scorecardresearch
 

बुर्के में महिलाओं ने लगाई झाड़ू तो युवक बोले- हिंदू हैं

बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी गए तो गंगा घाट की सफाई की. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को सफाई करने के लिए नॉमिनेट किया. अखिलेश ने स्वच्छता अभियान पर चुप्पी साध ली. यूपी में सफाई की यह लहर कानपुर पहुंची तो मुस्लिम महिलाओं ने झाड़ू उठाकर क्षेत्र की सफाई शुरू की, लेकिन धर्म के ठेकेदारों ने इस पर आपत्ति जता दी. कुछ युवकों ने महिलाओं का विरोध किया, जबकि धर्मगुरुओं ने युवकों की ही निंदा की.

symbolic image symbolic image

बीते दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी गए तो गंगा घाट की सफाई की. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को सफाई करने के लिए नॉमिनेट किया. अखिलेश ने स्वच्छता अभियान पर चुप्पी साध ली. यूपी में सफाई की यह लहर कानपुर पहुंची तो मुस्लिम महिलाओं ने झाड़ू उठाकर क्षेत्र की सफाई शुरू की, लेकिन धर्म के ठेकेदारों ने इस पर आपत्ति जता दी. कुछ युवकों ने महिलाओं का विरोध किया, जबकि धर्मगुरुओं ने युवकों की निंदा की.

जानकारी के मुताबिक, कानपुर के ढकनापुरवा क्षेत्र में करीब एक दर्जन से ज्यादा मुस्लिम महिलाओं ने रविवार को सफाई अभियान की शुरुआत की. महिलाओं ने जैसे ही झाड़ू थामा, स्थानीय युवकों ने विरोध शुरू कर दिया. युवकों का कहना था कि उन्हें सफाई अभि‍यान से परेशानी नहीं है, लेकिन यह सब बुर्का पहनकर नहीं किया जाना चाहिए. यही नहीं, युवकों ने आरोप लगाया कि बुर्का ओढ़े ये महिलाएं मुस्लि‍म नहीं बल्कि‍ हिंदु समुदाय से ताल्लुक रखती हैं.

सफाई अभियान में शामिल एक महिला ने बताया कि उनके समुदाय के ही कुछ युवकों ने अभियान को गलत ठहराया. महिला ने कहा, 'लोगों ने हमसे कहा कि अगर हम ये सब काम करती हैं तो हम मुस्लिम नहीं बल्कि हिंदू हैं.' वह आगे कहती हैं, 'जब देश को साफ रखने के लिए प्रधानमंत्री झाड़ू उठा सकते हैं तो क्या हम मोहल्ले को भी साफ नहीं कर सकते.'

काजी और शि‍या धर्मगुरु ने की तारीफ
बुर्के पर उठे विवाद पर शहर के काजी ने कहा कि बुर्का मुस्लिम महिलाओं का पर्दा है. अगर वह बुर्का पहनकर सफाई अभियान में जुटी हैं तो शरीयत के मुताबिक इसमें कोई गलत बात नहीं है बल्कि खुशी है कि उन्होंने परदे में रहकर अभियान को शुरू किया है. शिया धर्मगुरु कल्बे जव्वाद ने भी महिलाओं को सही बताते हुए मुस्लिम युवकों के बयान की निंदा की. उन्होंने कहा, 'यह तो हदीस में भी लिखा हुआ है कि मोहल्ले और घर के आसपास साफ-सफाई करनी चाहिए. महिलाओं द्वारा सफाई अभियान में शामिल होने को मुद्दा नहीं बनाना चाहिए. यह एक अच्छा काम है.

बीजेपी ने की निंदा
पूरे मामले पर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने भी बयान दिया. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी की कार्यपद्धति सवा सौ करोड़ भारतीयों को साथ लेकर चलने वाली है. उन्होंने स्वच्छता मिशन की शुरुआत किसी धर्म जाति के लिए नहीं बल्कि देश की भलाई के लिए शुरू किया है. ऐसे में इसका विरोध करने वाले युवकों की मानसिकता और निष्ठा साफ झलकती है. वाजपेयी ने महिलाओं से अपील की कि वह डरे नहीं बीजेपी उनके साथ है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें