scorecardresearch
 

अध्यात्म

Indira Ekadashi 2021

पितरों को मोक्ष दिलाने के लिए रखें इंदिरा एकादशी व्रत, जानें तिथि, महत्व और कथा

28 सितंबर 2021

Indira Ekadashi 2021 Vrat Date: पितृ पक्ष के दौरान इंदिरा एकादशी का व्रत भी बहुत महत्वपूर्ण माना गया है. इस एकादशी का व्रत करने वाले मनुष्य की सात पीढ़ियों तक के पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है.

रसोई में खत्म न होने दें ये चार चीजें, घर से चली जाएंगी लक्ष्मी

17 सितंबर 2021

Vastu Tips for Kitchen: घर की रसोई में ऐसी ही चार चीजें हैं, जिन्हें हमेशा ज्यादा मात्रा में लाएं, क्योंकि भूलकर भी ये चीजें रसोई में खत्म हो जाती हैं, तो नकारात्मकता का प्रभाव बढ़ने लगता है और माता लक्ष्मी रूठ जाती हैं.

ज्योतिष में पति-पत्नी के बीच कलह होने की वजह क्या होती है?

21 अगस्त 2021

किस्मत कनेक्शन के इस विशेष एपिसोड में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि ज्योतिष में पति-पत्नी के बीच विवाद होने की वजह क्या होती है. ज्योतिष के अनुसार- पति पत्नी के बीच ग्रहों की मित्रता आपसी तालमेल निर्धारित करती है. दोनों के ग्रह ही पति पत्नी के सम्बन्ध को अच्छा बनाते हैं. पति के लिए अच्छा वैवाहिक जीवन शुक्र से आता है. पत्नी के लिए यह काम बृहस्पति करता है. पति पत्नी का आपसी सम्बन्ध और तालमेल कुल मिलाकर शुक्र पर निर्भर करता है. जब शुक्र या बृहस्पति कमजोर हों तो वैवाहिक जीवन में काफी समस्याएं आती हैं. साथ ही बात होगी आपके दैनिक राशिफल की. ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो.

एस्ट्रो: क्या भगवान शिव का रंग नीला है?

15 अगस्त 2021

बहुत जगह पर भगवान शिव नीले रंग के दिखाई देते हैं. ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि क्या भगवान शिव का रंग नीला है? इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय से जानिए शिव के रंग को लेकर शास्त्रों में क्या उल्लेख किया गया है. ज्योतिष के अनुसार- शिव जी की गौर वर्ण के बताये जाते हैं. हालांकि ये बात जरूर है कि उनकी आभा नीली थी. विष को गले में रोक लेने के कारण, उनका गला अवश्य नीला है. देखें वीडियो.

क्या है शिव ताण्डव स्तोत्र? जानें- पाठ से लाभ और मंत्र कैसे पढ़ें

15 अगस्त 2021

शिव ताण्डव स्तोत्र परम शिवभक्त लंकापति रावण द्वारा गाया भगवान शिव का स्तोत्र है. यह स्तुति छन्दात्मक है और इसमें बहुत सारे अलंकार हैं. माना जाता है कि रावण जब कैलास लेकर चलने लगा तो शिव जी ने अंगूठे से कैलास को दबा दिया. फलस्वरूप कैलास वहीं रह गया और रावण दब गया. तब रावण ने शिव जी को प्रसन्न करने के लिए जो स्तुति की. वह शिव तांडव स्तोत्र कहलाई. जहां रावण दबा था , वह स्थान राक्षस ताल के नाम से प्रसिद्ध हुआ. इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि क्या है शिव ताण्डव स्तोत्र? साथ में जानें, आज का आपका दिन कैसा रहेगा, दिशाशूल, नक्षत्र-राहुकाल. देखें वीडियो.

सावन में रामचरितमानस के पाठ से मिलेगी शिव कृपा?

12 अगस्त 2021

रामचरितमानस के पाठ से भगवान शिव की भी कृपा बरसती है. और सावन के महीने में पाठ करने से विशेष लाभ मिलता है. पाठ के पूर्व शिव की उपासना अवश्य करें. इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि शिव को प्रसन्न करने के लिए कौन सा पाठ जरूर करें. महान कवि तुलसीदास की रचना में कई अनमोल बातें लिखी हैं. जो कि जीवन के कई मोड़ पर मनुष्य को मदद करती है. साथ में जानें, आज का आपका दिन कैसा रहेगा, दिशाशूल, नक्षत्र-राहुकाल. देखें वीडियो.

क्या सुन्दरकाण्ड का पूरा पाठ एक बार में ही करना चाहिए?

12 अगस्त 2021

भगवान हनुमान को जल्द प्रसन्न करने के लिए सुन्दरकाण्ड का पाठ किया जाता है. सुन्दरकाण्ड रामचरित मानस का सबसे प्रख्यात पार्ट है. सुन्दरकाण्ड के पाठ से नकारत्मक ताक्त दूर रहती हैं. इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे की क्या सुन्दरकाण्ड का पूरा पाठ एक बार में ही करना चाहिए? ज्योतिष के अनुसार- सुंदरकांड का पाठ एक बार में भी कर सकते हैं. और रुक रूककर भी कर सकते हैं. वैसे अगर रुक रूककर करें तो रोज एक ही समय पर करें. इसमें किसी भी तरह का गैप न आने दें. देखें वीडियो.

सावन में घर पर इस शि‍वल‍िंंग की करें स्थापना, दूर होंगी बीमारियां

10 अगस्त 2021

धर्मशास्त्रों में पारद शिवलिंग को साक्षात शिव का स्वरूप बताया गया है. इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि अगर घर का ज्यादा पैसा बीमारियों में जाता हो तो क्या करें. ज्योतिष के अनुसार घर में पारद शिवलिंग की स्थापना करें. अभी सावन का महीना चल रहा है. अगर इस वक्त पारद शिवलिंग की स्थापना करेंगे तो और शुभ होगा. पारद शिवलिंग की नियमित रूप से जल अर्पित करें. महीने में एक बार किसी निर्धन को अन्न का दान करें. देखें वीडियो.

भगवान शिव के इस स्वरूप से दूर होती हैं ग्रहों की बाधा, जानें पूजन विधि

09 अगस्त 2021

ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय इस वीडियो में भगवान शिव के उस स्वरूप के बारे में चर्चा करेंगे जिससे तमाम ग्रह नियंत्रित होते हैं और साथ में जानेंगे ग्रहों की बाधा दूर करने के लिए इस स्वरूप की पूजा कैसे करें. ज्योतिष के अनुसार- समुद्र मंथन के दौरान जब हलाहल विष निकला तो शिव जी ने मानवता की रक्षा के लिए उस विष को पी लिया. उन्होंने विष को अपने कंठ में ही रोक लिया. जिससे उनका कंठ नीला हो गया. नीला कंठ होने के कारण, शिव जी के इस स्वरूप को नीलकंठ कहा जाता है. इस स्वरुप की उपासना करने से शत्रु बाधा, षड़यंत्र और तंत्र मंत्र जैसी चीज़ों का असर नहीं होता. सावन के सोमवार को शिव जी के नीलकंठ स्वरुप की उपासना करने के लिए , शिव लिंग पर गन्ने का रस की धारा चढ़ाएं. इसके बाद नीलकंठ स्वरुप के मंत्र ॐ नमो नीलकंठाय का जाप करें. ग्रहों की हर बाधा समाप्त होगी. देखें वीडियो.

जानें, भगवान शिव के नटराज स्वरूप की पूजा करने से क्या मिलेगा लाभ

09 अगस्त 2021

ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय इस वीडियो में बात करेंगे कि भगवान शिव के किस स्वरूप की पूजा करने से आपको ज्ञान, विद्या, संगीत और कला का वरदान मिलता है. ज्योतिष के अनुसार शिव ने ही दुनिया में समस्त नृत्य संगीत और कला का आविष्कार किया है. नृत्य कला के तमाम भेद और सूक्ष्म चीजें भी शिव ने अपने शिष्यों को बताई और समझाईं हैं. उन्होंने ऐसे नृत्यों का सृजन किया जिसका असर हमारे मन शरीर और आत्मा पर पड़ता है.जीवन में सुख और शांति के लिए तथा आनंद का अनुभव करने के लिए नटराज स्वरुप की पूजा की जाती है. ज्ञान, विज्ञान, कला, संगीत और अभिनय के क्षेत्र में सफलता के लिए भी इनकी पूजा उत्तम होती है. सावन के सोमवार को घर में सफेद रंग के नटराज की स्थापना सर्वोत्तम मानी जाती है. इनकी उपासना में सफ़ेद रंग के फूल अर्पित करें. देखें वीडियो.

Sawan Somvar: जानें दक्षिणमुखी शिवलिंग की महिमा क्या है

09 अगस्त 2021

मंदिर के पौराण‍िक इतिहास की बात करें तो महाकालेश्वर मंदिर भारत के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है. यह मध्य प्रदेश में स्थित है. स्वयंभू, भव्य और दक्षिणमुखी होने के कारण महाकालेश्वर महादेव की अत्यन्त पुण्यदायी महत्ता है. इस वीडियो में ज्योतिष शैलैंद्र पांडेय बात करेंगे की दक्षिणमुखी शिवलिंग की महिमा क्या है. ज्योतिष के अनुसार- दक्षिणमुखी शिवलिंग अत्यंत विशेष प्रकार का शिवलिंग है. शिव जी के इस मुख को अघोर कहा जाता है. उज्जैन में स्थापित शिवलिंग दक्षिणमुखी शिवलिंग ही है. इसका दर्शन पूजन करने से समस्त प्रकार की ग्रह बाधाओं और तंत्र मन्त्र का नाश होता है. देखें वीडियो.

कौन हैं पशुपतिनाथ? जानें- इतिहास, महिमा और विशेषता

08 अगस्त 2021

इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि कौन हैं पशुपति नाथ, कैसा है इनका मंदिर का और शिव जी का स्वरुप की क्या है महिमा. ज्योतिष के अनुसार हिन्दू धर्म के आठ पवित्र स्थल माने जाते हैं. इसमें से पशुपति नाथ है. जो कि नेपाल में स्थित एक पवित्र स्थल है. यह शिव जी का एक विशेष मंदिर है. जिसमे शिव जी पंचमुखी स्वरुप में विद्यमान हैं. ज्यादातर मंदिर का निर्माण लकड़ी से हुआ है. मंदिर का शिखर स्वर्णिम है और वहां त्रिशूल और डमरू विद्यमान हैं. इसके शिवलिंग में पांच मुख हैं. चार मुख चार दिशाओं में हैं और एक मुख ऊपर की ओर है. देखें वीडियो.

भगवान शिव की एक ही ज्योति के दो स्वरूप, जानें क्या है महिमा

08 अगस्त 2021

चाल चक्र के इस खास एपिसोड में पंडित शैलेंद्र पांडेय बात करेंगे कि शिव जी की एक ही ज्योति के दो स्वरूप के बारे में. और जानेंगे क्या है इसकी महीमा. साथ में जानें आज का पंचांग और राशिनुसार कैसा रहेगा दिन. ज्योतिष के अनुसार, शिव जी के सारे ज्योतिर्लिंग आपस में रूप से जुड़े हुए हैं. परन्तु शिव जी के दो ज्योतिर्लिंग आपस में विशेष रूप से जुड़े हुए हैं. एक है केदारनाथ और दूसरा है पशुपति नाथ. ये शिव जी की एक ही ज्योति के दो भाग हैं. देखें वीडियो.

जिज्ञासा: भगवान शिव के तीसरे नेत्र का रहस्य क्या है?

08 अगस्त 2021

श‍िव जी के रूप को देखकर एक अलौकिक अनुभव होता है. लेकिन साथ में एक सवाल मन में खड़ा होता है कि भगवान शिव के तीसरे नेत्र का रहस्य क्या है. इस वीडियो में ज्योतिष शैलेंद्र पांडेय इसी विषय पर चर्चा करेंगे. ज्योतिष के अनुसार- तीसरा नेत्र, आज्ञा चक्र का स्थान है. यह मानव जीवन का सर्वोच्च चक्र है. शिव इसी चक्र से संहार की शक्ति को नियंत्रित करते हैं. इसलिए शिव जी को तीसरे नेत्र के साथ दिखाया जाता है. देखें वीडियो.