scorecardresearch
 

RSS के 6 कार्यालयों को बम से उड़ाने की धमकी, लखनऊ में FIR, ये वॉट्सऐप चैट वायरल

दरअसल, वॉट्सएप के जरिए सोमवार रात करीब 8 बजे एक मैसेज भेजा गया. इसमें लखनऊ, उन्नाव और कर्नाटक के आरएसएस कार्यालयों को बम से उड़ाने की धमकी दी गई.

X
लखनऊ पुलिस ने मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है.
लखनऊ पुलिस ने मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • लखनऊ के मड़ियांव थाने में शिकायत पर कार्रवाई
  • यूपी के 2 और कर्नाटक के 4 कार्यालयों को उड़ाने की धमकी

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (Rss) के छह कार्यालयों को बम से उड़ाने की धमकी दी गई है. इस मामले में लखनऊ के मड़ियांव थाने में एफआईआर दर्ज की गई है. पुलिस का कहना है कि धमकी देने वाले लोगों के बारे में जानकारी की जा रही है. जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा. 

सोमवार रात करीब 8 बजे एक वॉट्सएप ग्रुप पर लखनऊ के अलावा आरएसएस के अन्य पांच कार्यालयों को बम से उड़ाने की धमकी मिली है, जिसमें उत्तर प्रदेश के दो कार्यालय और चार कर्नाटक के कार्यालय शामिल हैं. वॉट्सएप ग्रुप में तीन अलग-अलग भाषाओं में धमकी दी गई है. इसमें हिंदी, अंग्रेजी और कन्नड़ भाषा का इस्तेमाल किया गया है.

लखनऊ

जानकारी के मुताबिक, अल अंसारी इमाम रजी उन मेहंदी नाम का एक वॉट्सएप ग्रुप संचालित किया जा रहा है. इसमें तीन अलग-अलग भाषाओं में कुछ बातें ग्रुप में शेयर की गईं. जिसमें कन्नड़, हिंदी और अंग्रेजी भाषा में धमकी लिखी गई. अंग्रेजी भाषा में लिखा गया कि V49 R+J8G Nawabganj uttarpradesh 271304:Your six party office is bombed at 8 pm stop the explosion if u can.

लखनऊ

वहीं, हिंदी भाषा में वॉट्सएप ग्रुप में लिखा गया कि वी 49R+J8 g नवाबगंज उत्तर प्रदेश 271304. आपके छह पार्टी कार्यालय पर बमबारी की जाएगी 8 बजे. हो सके तो विस्फोट को रोक लें. नवाबगंज के अलावा राजधानी लखनऊ के सेक्टर क्यू स्थित सरस्वती विद्या मंदिर का भी जिक्र है. 

लखनऊ

इसके अलावा, कर्नाटक में 4 अलग-अलग जगहों पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यालयों के पते के बारे में वॉट्सएप ग्रुप में जिक्र किया गया है. बताया जा रहा है कि 'अल इमाम अंसार रजीउन मेहंदी' नाम के वॉट्सऐप ग्रुप में एक आरएसएस कार्यकर्ता इनवाइट लिंक के जरिए जुड़ गया. इस वॉट्सएप ग्रुप का इनवाइट लिंक कई ग्रुपों में शेयर किया जा रहा था, जिसके चलते आरएसएस के कार्यकर्ता ने भी उसको खोला और जुड़ गया. 

लखनऊ

ग्रुप में जुड़ने के बाद उन्होंने देखा कि इस तरीके की चर्चा हो रही है, जिसके बाद स्वयंसेवक ने एक अवध प्रांत के पदाधिकारी को इसकी सूचना दी. मामले का संज्ञान लेते हुए अवध प्रांत के पदाधिकारी ने आरएसएस के बड़े पदाधिकारियों को खबर की. जिसके बाद पूरे मामले की जानकारी पुलिस के आला अधिकारियों से शेयर की गई. 

लखनऊ

पुलिस हरकत में आई और लखनऊ के अलीगंज सेक्टर क्यू स्थित सरस्वती विद्या मंदिर पर पुलिस की टीम पहुंची. यहां पुलिस ने जांच की. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अवध प्रांत के घोष प्रमुख, प्रोफेसर नीलकंठ तिवारी की तहरीर पर लखनऊ के मड़ियांव थाने में केस दर्ज कराया गया. 

इस वक्त आरएसएस के कार्यालय पर प्रशिक्षण शिविर भी लगा हुआ है. ऐसे में इस तरीके की बातें सामने आने के बाद हड़कंप मच गया. लखनऊ के मड़ियांव थाना के एसएचओ ने बताया कि मामले में धारा 507 और आईटी एक्ट 66 के तहत केस दर्ज किया है. पुलिस मामले में जांच कर रही है. 

लखनऊ

पुलिस का कहना है कि जिस नंबर से धमकी भरा मैसेज भेजा गया है, उस नंबर को साइबर सेल की मदद से खंगाला जा रहा है. बता दें कि पिछले साल जुलाई माह में आरएसएस कार्यालय और प्राचीन हनुनान मंदिरों को बम से उड़ाने की धमकी देने का पत्र सामने आया था.
 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें