scorecardresearch
 

लूटः किरदार में डूब कर लिखी गई नादीन गार्डिमर की दस कहानियां

लूट हमारे आन्तरिक जीवन को उजागर करता दस कहानियों का एक संग्रह है. इसकी कहानियां जीवन के पलों की कल्पना कर लिखी गई हैं. एक शहर से एक भूचाल गुजरता है जो लोगों के लालच को उघाड़ देता है. एक महिला अपनी प्रणय लीला को याद करती है जो उसने एक फौजी के साथ किया था, जो शायद अब जीवित भी न हो. इन कहानियों के माध्यम से एक व्यक्ति अपने जीवनकाल में छूट गए पांच अधूरे कामों को करने की चेष्टा करता है.

लूट की लेखिका नादीन गार्डिमर को 1991 में नोबेल पुरस्कार से नवाजा गया लूट की लेखिका नादीन गार्डिमर को 1991 में नोबेल पुरस्कार से नवाजा गया

किताब का नामः लूट
लेखिकाः नादीन गार्डिमर
प्रकाशकः हार्परकालिंस पब्लिशर्स इंडिया
मूल्यः 199 रुपये
अनुवादः नीलाभ

लूट हमारे आन्तरिक जीवन को उजागर करता दस कहानियों का एक संग्रह है. इसकी कहानियां जीवन के पलों की कल्पना कर लिखी गई हैं. एक शहर से एक भूचाल गुजरता है जो लोगों के लालच को उघाड़ देता है. एक महिला अपनी प्रणय लीला को याद करती है जो उसने एक फौजी के साथ किया था, जो शायद अब जीवित भी न हो. इन कहानियों के माध्यम से एक व्यक्ति अपने जीवनकाल में छूट गए पांच अधूरे कामों को करने की चेष्टा करता है.

‘बहुत बार जीता और मरता है आदमी,
काल के अपने दो छोरों की अनन्तता के बीच,
वह जो जाति का है और वह जो आत्मा का.’

पढ़ें गार्डिमर की किताब ‘लूट’ के कुछ अंश:
लेकिन रॉबर्टा के पास तो रात के कपड़े, नाइट-सूट, वगैरह भी तो नहीं था, वह पल भर के लिए बिस्तर पर बैठी यही सोच-विचार करती रही थी, गलियारे का दरवाजा अभी तक खुला था, जब ग्लैडवेल ने यह जानने के लिए अन्दर झांका कि उसे किसी चीज की जरूरत तो नहीं थी. यह आश्वस्त करने के लिए उठ खड़ी हुई, नहीं, नहीं, मैं ठीक हूं, आत्म-निर्भरता का प्रदर्शन करने के लिए कुछ कदम उसकी तरफ बढ़ती हुई. वह आगे बढ़ कर उसके करीब आ गया और यह साफ नहीं था कि उसने पहले खुद को पेश किया या उसकी बांहें पहले रॉबर्टा के गिर्द लिपट गयीं, आलिंगन कुछ लम्बा खिंच गया, मानो ग्लैडवेल की किसी खामोशी को भर रहा हो. उसके होंठ रॉबर्टा के होंठों से उसके चेहरे और गर्दन की ओर बढ़े और उसके हाथों ने उसकी छातियां थाम लीं. जब वे कपड़े उतार बैठे तो वह थोड़ी देर के लिए एक भी शब्द कहे-सुने बगैर उसे छोड़ कर गया और कॉन्डोम को हाथ में इस तरह छिपाये कमरे में वापस आया जैसे वह संसदीय चुनाव में मतपत्र लिए हुए हो. उस पलंग पर जो किसी का नहीं जान पड़ता था, सिंचाई के बिगड़े पम्प के पास उघड़ा हुआ उसका धड़ रॉबर्टा के शरीर से आ मिला, अपनी सारी सम्भावनाओं को सिद्ध करता हुआ.

हमारे पास चार दिन थे. आखिरीर दोपहर को उन्होंने कहा, ‘आओ, पुराने कब्रिस्तान तक पैदल चलें.’
मैंने कभी ऐसा कब्रिस्तान नहीं देखा था, कब्रें-- हां, और कब्र के पत्थरों पर देवदूतों को विस्तृत झांकियां-- लेकिन यहां इनकी एक भूल-भुलैया के साथ-साथ दीवारों की अन्दरूनी तरफ पत्थर-जड़े खाने-दर-खाने थे, हर खाने पर अपनी एक तख्ती.
क्या मरे हुए लोगों को गोदाम में रख दिया जाता है, फाइलों की तरह?
‘जब कब्रों के लिए कोई जगह नहीं बचती तो इस देश में यह आम बात है. या सम्भव है ज्यादा सस्ता ही हो.’

हाथ कम्बल से बाहर नहीं आया था. लड़की ने अनुसरण किया मानो उसकी आंखें बंद थीं या वह अंधेरे में थीं, वह हाथ यों गया मानो खेल रहा हो, गुदगुदाने के लिए कोई जगह खोजता हुआ जैसे बच्चे करते हैं एक-दूसरे को कुलबुलाने और हंसाने के लिए, जहां घुटने पर उसके स्कर्ट का छोर था, घुटने के नीचे की ओर बढ़ता बिना स्कर्ट को खिसकाये वहां की रगों और खाली जगह को छूता हुआ. वह हंसना नहीं चाहती थी इसलिए उसने अपना हाथ उसके हाथ तक सरकाया और फिर अपने हाथ के साथ उसे वहां रख दिया जहां वह पहले था.

मैं कोई नहीं हूं, कोई देश अपनी जनगणना में मेरी गिनती नहीं करता.

हमने दुनिया का अच्छा-खासा हिस्सा देखा है. चीन की दीवार, बैरियर रीफ, न्यूयॉर्क-- शिकागो-पश्चिम तट, क्योटो, स्कॉटलैण्ड की पहाड़ियां, फ्लोरेन्स-रोम-पेरिस-- और बहुत कुछ अभी आना बाकी है, लेकिन हमेशा आनन्द के एक भाव भरे समापन के साथ हम दोनों बांहें एक दूसरे के गिर्द डाले, वापस आते हैं-- घर. हमारी भावनाएं, अवधारणाएं, मत और रुचियां अ-जैविक एक-सी जुड़वां हैं.

मैं जानता हूं वे मेरे बाप को गोली मारने जा रहे हैं. यह डर जो मेरी टांगों की हरकत छीन लेता है, जर्मनों ने गलियारों में मुझे घसीटते हुए ऊपर उठा रखा है, यह डर उसके लिए है या अपने लिए. लेकिन वे मुझे गोली मारने के लिए वहां क्यों नहीं ले जाते जहां मेरे बाप के साथ ऐसा कर रहे हैं. वे लोहे का एक दरवाजा खोलते हैं और मुझे एक छोटी-सी जगह फेंक देते हैं, अंधेरी, मोटी काली छड़ों से कटा रोशनी का चौकोन.


लेखक परिचयः

1991 में साहित्य के नोबेल पुरस्कार से नवाजी गई नादीन गार्डिमर अपनी किताबों में आम आदमी की कहानी बयां करती रहीं. नादीन गार्डिमर के खाते में 15 उपन्यास, दस कहानी संग्रह, 21 लघु कथा, नाटक समेत 100 से ज्यादा कहानियां मौजूद हैं. गॉर्डिमर अपने जीवन काल के दौरान कई अद्भुत लेखन कार्य की. अपने लेखन से उन्होंने रंगभेद का घोर विरोध किया. उनकी उम्र महज 15 साल की थी जब पहली कहानी ‘द सीन फॉर क्वेस्ट गोल्ड’ प्रकाशित हुई. राजनीति से जुड़ा मसला उनका प्रिय विषय था जबकि रंगभेद पर बंटा उनका समाज उनकी चिंता जो उनके लेख का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रहा. अब वो हमारे बीच नहीं हैं, इस साल 13 जुलाई को उनका निधन हो गया. आज नेल्सन मंडेला के साथ ही अपने लेखन कार्य की वजह से गॉर्डिमर भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दक्षिण अफ्रीका की पहचान हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें