scorecardresearch
 

वास्तु शास्त्र (Vastu Tips): घर की हर दिशा को सजाने का है अलग नियम, दूर होती हैं वित्तीय परेशानियां

वास्तु टिप्स (Vastu Shashtra Tips): भौतिक सुख-सुविधाएं हर इंसान के जीवन में बहुत अहमियत रखती हैं. कई लोगों को यह आसानी से, आराम से मिलती चली जाती हैं तो कइयों को इसके लिए बहुत संघर्ष करना पड़ता है. ऐसे में छोटे-छोटे वास्तु टिप्स आपके जीवन में बदलाव ला सकते हैं.

वास्तु शास्त्र (Vastu Tips) वास्तु शास्त्र (Vastu Tips)

वास्तु टिप्स (Vastu Shashtra Tips): पैसा हमारे जीवन का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है. कई लोगों को इसके लिए बहुत संघर्ष करना पड़ता है. तो आइए हम आपको बताते हैं कि वास्तु के अनुसार धन, तरक्की और आर्थिक समृद्धि बढ़ाने के लिए आप घर में ही कौन-कौन से उपाय कर सकते हैं.

- उत्तर, पूर्व और उत्तर-पूर्व दिशा में रखें कुबेर यंत्र:
वास्तु के अनुसार भगवान कुबेर धन और समृद्धि के देवता हैं और उत्तर-पूर्व दिशा भगवान कुबेर द्वारा शासित है. इस दिशा से सभी अवरोधों जैसे जूता रैक या कोई भी भारी फर्नीचर को तुरंत हटा देना चाहिए. वास्तु शास्त्र के अनुसार, घर के उत्तरी हिस्से की दीवार पर लगा एक दर्पण या कुबेर यंत्र नए वित्तीय अवसरों को सक्रिय करना शुरू कर सकता है.

- दक्षिण-पश्चिम क्षेत्र में रखें लॉकर्स या तिजोरी:
वास्तु शास्त्र के अनुसार, वित्तीय स्थिरता के लिए सर्वोत्तम तरीका है घर के दक्षिण-पश्चिम दिशा में अपने धन को रखना. सभी आभूषण, धन और महत्वपूर्ण वित्तीय दस्तावेज इसी दिशा में रखने चाहिए. इस दिशा में रखी गई कोई भी चीज कई गुना बढ़ जाती है.

- घर को अव्यवस्थित न रखें:
वास्तु के मुताबिक, घर में बहने वाली ऊर्जा का असर रिश्तों, स्वास्थ्य और वित्त पर पड़ता है इसलिए जरूरी है कि आपका घर अव्यवस्थित न हो. इसके अलावा, खिड़कियां, दरवाजे सभी साफ रखें और स्टोर भी साफ सुथरी रहनी चाहिए.

- मुख्य दरवाजा सही रहे:
वास्तु शास्त्र के अनुसार आपके घर का प्रवेश द्वार आपकी मुख्य विशेषताओं में से एक है. यह वह स्थान है जो सकारात्मक ऊर्जा, धन और समृद्धि का स्वागत करता है इसलिए दरवाजे को आकर्षक रूप से बनाया जाना चाहिए. सुनिश्चित करें कि मुख्य द्वार में दरारें या दोष न हों और ताले आसानी से काम करते हों.

- उत्तर-पूर्व में रखें छोटे एक्वैरियम (Aquarium):
उत्तर पूर्व में घर के भीतर पानी की छोटी वस्तुओं को रखने से धन और सकारात्मक ऊर्जा की गति अच्छी होती है. वास्तु के अनुसार, घर में एक मछलीघर (Aquarium)या एक छोटे से पानी का कोई शो पीस बहुत शुभ माना जाता है.

- उत्तर-पूर्व और दक्षिण-पूर्व दिशा में नहीं होनी चाहिए पानी की टंकी:
घर के उत्तर-पूर्व या दक्षिण-पूर्व कोने में पानी के टैंकर नहीं रखने चाहिए. इससे जीवन में बहुत सारे दबाव और स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है, जैसे कि गंभीर सिरदर्द, छाती में दर्द, दिल और पेट की दिक्कत, बिगड़ता मानसिक स्वास्थ्य, आदि.

- पानी का  रिसाव होना चाहिए बंद:
वास्तु शास्त्र के अनुसार, रसोई, बाथरूम और यहां तक कि आपके घर के गार्डन में पानी का रिसाव होना पैसे का रिसाव माना जाता है और यह वित्तीय नुकसान का संकेत देता है. दीवारों से पानी का बहना या घर के भीतर कोई टूटी पाइपलाइन को तुरंत सही करवा लेना चाहिए.

- दक्षिण पश्चिम दिशा में न हो शौचालय:
यदि शौचालय वास्तु शास्त्र के अनुसार नहीं बनाया जाए तो यह न केवल वित्तीय नुकसान पैदा कर सकता है, बल्कि स्वास्थ्य में भी गिरावट ला सकता है. जहां तक संभव हो शौचालय और स्नानघर अलग से बनवाए जाने चाहिए और घर के उत्तर-पश्चिम या उत्तर-पूर्व की ओर रखने चाहिए.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें