scorecardresearch
 

Uttar Pradesh : मदरसों में राष्ट्रगान अनिवार्य करने का आदेश देने वाले रजिस्ट्रार हटाए गए

उत्तर प्रदेश के मदरसों में राष्ट्रगान अनिवार्य करने का आदेश देने वाले अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के निदेशक एसएन पांडेय से राज्य के मदरसा बोर्ड के रजिस्ट्रार का प्रभार छीन लिया गया है. इसका प्रभार अब विभाग के डिप्टी डायरेक्टर जगमोहन सिंह को दिया गया है.

X
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • एसएन पांडेय ने ही दिया राष्ट्रगान अनिवार्य करने का आदेश
  • पांडेय को हटाकर जगमोहन सिंह को दिया गया प्रभार

उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के निदेशक एसएन पांडेय से राज्य के मदरसा बोर्ड के रजिस्ट्रार का प्रभार छीन लिया गया है. उनकी जगह अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के डिप्टी डायरेक्टर जगमोहन सिंह को यह जिम्मेदारी दी गई है. एसएन पांडेय वहीं अधिकारी हैं, जिन्होंने यूपी के मदरसों में राष्ट्रगान अनिवार्य करने का आदेश दिया था. 

यूपी मदरसा शिक्षा परिषद ने 24 मार्च को बैठक की थी. इस बैठक में ही मदरसों में राष्ट्रगान अनिवार्य करने का फैसला लिया गया था. 20 मार्च से लेकर 11 मई तक मदरसों में छुट्टियां होने के कारण यह फैसला लागू नहीं हो सका. 12 मई को मदरसे खुलने पर सभी मदरसों में आदेश लागू हुआ हो गया था.

रजिस्ट्रार द्वारा भेजे गए पत्र में कहा गया था कि अनुदानित और गैर अनुदानित सभी मदरसों में सत्र की शुरुआत हो रही है. सभी में राष्ट्रगान का अनिवार्य रूप से गायन किया जाएगा.

अल्पसंख्यक विभाग के इस आदेश को जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी मॉनिटर कर रहे हैं. अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री दानिश आजाद अंसारी के कहा था कि राष्ट्रीय गान सभी मदरसों में किया जाएगा. इसके लिए सभी को सूचित कर दिया गया है. 

दानिश आजाद अंसारी ने कहा था कि नए सत्र की शुरुआत हुई है तो सभी मदरसे में लोगों का आना शुरू हो गया है. बोर्ड ने सभी जिला कल्याण अधिकारियों को इसके बारे में सूचना दी है. अब सभी सरकारी गैर सरकारी अनुदानित मदरसों में दीनी दुआ के साथ मदरसों में राष्ट्रगान लगातार करवाया जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें