scorecardresearch
 

Tokyo Paralympics: DM सुहास गोल्ड मेडल जीतने से एक कदम दूर, प्रमोद भगत भी फाइनल में पहुंचे

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी और गौतम बुद्ध नगर के जिलाधिकारी सुहास एल यथिराज का टोक्यो पैरालंपिक में शानदार प्रदर्शन जारी है. एसएल4 वर्ग में उन्होंने फाइनल में स्थान बना लिया है.

X
 Suhas Yathiraj.  Suhas Yathiraj.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सुहास का टोक्यो पैरालंपिक में शानदार प्रदर्शन जारी
  • एसएल4 वर्ग में उन्होंने फाइनल में स्थान बना लिया

भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी और गौतम बुद्ध नगर के जिलाधिकारी सुहास एल यथिराज का टोक्यो पैरालंपिक में शानदार प्रदर्शन जारी है. एसएल4 वर्ग में उन्होंने फाइनल में स्थान बना लिया है. सुहास के पास गोल्ड मेडल जीतने का सुनहरा मौका है. फाइनल में अब रविवार को उनका सामना वर्ल्ड नंबर-1 लुकास मजूर से होगा, जिन्होंने सेमीफाइनल में भारत के तरुण ढिल्लों को मात दी.  

38 साल के सुहास ने पुरुष एकल के सेमीफाइल मुकाबले में इंडोनेशिया के फ्रेडी सेतियावान को 31 मिनट में 21-9, 21-15 से हराया. एसएल3 वर्ग में प्रमोद भगत भी फाइनल में पहुंच गए हैं. यह खिताबी मुकाबला शनिवार को ही भारतीय समयानुसार दोपहर 3 बजे से खेला जाएगा. 

अपने ग्रुप में तीन में से दो जीत दर्ज करने के बाद सुहास ने सेमीफाइनल के लिए क्वालिफाई किया था. सुहास को ग्रुप के आखिरी मुकाबले में शुक्रवार को फ्रांस के शीर्ष वरीय लुकास मजूर से 15-21 17-21 से हार का सामना करना पड़ा था. 

एसएल वर्ग में वो खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं, जिन्हें खड़े होने में दिक्कत हो या निचले पैर का विकार हो, जबकि एसयू में ऊपरी हिस्से के विकार वाले एथलीट खेलते हैं. सुहास के एक टखने में समस्या है. उन्होंने उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर के जिलाधिकारी के रूप में कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में अहम भूमिका निभाई है.

ऐसा रहा सुहास का मुकाबला- 

दुनिया के तीसरे नंबर के खिलाड़ी सुहास को पहला गेम जीतने में कोई खास दिक्कत नहीं आई और उन्होंने महज 11 मिनट में यह गेम जीत लिया. पहले गेम में अंतराल के समय सुहास ने तो 11-1 की बढ़त बना ली थी. इस दौरान सुहास ने इंडोनेशियाई खिलाड़ी पर दबदबा बनाते हुए लगातार नौ प्वाइंट हासिल किए. 

दूसरे गेम में फ्रेडी सेतियावान ने भारतीय खिलाड़ी को टक्कर देते हुए शुरुआत में 5-5 की बराबरी कर ली थी. इसके बाद सुहास ने शानदार खेल दिखाते हुए अंतराल के समय 11-6 की बढ़त बना ली. फिर इंडोनेशियाई खिलाड़ी ने नौ प्वाइंट लेकर वापसी की कोशिश की, लेकिन यह नाकाफी साबित हुआ. अंततः सुहास ने 20 मिनट में दूसरा गेम जीतकर फाइनल में प्रवेश कर लिया.

प्रमोद भगत के लिए भी मौका

प्रमोद भगत ने भी फाइनल में जगह बना ली है. मेन्स सिंगल्स के एसएल3 क्लास के सेमीफाइनल में प्रमोद भगत ने जापान के डाइसुके फुजिहारा को 21-11, 21-16 से हराया. वर्ल्ड नंबर-1 प्रमोद का फाइनल में सामना ग्रेट ब्रिटेन के डेनियल बेथेल से होगा. 

शनिवार को खेले गए बैडमिंटन के अन्य मुकाबलों में मनोज सरकार और तरुण ढिल्लों को हार का सामना करना पड़ा. एसएल4 वर्ग के सेमीफाइनल में मनोज को ग्रेट ब्रिटेन के डेनियल बेथेल ने महज 38 मिनट में  21-8, 21-10 से हरा दिया. अब मनोज कांस्य पदक के मुकाबले में डाइसुके फुजिहारा का सामना करेंगे. 

वहीं, तरुण ढिल्लों को सेमीफाइनल में फ्रांस के लुकास मजूर के हाथों कड़े मुकाबले में शिकस्त झेलनी पड़ी. एसएल4 वर्ग के मैच में तरुण को फ्रांसीसी खिलाड़ी ने 63 मिनट तक चले मुकाबले में 21-16, 16-21, 21-18 से हरा दिया. अब ब्रॉन्ज मेडल के मुकाबले में तरुण का सामना इंडोनेशिया के फ्रेडी सेतियावान से होगा.

एसएच6 वर्ग में कृष्णा नागर भी फाइनल में पहुंच गए हैं.

ये भी पढ़ें -

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें