scorecardresearch
 

....बताओ ना मां मुझे याद करोगी ना

पूरे 13 दिन वो अस्पताल में अपनी सांसों से लड़ती रही और हम सब अपने अंदर लड़ते रहे. फिर उसकी रूह ने उस जिस्म को आखिर छोड़ ही दिया जो उसका सबसे बड़ा दुश्मन था. जिसकी चाहत किसी को दरिंदा बना सकती थी, पर वो हार गई तो क्या हम जीत गये?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें