scorecardresearch
 

अधिकमास में जरूर करनी चाहिए तुलसी की पूजा, जानें इसका महत्व

अधिकमास में भगवान विष्णु की पूजा की जाती है. इसलिए इन दिनों में तुलसी पूजा का महत्व बढ़ जाता है. कहा जाता है कि जिस घर में अधिकमास के दिनों में तुलसी की विशेष पूजा होती है, वहां सौभाग्य बना रहता है.

अधिकमास में तुलसी पूजा का महत्व अधिकमास में तुलसी पूजा का महत्व
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अधिकमास में तुलसी पूजा का महत्व
  • अधिकमास में होती है विष्णु भगवान की पूजा
  • विष्णु भगवान को प्रिय हैं तुलसी

हिंदू धर्म में तुलसी पूजन की परंपरा बहुत पुरानी है लेकिन पुरुषोत्तम मास यानी अधिकमास में तुलसी की पूजा करना बहुत ही पुण्यकारी माना गया है. अधिकमास में भगवान विष्णु के स्वरूपों की पूजा की जाती है. पुराणों में कहा गया है कि जिस घर में अधिकमास के दिनों में तुलसी की विशेष पूजा होती है, वहां सुख-समृद्धि और सौभाग्य बना रहता है.


अधिकमास में तुलसी का महत्व

अधिकमास में भगवान विष्णु की पूजा होती है और बिना तुलसी के श्रीहरि का भोग अधूरा माना जाता है. घर में तुलसी का पौधा होने से घर में पवित्रता बनी रहती है और नकारत्मकता दूर होती है. अधिकमास में तुलसी मंत्र और विष्णु मंत्र का जाप अवश्‍य करना चाहिए. इससे विष्णु भगवान की विशेष कृपा होती है.

तुलसी के पत्तों को माना जाता है शुभ

हिंदू मान्यताओं के अनुसार हर घर में तुलसी का पौधा जरूर होना चाहिए. तुलसी को बहुत शुभ माना गया है. कहा जाता है जल में तुलसी के पत्ते डालकर स्नान करना तीर्थों में स्नान कर पवित्र होने जैसा माना जाता है. ये भी कहा जाता है कि आंगन में तुलसी का पौधा होने से घर के कलह दूर होते हैं और परिवार पर मां लक्ष्मी जी की विशेष कृपा बनी रहती है. तुलसी वास्तु दोष को भी दूर करती है.

 

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें