scorecardresearch
 

गुरुनाथ मयप्पन हैं कौन...

ऐसा पहली बार नहीं है कि देश की किसी प्रभावशाली हस्ती के दामाद का नाम भ्रष्टाचार के किसी केस में सामने आया हो. भारत के परिवारों में दामाद की सेवा का काफी ध्यान रखा जाता है, क्योंकि लोग दामाद को भगवान का रूप मानते हैं.

X
गुरुनाथ मयप्पन गुरुनाथ मयप्पन

ऐसा पहली बार नहीं है कि देश की किसी प्रभावशाली हस्ती के दामाद का नाम भ्रष्टाचार के किसी केस में सामने आया हो. भारत के परिवारों में दामाद की सेवा का काफी ध्यान रखा जाता है, क्योंकि लोग दामाद को भगवान का रूप मानते हैं.

बीसीसीआई अध्यक्ष और आईपीएल की चेन्नई सुपर किंग्स टीम के मालिक एन. श्रीनिवासन साहब भी अपवाद नहीं हैं, उन्होंने अपने दामाद गुरुनाथ मयप्पन को टीम का 'प्रिंसिपल' बना रखा है. स्वर्गीय दारा सिंह के पुत्र विन्दू की गिरफ्तारी के बाद जब ये खबर आई कि उनके फोन से अनेक कॉल्स चेन्नई की गई थीं, तो अनेक लोगों के मन में यही घंटी बजी कि कहीं विन्दू के फोन की घंटी श्रीनिवासन साहब के घर न बजी हो!

35 साल के मयप्पन चेन्नई के रहने वाले हैं. श्रीनिवासन की बेटी रूपा से उन्होंने प्रेम विवाह किया था. श्रीनिवासन ने अंतरजातीय शादी का विरोध किया था. पढ़ाई के दौरान स्कूल से निकाले गए थे मयप्पन.

मयप्पन को बेहद अंधविश्वासी माना जाता है. गोल्फ के शौकीन हैं मयप्पन. गुरुनाथ मयप्पन 9 करोड़ के यॉट के मालिक हैं. रियल एस्टेट का भी काम करते हैं मयप्पन.

मुम्बई क्राइम ब्रांच की टीम गुरुनाथ मयप्पन से पूछताछ करने के लिए चेन्नई पहुंच चुकी है. 38 वर्षीय गुरुनाथ केवल अपने ससुर जी का ही कारोबार नहीं संभालते, वे अपने पिता की ए. वी. एम. प्रोडक्शनस एंड एंटरटेनमेंट, ए. वी. एम. स्टूडियो और ए. वी. एम. कंस्ट्रक्शनस के मैनेजिंग डायरेक्टर भी हैं. ए. वी. एम. देश का सबसे पुराना स्टूडियो है और ये हिंदी, तमिल और तेलुगु फिल्में बनाते हैं. तो ऐसे में गुरुनाथ को 'Born with the silver spoon' कहना गलत नहीं होगा.

क्रिकेट के अतिरिक्त गुरुनाथ मोटर रेसिंग और गोल्फ टीमों में किस्मत आजमा चुके हैं. कहा जाता है कि उनको करीब से जानने वाले उन्हें 'प्रिंस गुरुनाथ' बुलाते हैं. सुनने में आया है कि वे अक्सर सबसे बड़ी शालीनता से मुस्कुरा कर बात करते हैं लेकिन एक पक्के व्यवसायी की तरह, बिजनेस से जुड़े फैसले लेने में बेहद कठोर हैं.

गुरुनाथ के पिता ए. वी. मयप्पन, जिन्हें ए. वी. एम. कहा जाता था, बेहद प्रख्यात फिल्म-मेकर थे. उन्हें तमिल सिनेमा के जनकों में से एक माना जाता है. ए. वी. एम. के पिता, यानि गुरुनाथ के दादाजी, अविची चेट्टीआर ग्रामोफोन बेचने वाले एक मशहूर स्टोर के मालिक थे. गुरुनाथ मयप्पन अपने पिता, दादा या ससुर की तरह बहुत ज्यादा चर्चा में रहना पसंद नहीं करते, लेकिन इस मौजूदा विवाद से शायद सारी कोर-कसार पूरी हो जाए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें