scorecardresearch
 

लखनऊ: रिवर बैंक कॉलोनी में ही रहेंगी आजम खान की बहन, घर का आवंटन नहीं होगा रद्द

निकहत अफलाक के खिलाफ रामपुर निवासी मुस्तफा हुसैन ने शिकायत की थी कि उन्हें जो मकान नगर निगम द्वारा आवंटित किया गया था, उसमें निकहत अफलाक अब नहीं रहती हैं. इस कारण उनका आवंटन रद्द किया जाए.

नोटिस का जवाब देतीं आजम खान की बहन नोटिस का जवाब देतीं आजम खान की बहन
स्टोरी हाइलाइट्स
  • रामपुर निवासी मुस्तफा हुसैन ने की शिकायत
  • घर का आवंटन रद्द करने की उठाई थी मांग
  • घर में उनके नहीं रहने का दिया था हवाला

लखनऊ में समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान की बहन निकहत अफलाक को उनके घर पर न रहने के लिए नगर निगम ने मकान का आवंटन रद्द करने का नोटिस घर पर चिपकाया है. इसके जवाब में आजम खान की बहन ने कहा है कि वे घर में रहती हैं और उनका घर का आवंटन रद्द करना गलत है. नगर निगम ने फैसला लिया है कि उनके मकान का आवंटन निरस्त नहीं किया जाएगा क्योंकि वे अभी अपने घर में रहती हैं. 

जानकारी के मुताबिक, निकहत अफलाक के खिलाफ रामपुर निवासी मुस्तफा हुसैन ने शिकायत की थी कि उन्हें जो मकान नगर निगम द्वारा आवंटित किया गया था, उसमें निकहत अफलाक अब नहीं रहती हैं. इस कारण उनका आवंटन रद्द किया जाए. इसके बाद लखनऊ के रिवर बैंक कॉलोनी में स्थित निकहत अफलाक के घर के बाहर नगर निगम द्वारा नोटिस चस्पा कर दिया गया था. इसमें कहा गया था कि आवंटित किए गए मकान में आप नहीं रह रही हैं तो क्यों न मकान का आवंटन रद्द कर दिया जाए. 

निकहत अफलाक के मुताबिक, कुछ लोगों की शिकायत पर मुझे नगर निगम द्वारा नोटिस दिया गया था जिसका जवाब मैंने दिया था. फिर नगर निगम की टीम यहां पर जांच-पड़ताल करने के लिए आई थी. मैंने नगर निगम की टीम को अपना स्टेटमेंट लिखित तौर पर दिया है. जांच पड़ताल के बाद नगर निगम की टीम भी संतुष्ट थी. इसके अलावा मेरा कोई और घर नहीं है, यही मेरा घर है और मैं यही रहती हूं. निखत ने कहा, मेरी उम्र ज्यादा है और मैं बीमार भी रहती हूं. अभी  इस मकान का आवंटन मेरे नाम है और मैं इसी मकान में रहूंगी.

नगर निगम की अपर नगर आयुक्त अर्चना द्विवेदी के अनुसार, नगर निगम की टीम को उनके (निकहत अफलाक) घर पर ताला लगा पाया गया था जिसके बाद उनको नोटिस दिया गया था. निर्धारित समय में उनके द्वारा नोटिस का जवाब दाखिल कर दिया गया है. उन्होंने बताया है कि वे अपने रिश्तेदार के यहां गई थीं जहां वे बीमार थीं लेकिन अब अपने घर लौट आई हैं. निरीक्षण में पाया गया कि वे अपने घर में रहती हैं इसलिए मकान का आवंटन निरस्त करने का कोई औचित्य नहीं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें