scorecardresearch
 

मानवाधिकार चुनेंगे वहीं, जहां एजेंडा हो सही? देखिए 10 तक

मानवाधिकार चुनेंगे वहीं, जहां एजेंडा हो सही? देखिए 10 तक

शालीमार फिल्म का गीत था- आईना वही रहता है, चेहरे बदल जाते हैं. इसी हकीकत को आज मानवाधिकार के साथ देखेंगे. जहां मानवाधिकार वही रहता है, बस जगह और दल अपने फायदे के मुताबिक बदल जाते हैं. बीजेपी को कांग्रेस का मानवाधिकार राजनीतिक वोट की भूख लगता है. कांग्रेस को समाजवादी पार्टी की मानवाधिकार की आवाज में सियासत लगती है. मायावती भी प्रियंका गांधी की मानवाधिकार वाली आवाज को मौकापरस्त बताती हैं. इन सबके बीच खड़ा रह जाता है आम आदमी. अपने मानवाधिकार की रक्षा पर होती राजनीति को देखता हुआ. देखिए 10 तक का ये एपिसोड.

Prime Minister Narendra Modi said that a 'selective' approach to human rights dents the country's image. PM Modi without naming the Congress made a scorching attack. On the other hand, Congress finds politics in the voice of human rights of the Samajwadi Party. Mayawati also describes Priyanka Gandhi's human rights voice as opportunistic. But the common man is the one who keeps suffering by these political games. Watch this episode of 10 Tak.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें