scorecardresearch
 

हल्ला बोल: जनसंख्या नीति पर NDA की सहयोगी JDU ने क्यों उठा दिए सवाल?

हल्ला बोल: जनसंख्या नीति पर NDA की सहयोगी JDU ने क्यों उठा दिए सवाल?

सियासत मेहरबान तो जनसंख्या नीति हिंदू मुसलमान. यूपी सरकार ने जनसंख्या नीति का ऐलान किया और कानून बनाने की दिशा में कदम बढाए तो विरोधियों ने इसे चुनावी स्टंट बताना शुरु कर दिया. कहा जाने लगा कि जनसंख्या की बात करके ध्रुवीकरण की कोशिश हो रही है. विरोधियों की बात छोड़िए जनसंख्या नीति को लेकर NDA के भीतर भी ठन गई. नीतीश कुमार ने सवाल खड़े कर दिए. चुनावों से कुछ महीने पहले आबादी कंट्रोल कानून को लेकर यूपी से लेकर बिहार तक सियासत सुलग गई है. योगी सरकार के नए जनस्ख्या नीति पर चौतरफा सियासी हमले हो रहे हैं. विपक्ष तो विपक्ष खुद एनडीए की सहयोगी जेडीयू ने भी सवाल उठा दिए हैं. यानि अबादी कंट्रोल पर सियासत आउट ऑफ कंट्रोल हो गई है. इतना तो बीजेपी समझ गई होगी कि बढ़े चुनावी तापमान में जनसंख्या नीति की सियासी राह आसान नहीं. देखिए हल्ला बोल का ये एपिसोड.

The Uttar Pradesh government on Sunday released the new population policy for 2021-2030 ahead of the assembly elections in the state. In the new population policy, a target has been set to bring the birth rate to 2.1 per thousand population by 2026 and 1.9 by 2030. When asked about Yogi Adityanath's push for a law for population control, Nitish Kumar said that it is more important for women to be educated to control the growing population. Hence it is clear that not only the opposition parties but NDA's ally JDU itself have also raised questions over the issue. Watch this episode of Halla Bol.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें