scorecardresearch
 

महादेव ने क्यों चुनी नंदी की ही सवारी? जानें मंदिर के बाहर पहले क्यों होते हैं इनके दर्शन

नंदी को भक्ति और शक्ति के प्रतीक माना गया है. कहा जाता है कि जो भी भगवान भोले से मिलना चाहता है नंदी पहले उसकी भक्ति की परीक्षा लेते हैं. भगवान शिव के प्रति नंदी की भक्ति और समर्पण की वजह से ही कलियुग में भी भगवान शिव के साथ नंदी की पूजा की जाती है.

शिव का वाहन नंदी बैल शिव का वाहन नंदी बैल
स्टोरी हाइलाइट्स
  • शिव का वाहन नंदी
  • शिव का सबसे बड़ा भक्त है नंदी
  • शिव से पहले होते हैं नंदी के दर्शन

नंदी को भगवान भोलेनाथ का वाहन माना जाता है. नंदी को भगवान शिव का द्वारपाल भी कहा जाता है. मान्यता है कि शिव तक अपनी श्रद्धा पहुंचाने के लिए नंदी को प्रसन्न करना जरूरी है. नंदी को बुद्धि और ज्ञान का प्रतीक भी माना गया है. शिव के मंदिर के बाहर हमेशा नंदी विराजित रहते हैं. आइए जानते हैं क्या है इसके पीछे का रहस्य.

शिव का सबसे बड़ा भक्त नंदी 

कहा जाता है कि असुरों और देवताओं के बीच हुए समुद्र मंथन में हलाहल विष को शिव ने पी लिया था. महादेव ने संसार को बचाने के लिए इस विष का पान कर लिया था. विषपान के समय विष की कुछ बूंदें जमीन पर गिर गईं जिसे नंदी ने अपने जीभ से साफ किया. नंदी के इस समर्पण भाव को देखकर शिव जी प्रसन्न हुए और नंदी को अपने सबसे बड़े भक्त की उपाधि दे दी.

शिव ने नंदी को क्यों चुना अपना वाहन? 

भगवान शिव ने कहा कि मेरी सभी ताकतें नंदी की भी हैं. अगर पार्वती की सुरक्षा मेरे साथ है तो वो नंदी के साथ भी है. बैल को भोला माना जाता है और काम बहुत करता है. वैसे ही शिवशंकर भी भोले, कर्मठ और काफी जटिल माने जाते हैं. कहा जाता है कि इसीलिए शिव ने नंदी बैल को ही अपने वाहन के रूप में चुना. नंदी की भक्ति की ही शक्ति है कि भोले भंडारी ना केवल उन पर सवार होकर तीनों लोकों की यात्रा करते हैं बल्कि बिना उनके वो कहीं भी नहीं जाते हैं.

नंदी की महिमा

नंदी को भक्ति और शक्ति के प्रतीक माना गया है. कहा जाता है कि जो भी भगवान भोले से मिलना चाहता है नंदी  पहले उसकी भक्ति की परीक्षा लेते हैं और उसके बाद ही शिव कृपा के मार्ग खुलते हैं. भोलेनाथ के दर्शन करने से पहले नंदी के कान में अपनी मनोकामना कहने की परंपरा है.

भगवान शिव के प्रति नंदी की भक्ति और समर्पण की वजह से ही दोनों का साथ इतना मजबूत माना जाता है कि कलियुग में भी भगवान शिव के साथ नंदी की पूजा की जाती है. हर शिव मंदिर में नंदी के दर्शन पहले होते हैं और फिर भगवान शिव के दर्शन मिलते हैं. 

 

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें