scorecardresearch
 

सीएम योगी ने रखा 75 सीटें जीतने का लक्ष्य, कहा- यूपी में सड़कों पर नहीं होगी नमाज

यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में जीत दर्ज करने के बाद BJP प्रदेश कार्यसमिति की पहली बैठक हुई है. इस बैठक में लोकसभा चुनाव 2024 की तैयारी शुरू कर देने की बात कही गई है. सीएम योगी ने पार्टी के लिए लक्ष्य भी निर्धारित कर दिया है.

X
BJP की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में CM Yogi BJP की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में CM Yogi
स्टोरी हाइलाइट्स
  • लखनऊ में बीजेपी प्रदेश कार्यसमिति की बैठक
  • लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर लक्ष्य निर्धारित
  • सीएम योगी ने बोले, तैयारी अभी से शुरू

उत्तर प्रदेश बीजेपी कार्यसमिति की बैठक में सीएम योगी ने लोकसभा चुनाव 2024 में 75 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है. सीएम योगी ने कहा कि यूपी में अब नमाज सड़कों पर नहीं, मस्जिद या ईदगाह...उनके धार्मिक स्थलों में होगी. यूपी के मुख्यमंत्री ने कहा कि अयोध्या में भव्य मंदिर का निर्माण शुरू होने के बाद काशी विश्वनाथ धाम का निर्माण हुआ और अब एक लाख श्रद्धालु हर दिन आ रहे हैं.  2024 के चुनाव की भावभूमि अभी से तैयार करनी होगी. हमें अभी से 2024 के लिए तैयारी करनी होगी.

बैठक में पार्टी पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा, 'हमें साल 2024 के चुनाव के लिए जमीन अभी से तैयार करनी होगी. हमें 75 सीटों का लक्ष्य लेकर आगे बढ़ना चाहिए.' बैठक में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने मोदी सरकार के 8 साल पूरे होने पर केंद्र के नेताओं पीएम मोदी,अमित शाह और जेपी नड्डा को बधाई दी.

यूपी में की सत्ता में लगातार दूसरी बार सरकार बनाने के बाद बीजेपी प्रदेश कार्यसमिति की यह पहली बैठक थी. इसमें लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखकर कई तरह के प्रस्ताव के पास किए गए हैं. जिसमें योगी सरकार के पिछले कामकाज, संस्कृति और पर्यटन के क्षेत्र में काम, युवाओं को रोजगार, महिला सशक्तिकरण, कानून व्यवस्था, गरीबों के कल्याण, आत्मनिर्भरता और प्रदेश में ढांचागत विकास के कामों का जिक्र किया गया है.

गौरतलब 2019 के चुनाव में बीजेपी ने 62 सीटें जीती थीं जबकि उसकी सहयोगी पार्टी अपना दल के खाते में 2 सीटें आई थीं. केंद्र में साल 2014 और 2019 के लोकसभा चुनावों मोदी सरकार के बनने में यूपी का बड़ा योगदान रहा है. इसलिए बीजेपी की पूरी कोशिश है कि यूपी मे ंकिसी भी स्थिति में उसकी पकड़ मजूबत रहनी चाहिए. हालांकि 2014 में बीजेपी के पास यूपी में कोई बड़ा चेहरा नहीं था. लेकिन साल 2017 में सीएम बनने के बाद पार्टी को योगी आदित्यनाथ एक सख्त प्रशासक और हिंदुत्व के जनाधार वाले नेता के तौर पर उभरे हैं. पार्टी को इसका फायदा भी लोकसभा चुनाव 2019 और हाल ही में हुए यूपी विधानसभा चुनाव में मिला है. और अब उनकी सबसे बड़ी चुनौती लोकसभा चुनाव 2024 में पार्टी के जनाधार को बनाए रखना है.

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें