scorecardresearch
 

नोएडा एक्सप्रेस-वे पर एक महीने तक यात्रियों को होगी मुश्किल, 13 घंटे चलेगा रिसर्फेसिंग का काम

ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर रिसर्फेसिंग का काम करने वाली कंपनी अब 13 घंटे लगातार काम करेगी. एक्सप्रेसवे पर सफर करने वाले लोगों को एक महीने तक मुश्किल हो सकती है. रिसर्फेसिंग का काम सुबह 11:00 बजे से शाम 4:00 बजे तक और रात में 10:00 बजे से सुबह 6:00 बजे तक किया जाएगा.

X
नोएडा एक्सप्रेस-वे (फोटो- PTI) नोएडा एक्सप्रेस-वे (फोटो- PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • नोएडा एक्सप्रेसवे पर एक महीने तक चलेगा रिसर्फेसिंग का काम
  • रोजाना 13 घंटे चलेगा काम, 10 लाख वाहनों पर पड़ेगा असर

उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर सफर करना करने वालों के लिए परेशानी अभी खत्म नहीं होगी. जी हां इस सड़क पर रिसर्फेसिंग का काम करने वाली कंपनी अब 13 घंटे लगातार काम करेगी यहां से गुजरने वाले 10 लाख वाहनों को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है और यह काम लगातार एक महीने तक चलेगा.

जी हां एक्सप्रेसवे को फाइनल टच देने के लिए 50 एमएम की स्टोन मैंस्टिक एसहाल्ट कोटिंग का काम शुरू किया गया है. जिसकी मियाद 30 अप्रैल रखी गई है यानी 30 अप्रैल तक निर्माण करने वाली कंपनी को काम हर हाल में पूरा करना होगा.

गौरतलब है कि यह काम लगातार धीरे चल रहा था जिसके चलते रिसर्फेसिंग कम करने वाली कंपनी को कई बार अल्टीमेटम दिया गया और उस पर जुर्माना भी लगाया गया है. इस बार यह मियाद 30 अप्रैल तक रखी गई है. इस 20 किलोमीटर के लंबे इस पैच को "हॉट इन प्लेस" तकनीक से रिसर्फेस किया जा रहा है. जिस तकनीक के तहत सड़क से मलबे को उखाड़ कर प्लांट में ले जाकर फिर से तैयार कर उसकी पर बिछाई जाती है.

कंपनी की तरफ से जारी एक बयान में कहा गया है कि दिन और रात मिलाकर यह काम 13 घंटे तक किया जाएगा. ऐसे में इस लेयर को अधिकतम 10 किलोमीटर तक एक बार में बिछाया जा सकता है. लेकिन सड़क 14 मीटर चौड़ी है इसलिए पूरी सड़क को एक साथ नहीं लिया जा सकता. 7 मीटर चौड़ी सड़क पर ही लेयर को बिछाया जाएगा. इस तरह एक बार में 5 किलोमीटर का क्षेत्र रिसर्फेसिंग में कवर किया जाएगा.

97 लाख रुपये का जुर्माना
गौरतलब है कि रिसर्फेसिंग करने वाली कंपनी को 80 किलोमीटर का काम करने में 16 दिन लगेगा. इस काम में लेटलतीफी के चलते इससे पहले कंपनी पर 97 लाख रुपये का जुर्माना लगाया जा चुका है क्योंकि कंपनी ने समय से काम नहीं किया था. इस बार अगर कंपनी 30 अप्रैल तक काम नहीं कर पाती है तो जुर्माना 1 करोड़ रुपए लगाया जाएगा.

एडवाइजरी की गई जारी
रिसर्फेसिंग के दौरान यातायात के लिए जो एडवाइजरी जारी की गई है उसके मुताबिक रिसर्फेसिंग का काम सुबह 11:00 बजे से शाम 4:00 बजे तक और रात में 10:00 बजे से सुबह 6:00 बजे तक किया जाएगा. यातायात पुलिस के अलावा कंपनी की तरफ से मार्शल भी रखे गए हैं. जगह-जगह चेतावनी बोर्ड लगाए गए हैं. किसी भी तरह की मुश्किल होने पर हेल्पलाइन नंबर 9971009001 में फोन किया जा सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें