scorecardresearch
 

बाबर-अकबर की कलंक कथा को निकाल, बिगड़े इतिहास को सुधार रही BJP: संगीत सोम

सोम ने कहा कि ये कैसा इतिहास, किस काम का इतिहास जिस में अपने पिता को ही कैद कर डाला था. इन लोगों ने हिंदुस्तान में हिन्दुओं का सर्वनाश किया था

संगीत सोम और ओवैसी में ठनी संगीत सोम और ओवैसी में ठनी

दुनिया के सात अजूबों में शामिल ताजमहल को लेकर चल रहे विवाद में अब बीजेपी के विधायक संगीत सोम भी कूद पड़े हैं. मेरठ की सरधना सीट से भाजपा विधायक संगीत सोम ने कहा कि कुछ लोगों को बहुत दर्द हुआ जब ताजमहल का नाम देश के ऐतिहासिक स्थलों में से निकाल दिया गया.

सोम ने कहा कि ये कैसा इतिहास, किस काम का इतिहास जिस में अपने पिता को ही कैद कर डाला था. इन लोगों ने हिंदुस्तान में हिन्दुओं का सर्वनाश किया था. संगीत सोम बोले कि अब भाजपा सरकार देश के इतिहास से बाबर, अकबर और औरंगजेब की कलंक कथा को इतिहास से निकालने का काम कर रही है.

उन्होंने कहा कि देश का इतिहास अब तक बिगड़ा हुआ था उसे सुधारने का काम भारतीय जनता पार्टी कर रही है. यहां एक तरफ भगवान शिव, भगवान राम और भगवान कृष्ण का अवतार हुआ तो दुर्भाग्य से यहां बाबर और अकबर का अवतार भी हुआ.

ओवैसी का पलटवार

बीजेपी विधायक संगीत सोम के ताजमहल पर दिए गए बयान पर AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने पलटवार किया है. ओवैसी ने कहा कि लाल किले को भी गद्दारों ने बनाया था, क्या पीएम मोदी लालकिले से तिरंगा फहराना बंद कर देंगे. क्या मोदी-योगी देशी-विदेशी सैलानियों को ताजमहल जाने से मना करेंगे. ओवैसी ने कहा कि हैदराबाद हाउस भी गद्दारों के द्वारा ही बनाया गया था, क्या पीएम मोदी वहां पर विदेशी मेहमानों को रिसीव करना बंद कर देंगे.

औरंगज़ेब, बाबर और अकबर ने जितना अत्याचार हो सकता था उतना अत्याचार किया जैसे अयोध्या में भगवान राम का मंदिर तोड़कर मस्ज़िद का निर्माण किया गया था और काशी में भगवान विष्णु का मंदिर तोड़कर मस्ज़िद का निर्माण किया गया और मथुरा में भगवान कृष्ण का मन्दिर तोड़कर मस्ज़िद बनाई गई. उन्होंने कहा कि अयोध्या, काशी और मथुरा हम लोगों की आस्था का केंद्र है और इसे ऐसे कोई व्यर्थ नहीं कर सकता. 

उन्होंने कहा कि कुछ लोग वोट की खातिर देश का अपमान करने का काम करते हैं और वंदे मातरम नहीं कहना चाहते, इंडिया पाक के मैच में इंडिया की हार पर मिठाई बांटने का काम करते हैं.

बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार की पर्यटन गंतव्यों की बुकलेट जारी होते ही विवादों में आई गई थी. इस बुकलेट में ताजमहल को ही शुमार नहीं किया गया था. जबकि सीएम योगी आदित्यनाथ के गोरखधाम मंदिर को जगह दी गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें