scorecardresearch
 

पीरियड्स के दौरान कहीं आपको भी तो नहीं होती ये परेशानी

कई महिलाओं को पीरियड्स के दौरान बहुत अधिक दर्द सहना पड़ता है तो कुछ के लिए ये सामान्य होता है. कुछ लोगों में ब्लीडिंग क्लॉट्स के रूप में होती है. ये स्थिति काफी दर्दनाक होती है.

पीरियड्स के दौरान करें ये उपाय पीरियड्स के दौरान करें ये उपाय

पीरियड्स के दौरान बहुत अधिक ब्लीडिंग होने से कमजोरी हो जाती है. इस स्थिति को चिकित्सा जगत में menorrhagia नाम से जाना जाता है. हर महिला की पीरियड साइकिल दूसरे से अलग होती है. कुछ की साइकिल पांच दिन की होती है तो कुछ में ये साइकिल सात दिन की भी हो सकती है.

कई महिलाओं को इस दौरान बहुत अधिक दर्द सहना पड़ता है तो कुछ के लिए ये सामान्य होता है. कुछ लोगों में ब्लीडिंग क्लॉट्स के रूप में होती है. ये स्थिति काफी दर्दनाक होती है.

बहुत अधिक ब्लीडिंग होने के कई कारण हो सकते है. अगर आपका वजन बहुत अधिक है या फिर अगर आप कुछ ऐसी दवाइयां लेती हैं जिनसे खून पतला होता है तो हेवी ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है. इसके अलावा अगर अगर घर में ऐसा रिकॉर्ड रह चुका है तो ये अनुवांशिक भी हो सकता है.

इसके अलावा हॉर्मोन्स का संतुलन बिगड़ने पर, यूट्रस में ट्यूमर होने पर भी ब्लीडिंग अधिक होती है. कुछ मेडिकल कंडिशन्स भी होती है जिनमें पीरियड्स के दौरान ब्लीडिंग अधिक हेाती है. ज्यादा ब्लीडिंग होने से पूरी दिनचर्या अस्त-व्यस्त हो जाती है. मानसिक और समाजिक तौर पर भी महिला को काफी अजीब सी परिस्थिति का सामना करना पड़ता है. कई बार स्थिति इतनी बुरी हो जाती है कि महिला को एनीमिया की शिकायत हो जाती है. ऐसी स्थिति में डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए इसके अलावा ये उपाय भी फायदेमंद रहते हैं:

1. अगर आपको पीरियड्स के दौरान बहुत अधिक ब्लीडिंग की शिकायत है तो आप अपने साथ एक ठंडा बैग रखें. इससे ब्लीडिंग में कमी आएगी. साथ ही दर्द में भी राहत का एहसास होगा. एक तौलिए में बर्फ के कुछ टुकड़े डालकर उसे अच्छी तरह बांध लीजिए. इस पोटली को 15 से 20 मिनट तक पेट पर रखें. इससे आराम होगा.

2. बहुत अधिक ब्लीडिंग होने पर आप सिरके का इस्तेमाल कर सकती हैं. ये शरीर की सारी गंदगी को बाहर कर देता है. साथ हॉर्मोन्स को व्यवस्थित करने का भी काम करता है. एक गिलस पानी में दो से तीन चम्मच सिरका मिलाकर पीने से फायदा होगा.

3. आयुर्वेद के अनुसार, पीरियड्स के दौरान अगर बहुत अधिक ब्लीडिंग हो रही हो तो धनिया के बीजों का इस्तेमाल किया जा सका है. ये हॉर्मोन्स को संतुलित करने में मुख्य भूमिका निभाते हैं. धनिया के बीजों को दो कप पानी में भिगों दीजिए. इसे उबलने के लिए रख दीजिए. जब पानी आधा हो जाए तो उसे उतार लीजिए. इसमें थोड़ी सी मात्रा में शहद मिलाकर पीने से राहत मिलेगी. ऐसा दिन में 2 से तीन बार कीजिए.

4. दालचीनी के सेवन से भी इस समस्या में राहत मिलती है. एक चम्मच दालचीनी को को गर्म पानी में मिलाकर छोड़ दीजिए. इसमें शहद मिलाकर दिन में दो बार पीने से फायदा होता है.

5. महिलाओं के लिए आयरन का विशेष महत्व है. पीरियड्स के दौरान महिलाओं को अधिक से अधिक मात्रा में आयरन लेना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें