scorecardresearch
 
सेहत

Blood Clot: हाथ-पैरों में दर्द समेत इन 8 लक्षणों को ना समझें मामूली, ब्लड क्लॉट का है संकेत

ब्लड क्लॉट
  • 1/9

ज्यादातर मामलों में ब्लड क्लॉट को अच्छा माना जाता है. जब आपको चोट लगती है तो ये क्लॉट खून को बहने से रोकता है लेकिन ये क्लॉट कभी-कभी तब होने लगते हैं जब इसकी जरूरत नहीं होती है. ब्लड क्लॉट तब खतरनाक हो जाता है जब ये मांसपेशियों के पास नसों में बनने लगता है. ये ब्लड फ्लो को रोकता है जिसकी वजह से कभी-कभी ये जानलेवा भी हो जाता है. आइए जानते हैं ब्लड क्लॉट के क्या लक्षण होते हैं और कब आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.
 

हाथ या पैरों में सूजन
  • 2/9

हाथ या पैरों में सूजन- हाथ या पैरों में सूजन ब्लड क्लॉट का प्रमुख लक्षण है. ब्लड क्लॉट हाथ-पैरों के ब्लड फ्लो में बाधा डालता है जिसकी वजह से सूजन होने लगती है. कभी-कभी पैरों का अकड़ जाना या फिर पीरियड्स के समय सूजन हो जाना सामान्य है लेकिन अगर आपको अक्सर ही दर्द के साथ सूजन की समस्या रहती है तो आपको डॉक्टर से संपर्क करने की जरूरत है.
 

हाथ-पैरों में दर्द
  • 3/9

हाथ-पैरों में दर्द- आमतौर पर ब्लड क्लॉट सूजन और स्किन लाल हो जाने के लक्षण के रूप में दिखाई देता है. हालांकि कभी-कभी इसमें सिर्फ दर्द भी हो सकता है. आमतौर पर लोग हाथ-पैर के दर्द को मांसपेशियों का खिंचाव समझ कर नजरअंदाज कर देते हैं और आगे चल कर ये खतरनाक हो जाता है. ब्लड क्लॉट का दर्द चलने-फिरने या फिर पैर ऊपर उठाने पर हो सकता है.
 

स्किन का लाल हो जाना
  • 4/9

स्किन का लाल हो जाना- चोट पर खून का थक्का बन जाना आम है. इसकी वजह से स्किन का रंग भी कुछ देर के लिए बदल जाता है और इसके लिए आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है. नसों में ब्लड क्लॉट होने पर उस जगह की स्किन ज्यादा लाल हो जाती है और ये छूने पर गर्म लगता है.
 

सीने में दर्द
  • 5/9

सीने में दर्द- सीने मे दर्द को आमतौर पर लोग हार्ट अटैक समझ लेते हैं लेकिन ये पल्मोनरी एम्बोलिज्म का लक्षण भी हो सकता है. इसमें फेफड़ों तक खून ले जाने वाली वाहिकाओं में ब्लड क्लॉट हो जाता है. पल्मोनरी एम्बोलिज्म का दर्द बहुत तेज होता है और सांस लेने पर ये दर्द और बढ़ने लगता है. ऐसी स्थिति में आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.
 

सांस लेने में दिक्कत
  • 6/9

सांस लेने में दिक्कत- फेफड़ों में खून का थक्का बनने पर ऑक्सीजन फ्लो धीमा हो जाता है और इसकी वजह से आपको सांस लेने में दिक्कत होने लगती है. आपको अंदर से एनर्जी महसूस नहीं होती है और सीढ़ियां चढ़ने में आपकी सांस तेज होने लगती है. अगर ये लक्षण आपको अचानक महसूस होते हैं तो अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क करें.
 

लगातार खांसी आना
  • 7/9

लगातार खांसी आना- लगातार खांसी आना भी इसका एक लक्षण है. हेल्थ एक्सपर्ट के अनुसार सीने में दर्द के साथ आपको सूखी खांसी हो सकती है. कभी-कभी इसमें बलगम या खून भी आ सकता है. ऐसा होने पर आपको बिना समय गंवाए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. 
 

दिल की धड़कन का तेज हो जाना
  • 8/9

दिल की धड़कन का तेज हो जाना- ऑक्सीन का फ्लो कम होने पर आपके दिल की धड़कन तेज हो जाती है. इसकी वजह से सीने में दर्द भी होने लगता है. इन सबसे साथ सांस लेने में तकलीफ हो सकती है. ये आपको पल्मोनरी एम्बोलिज्म के दर्द का संकेत देता है. छोटा सा भी ब्लड क्लॉट आपके दिल की धड़कन को काफी तेज कर सकता है. ब्लड क्लॉट बढ़ने पर ब्लड ऑक्सीजन में कमी आने लगती है.
 

बेहोशी छाना
  • 9/9

बेहोशी छाना- ब्लड क्लॉट होने पर फेफड़ों से केमिकल निकलने लगते हैं, ब्लड ऑक्सीजन में बदलाव आने लगता है, ब्लड प्रेशर और हार्ट रेट बढ़ने लगता है. इसकी वजह से अचानक बेहोशी सी आने लगती है. हालांकि ये लक्षण ब्लड क्लॉट का सामान्य लक्षण नहीं है. ज्यादातर लोग पल्मोनरी एम्बोलिज्म की वजह से भी बेहोश हो जाते हैं.