scorecardresearch
 

बुक रिव्यू: 'सेंट ऑफ ए गेम' बदलेगी टाइगर को लेकर आपका नजरिया

इस किताब की समीक्षा पढ़ने से पहले आपके लिए एक तथ्य का जानना बेहद जरूरी है. एक अनुमान के मुताबिक, हर रोज एक बाघ को मारा जाता है. यही हालात रहे तो अगले पांच सालों में बाघ हमेशा के लिए जंगल से गायब हो जाएंगे.

बुक-सेंट ऑफ ए गेम बुक-सेंट ऑफ ए गेम

बुक: सेंट ऑफ ए गेम
लेखक: राघव चंद्रा
पब्लिशर: रूपा पब्लिकेशन्स
कीमत: 500 रुपये
इस किताब की समीक्षा पढ़ने से पहले आपके लिए एक तथ्य का जानना बेहद जरूरी है. एक अनुमान के मुताबिक, हर रोज एक बाघ को मारा जाता है. यही हालात रहे तो अगले पांच सालों में बाघ हमेशा के लिए जंगल से गायब हो जाएंगे.

भारत में बाघों के अवैध रूप से शिकार किए जाने वाले मुद्दे को राघव ने अपनी किताब 'सेंट ऑफ ए गेम' में उठाया है. इस रोचक किताब के जरिए राघव ने कई देशों में बाघों से जुड़े महत्वपूर्ण मुद्दों को बयां किया है. किताब की कहानी की शुरुआत मध्य भारत के एक जंगल में बायो-जेनेटिक्स कंपनी रुपये की मदद से अपने व्यापार के लिए जाल बिछाते हैं. इस मिलीभगत के बाद बड़ी मादा नाम की मादा टाइगर को मारने की खबरें आती हैं.

कहानी का नायक राम स्थानीय पुलिस के खिलाफ लड़ाई लड़ता है. पुलिस राम पर ही मादा टाइगर को मारने की बात कहती है. राम कहानी के आगे बढ़ने के साथ बाघ मारने के बिजनेस में शामिल लोगों के चंगुल में फंस जाता है. किताब में राम के बुरे हालात से बाहर निकलने की कहानी ही किताब को जोड़ कर रखती है. किताब पाठकों के मन में बेचैनी पैदा करने में भी सफल होती है, जब वो मादा टाइगर के ठिकाने को लेकर सोचते हैं.

लेखक के बारे में
लेखक अपनी प्रोफेशनल क्षमताओं को देखते हुए कान्हा और बांधवगढ़ जैसे राष्ट्रीय उद्यानों में रुकते हैं. इस वजह से इस मु्द्दे पर वो एक बेहतर तस्वीर रचने में सफल होते हैं. लेखक राघव ने किताब को लिखने से पहले काफी रिसर्च की है. किताब में राघव कुछ दिल को छू जाने वाले तथ्य सामने रखते हैं. मल्टीनेशनल कंपनियों से सांठगांठ से संबंधित तथ्यों को भी रखने में राघव सफल साबित होते हैं.

कैसी है किताब की कहानी
किताब बेरहमी से बाघ को मारे जाने को निर्मम तरीके से बताती है. कहानी बताती है कि बड़ी कंपनियां बाघ को मारने के बाद बने उत्पादों का किस तरह से व्यापार करती हैं. कहानी में बाघों को बचाने के लिए लोगों को सुझाव दिया जाता है. हालांकि बाघों की संख्या बढ़ाने और बचाने की सलाह के पीछे का सच कुछ और ही हकीकत बयां करता है.

इस किताब की कहानी बेहद दिलचस्प है. कहानी का नायक कई मौके पर बाघों को मरने से बचाता है. किताब की कहानी एक हैप्पी एंडिंग देने की बजाय पाठकों को एक सवाल के साथ छोड़ जाती है कि हमें लगातार कम हो रहे बाघों को बचाने के लिए क्या करना चाहिए.

किताब की कहानी में बड़ी मादा की मौत होती है या नहीं. इसके बारे में जानना तब दिलचस्प रहेगा, जब इस किताब को पढ़ा जाए. कहानी में जिस तरह से बाघों को मारने की कोशिश की जाती है, ये किस्से किताब में बेहद दिलचस्पी पैदा करने वाले हैं. राघव की यह किताब 'सेंट ऑफ ए गेम' पढ़ने के साथ ही तारीफ के भी काबिल है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें