन्च किया गया था. फरवरी में कंपनी ने घोषणा की चीनी इन्वेस्टर Shunwei Capital ने अपने माइनॉरिटी स्टेक को कंपनी से बेच दिया है. 

Koo
  • 6/6

नए इन्वेस्टर्स के तौर पर इसमें अभी पूर्व क्रिकेटर Javagal Srinath, BookMyShow के फाउंडर Ashish Hemrajani, उड़ान के को-फाउंडर Sujeet Kumar, फ्लिपकार्ट के सीईओ Kalyan Krishnamurthy और Zerodha के फाउंडर Nikhil Kamat शामिल हैं. Shunwei Capital का स्टेक कंपनी में 9 परसेंट है और कहा गया ये बिजनेस से हटने के प्रोसेस में है.