scorecardresearch
 

10 तक: कितने बच्चे सियासत के लिए अच्छे! आपके सांसद कितने जनसंख्या नियंत्रक?

10 तक: कितने बच्चे सियासत के लिए अच्छे! आपके सांसद कितने जनसंख्या नियंत्रक?

कहा जाता है राजनीति में टाइमिंग सबसे अहम चीज होती है, यानी कब कौन सा कदम उठाना है. अगले हफ्ते देश की संसद का मानसून सत्र शुरु होना है. अगले साल उत्तर प्रदेश और गुजरात समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होना है. ऐसे वक्त में जब उत्तर प्रदेश में जनसंख्या नियंत्रण नीति का मसौदा रायशुमारी के लिए आता है तो संसद में भी कई सांसद अब बिल लाकर देश में पॉपुलेशन कंट्रोल के लिए जरूरी कदम उठाने की मांग करने जा रहे हैं. लोकसभा में हमारे देश के जो सांसद बैठते हैं, जहां आगे मानसून सत्र में जनसंख्या नियंत्रण बिल आने पर चर्चा हो सकती है, वहां सांसदों के कितने बच्चे हैं? एक रिपोर्ट के मुताबिक लोकसभा के 149 सांसद ऐसे हैं जिनकी तीन या तीन से ज्यादा संतान हैं. बीजेपी के ही 96 सांसद ऐसे हैं जिनके दो से ज्यादा बेटे या बेटियां हैं. अलग-अलग दलों के 33 सांसद ऐसे हैं जिनके चार या चार से ज्यादा बच्चे हैं? 10 तक में देखिए पूरी रिपोर्ट.

It is said that timing is the most important thing in politics. The monsoon session of the Parliament is to begin next week. Assembly elections are to be held in five states including Uttar Pradesh and Gujarat next year. At a time when the draft of the population control policy in UP comes, many MPs in Parliament are now preparing to bring a bill and demand necessary steps for population control in the country. The MPs who sit in the Parliament, where the population control bill will be discussed, how many children do they have? Watch this episode of 10 Tak.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें