scorecardresearch
 

26/11 अटैक पर कांग्रेस का 'कबूलनामा', देखें खबरदार

26/11 अटैक पर कांग्रेस का 'कबूलनामा', देखें खबरदार

दो दिन बाद 26/11 मुंबई आतंकी हमले को 13 वर्ष पूरे हो जाएंगे. इन 13 वर्षों में हर भारतीय के मन में कभी ना कभी ये सवाल जरूर आया होगा कि इतने बड़े आतंकवादी हमले का बदला क्यों नहीं लिया गया? पाकिस्तान को सबक क्यों नहीं सिखाया गया? पाकिस्तान की साजिश के सबूत होने के बावजूद मनमोहन सरकार ने कोई एक्शन क्यों नहीं लिया? इन सवालों का कांग्रेस को एक बार फिर सामना करना पड़ रहा है क्योंकि कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने अपनी किताब में एक कबूलनामा किया है. उन्होंने अपनी किताब 10 फ्लैश पॉइंट-20 ईयर्स में मनमोहन सिंह की UPA सरकार पर सवाल खड़े किए हैं. तिवारी ने मुंबई पर 26/11 हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ किसी तरह का एक्शन न लेने को कमजोरी बताया है और 26/11 हमले की तुलना अमेरिका के 9/11 हमले से की है. कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने अपनी किताब के एक चैप्टर में लिखा है कि मुंबई हमले के बाद तत्कालीन सरकार को पाकिस्तान के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए थी । ये ऐसा समय था, जब एक्शन बिल्कुल जरूरी था. एक देश निर्दोष लोगों का कत्लेआम करता है और उसे इसका कोई पछतावा नहीं होता, इसके बाद भी हम संयम बरतते हैं तो ये ताकत नहीं बल्कि कमजोरी की निशानी है. देखिए खबरदार का ये एपिसोड.

Two days later, the 26/11 Mumbai terror attack will complete 13 years. In these 13 years, the question must have come to the mind of every Indian at some point in time that why was there no retaliation for such a big terrorist attack? Why was Pakistan not taught a lesson? Why did the Manmohan Singh government not take any action despite the evidence of Pakistan's conspiracy? Congress is once again facing these questions as Congress leader Manish Tewari has made a confession in his book. He has questioned Manmohan Singh's UPA government in his book 10 Flash Points - 20 Years. Tiwari has described the weakness in not taking any action against Pakistan after the 26/11 attack on Mumbai and compared the 26/11 attack to the 9/11 attack by the US. Watch this episode of Khabardar.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें