scorecardresearch
 

Tokyo Olympics: रियो की गलती दोहराने से बचेंगी मनिका बत्रा

भारत की शीर्ष टेबल टेनिस खिलाड़ी मनिका बत्रा दूसरी बार ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने जा रही हैं. मनिका बत्रा महिला एकल के अलावा अचंत शरत कमल के साथ मिक्स्ड डबल्स में भी चुनौती पेश करेंगी.

Manika Batra Manika Batra

मनिका बत्रा 
उम्र- 26 
खेल- टेबल टेनिस 
वर्ल्ड रैंकिंग - 62 (महिला एकल) 

भारत की शीर्ष टेबल टेनिस खिलाड़ी मनिका बत्रा दूसरी बार ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने जा रही हैं. मनिका बत्रा महिला एकल के अलावा अचंत शरत कमल के साथ मिक्स्ड डबल्स में भी चुनौती पेश करेंगी. मिक्स्ड डबल्स इवेंट में इस जोड़ी से पदक जीतने की काफी उम्मीदें हैं. 

दिल्ली में पैदा हुईं मनिका बत्रा ने महज चार साल की उम्र में टेबल टेनिस खेलना शुरू कर दिया था. 2011 में चिली ओपन के अंडर-19 कैटेगरी में रजत पदक जीतकर उन्होंने सुर्खियां बटोरीं. इसके बाद मनिका ने 2015 के राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस चैम्पियनशिप में दो रजत और एक कांस्य पदक जीता. 

2016 के साउथ एशियन गेम्स में वह तीन स्वर्ण (महिला युगल, मिश्रित युगल और महिला टीम इवेंट) पदक जीतने में कामयाब रहीं. उसी साल मनिका ने साउथ एशिया ग्रुप क्वालिफिकेशन से रियो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई किया था. हालांकि रियो में उनका प्रदर्शन काफी खराब रहा और वह महिला एकल के पहले ही दौर में हारकर बाहर हो गईं. 

मनिका बत्रा ने 2018 के राष्ट्रमंडल खेलों में यादगार प्रदर्शन करते हुए दो स्वर्ण समेत चार पदक जीते थे. मनिका बत्रा ने महिला एकल में वर्ग में सिंगापुर की यू मेंग्यू को हराकर स्वर्ण पदक पर कब्जा किया था. इसके साथ ही वह राष्ट्रमंडल खेलों के इतिहास में व्यक्तिगत स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला टेबल टेनिस खिलाड़ी बन गई थीं. 

टोक्यो का सफर: मनिका बत्रा ने मार्च 2021 में आयोजित एशियन ओलंपिक क्वालिफायर के जरिए टोक्यो ओलंपिक में जगह बनाई है. महिला एकल में मनिका ने प्रतियोगिता में सर्वोच्च रैंकिंग के आधार पर ओलंपिक का टिकट सुनिश्चित किया. वहीं, मिक्स्ड डबल्स में मनिका और अचंत शरत कमल फाइनल मुकाबले में कोरियाई जोड़ी सांग सु ली और जिही जनियोन को मात देकर क्वालिफाई करने में सफल रहे.

हालिया प्रदर्शन: मनिका बत्रा ने मार्च 2021 में आयोजित हुए डब्ल्यूटीटी स्टार कंटेंडर टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था. लेकिन वह टूर्नामेंट के दूसरे ही दौर में वर्ल्ड नंबर-3 जापानी खिलाड़ी मिमा इटो से पराजित हो गई थीं. इसके बाद मनिका विश्व एकल ओलंपिक क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंचने में कामयाब रहीं. जहां मोनाको की शियाओशिन यांग के हाथों 1-4 से हारने के बाद उन्हें इस टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें