scorecardresearch
 

IND vs AUS: टीम इंडिया से उलझेंगे ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी? कोच लैंगर ने दिया ये जवाब

ऑस्ट्रेलिया के मुख्य कोच जस्टिन लैंगर ने बुधवार को कहा कि उनकी टीम सीरीज में जब भारत के खिलाफ उतरेगी तो दुर्व्यवहार के लिए कोई जगह नहीं होगी, लेकिन दो टक्कर की टीमों के बीच उन्हें काफी छींटाकशी की उम्मीद है.

Justin Langer (@cricketcomau) Justin Langer (@cricketcomau)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • लैंगर बोले- मैदान पर दुर्व्यवहार के लिए जगह नहीं
  • ... लेकिन कोच को काफी छींटाकशी की उम्मीद
  • शुक्रवार से शुरू हो रही भारत-ऑस्ट्रेलिया की 'जंग'

ऑस्ट्रेलिया के मुख्य कोच जस्टिन लैंगर ने बुधवार को कहा कि उनकी टीम सीरीज में जब भारत के खिलाफ उतरेगी तो दुर्व्यवहार के लिए कोई जगह नहीं होगी, लेकिन दो टक्कर की टीमों के बीच उन्हें काफी छींटाकशी की उम्मीद है.भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच वनडे सीरीज का पहला मैच 27 नवंबर को हेगा.

स्वयं आक्रामक खिलाड़ी रहे लैंगर ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने मैदान के अंदर और बाहर बर्ताव पर काफी बात की है. किसी भी हाल में जीत दर्ज करने की अपने खिलाड़ियों की मानसिकता के लिए अतीत में ऑस्ट्रेलिया को काफी आलोचना का सामना करना पड़ा है, जिसके कारण टीम के रवैए और नैतिकता का विस्तृत विश्लेषण भी हुआ था.

लैंगर ने शुक्रवार को पहले वनडे के साथ शुरू हो रही वनडे सीरीज से पहले कहा, ‘लोग कहते हैं कि ऑस्ट्रेलिया में आप नर्वस हो जाते हैं, मुझे यकीन नहीं कि वे मैदान पर बातचीत के संदर्भ में कह रहे हैं. ऐसा इसलिए है कि वे कुछ बेहद बेहद शानदार खिलाड़ियों के खिलाफ खेल रहे हैं.’ 

उन्होंने कहा, ‘अगर आप वॉर्नी (शेन वॉर्न), ग्लेन मैक्ग्रा का सामना कर रहे हैं या स्टीव वॉ, एडम गिलक्रिस्ट या रिकी पोंटिंग को गेंदबाजी कर रहे हैं तो मैदान पर बोले जाने वाले कुछ शब्दों से अधिक यह आपको नर्वस करेगा.’ 

देखें: आजतक LIVE TV 

लैंगर ने कहा, ‘पिछले कुछ साल में हमने मैदान के अंदर और बाहर अपने बर्ताव पर चर्चा की है और हमने बात की है कि दुर्व्यवहार के लिए कोई जगह नहीं है. छींटाकशी के लिए काफी जगह है और यह प्रतिस्पर्धी रवैया है.’ 

लैंगर ने कहा कि अगामी सीरीज में खेलने वाले दिग्गज खिलाड़ियों को देखते हुए काफी प्रतिस्पर्धी ऊर्जा होगी. उन्होंने कहा, ‘कप्तान टिम पेन काफी मजाकिया हैं, विराट कोहली जो कर रहे हैं वह हमें पसंद हैं. आखिर में मैं वादा कर सकता हूं कि मैदान पर बोले जाने वाले शब्दों का दबाव से कुछ लेना देना नहीं है, यह इस पर निर्भर करता है कि आप किसके खिलाफ खेल रहे हैं.’
 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें